समर्थक/Followers

बुधवार, 9 मई 2018

तासीर


सिमटना ,सिसकना फ़ितरत बना देती 
मोहब्बत तासीर है ,अल्फाज़  भुला देती 

- अनीता सैनी 

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

आदरणीय/आदरणीया, स्नेहिल प्रतिक्रिया के लिये आपका हार्दिक धन्यवाद,