समर्थक/Followers

गुरुवार, 27 सितंबर 2018

भाल धरा का



प्रीत रंग फैला धरा पर 
हुई मुखरित नेह की छाँव 
रंग-बिरंगी घटाएँ उमड़ीं  
उमड़ रही गगन की प्रीत 
नेह रंग में बरसे बादल 
हुआ धरा का आँचल हरा 
हर रंग में  रंग चुकी 
नेह रंग लगा गहरा 
दुल्हन-सी सजी बैठी 
ओढ़े प्रीत रंग ओढ़नी 
मंद-मंद मुस्काती 
ख़ुशियाँ आँगन महकाती 
हर रंग फ़बता इस पर 
लगे रूप की देवी 
प्रीत रंग फैला धरा पर 
हुई मुखरित प्रीत की छाँव 
सजा आज रंगों का थाल 
जैसे हो धरा का भाल |

- अनीता सैनी 

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

आदरणीय/आदरणीया, स्नेहिल प्रतिक्रिया के लिये आपका हार्दिक धन्यवाद,