समर्थक/Followers

रविवार, 11 नवंबर 2018

दीप प्रेम का


                गर्द  द्वैष  की  छिटकी, कोना मन का महका 
                दीप उम्मीद, बत्ती प्रेम प्रज्वलित, 
                प्रेम पूजा, मानवता का ध्यान किया, 
                साथी बन  घर द्वार, रूप प्रेम का चहका |


                    खुशियाँ   झालर,  मन  के  मोती सज़ा दिये,
              मायूसी को साफ़ किया, इंतज़ार में आँखें टाँग दिये ,
              क्षण के फूल  न्यौछावर ,धड़कन का दीप जला दिया,
              साँसें  सरगंम ,फ़िजा  ने  संगीत गुन गुना दिया |
            

              झुम  उठी  ख़ामोशी,  हवाओं  ने संदेश   दिया ,
                चौखट  ने  दीदार  किया,  आँगन  ने  रुप  श्रृंगार,  
              कोना -कोना  बतिया  उठा,  गुम  हुई  ख़ामोशी, 
              खुशियाँ   चौखट  पार उतरी , प्रेम दीप जलायें  |

                                         -अनीता सैनी 

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

आदरणीय/आदरणीया, स्नेहिल प्रतिक्रिया के लिये आपका हार्दिक धन्यवाद,