समर्थक/Followers

बुधवार, 21 नवंबर 2018

एक डाल के दो पँछी....


                         

                         घटायें उमड़ी एक पल जीवन ठहर गया, 
                धरा ने धारण की उसाँस, समय का पहिया ठहर  गया .....

                            सफ़र दोहरा ,दर्द ने डेरा डाल लिया, 
                  जीवन तपती रेत, खुशियों ने दामन छोड़ दिया... .. ..

              थामे रखा उस डाल को, जीवन आसा  बना लिया,
              आँखों में झलक रहा विश्वास,  प्रेम पात   को  पा  लिया..........

                दो पँछी एक डाल के,  दोनों ने जीवन साथ जिया, 
                 प्रेम और विश्वास लिये, अपना जीवन खूब सिया ... .....
    
                 ताना -बाना ऐसा बुना , कर्म का पहिया घूम गया, 
               विश्वास का पँछी  उड़ गया,  प्रेम स्वतः   रूठ  गया....... 
                
      
          .

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

आदरणीय/आदरणीया, स्नेहिल प्रतिक्रिया के लिये आपका हार्दिक धन्यवाद,