समर्थक/Followers

मंगलवार, 31 जुलाई 2018

अकिंचन ...

समय  की  मार  से,
अपनों  के  प्रहार  ने,
कुछ   देने  की  चाह,
भविष्य  की  मुस्कान  ने,
नोच  लिया  आज,        
कल के  ताक़  पर।

आज  के बाशिंदे,   
कल समय के  गुलाम,
खुश  रखने  की  चाह ने,
नोच   लिया  बचपन ।
  
दिखावे   की  मार  ने,
संस्कारों  की  आड़  में,
बचपन  गिरवी   रखा ,
अकिंचन  बना  दिया,
न  जी  सका    आज ,
रही  कल  की  प्यास |

  #अनीता  सैनी 

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

आदरणीय/आदरणीया, स्नेहिल प्रतिक्रिया के लिये आपका हार्दिक धन्यवाद,