समर्थक/Followers

बुधवार, 15 अगस्त 2018

वेदना

                       
समय के साथ बह गयी  ज़िंदगी,                           
ख़ामोश निगाहें ताकती रह गयीं ,                          
किये न उनके क़दमों में सज्दे,                          
हर बार इंतज़ार में रह गयी  |                            

सज्दे  न करेगे  उन की यादों के,                         
अल्फ़ाज़  से यही दुआ करते मिले,                          
टूटे दिल की दरारों में झाँकता,                             
उनकी यादों का कारवाँ  मिला |                          

गुनाहों की सज़ा  हर बार मिले ,                        
हर गुनाह की सजा सौ बार मिले,                      
बिछाये राहों में फूल,                           
काँटों की सौग़ात मिले |                         

इस तल्ख़ ज़माने की ठोकर मिली,                         
हर ठोकर पर मायूसी खिली,                          
सजाते रहे काँटों का ताज,                             
इल्म ये रहा,                           
मुस्कुराते रहे लव,                              
दिल तड़पते मिले |                              

# अनीता सैनी                                 

8 टिप्‍पणियां:

  1. गुनाहों की सजा हर बार मिले
    हर गुनाह की सजा सौ बार मिले
    बिछाये राहों में फूल
    काँटों की सौग़ात मिले ....,
    हृदयस्पर्शी....,गहरे भाव लिए अनुपम सृजन अनीता जी ।

    उत्तर देंहटाएं
  2. वाह बहुत सुन्दर संवेदना से भरपूर हृदय स्पर्शी सृजन।
    अप्रतिम।

    उत्तर देंहटाएं
  3. दिल को छूती बहुत सुंदर रचना,अनिता दी।

    उत्तर देंहटाएं

आदरणीय/आदरणीया, स्नेहिल प्रतिक्रिया के लिये आपका हार्दिक धन्यवाद,