समर्थक/Followers

मंगलवार, 2 अक्तूबर 2018

हौसला - मन की शक्ति

भीख का कटोरा न 
मजबूरी की दलील 
न लाचारी का ढिंढोरा 
हौसले  की उड़ान से 
बसर किया जीवन 
स्वाभिमान की पोटली 
रहती थी तन पर
न कहानी न कविता 
न शब्दों में कोई बंद 
जिंदगी आईना रही 
हौसला रहा बुलंद |

-अनीता सैनी

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

आदरणीय/आदरणीया, स्नेहिल प्रतिक्रिया के लिये आपका हार्दिक धन्यवाद,