समर्थक/Followers

गुरुवार, 22 नवंबर 2018

मिज़ाज रूमानी....

                  
                       ख़ामोशी से गुप्तगूं सह न सका मन, 
                        रिमझिम   बरख़ा   गाये   रिदम ,
                        झोका पवन का हुआ मगन, 
                        बावरी  पवन  का मिज़ाज  रूमानी. .....
       
                      क़दमों  में  घुँघरू , थिरक रहा तन, 
                      तरु  संग  इठलाये, झूम रहा  मन, 
                      आँखों में झलके  प्रेम  की लगन, 
                      बावरी   पवन का मिज़ाज   रूमानी.........

                      भवरों संग  प्रेम  आलाप  में झूमे,
                      महक़ फूलों की , फूलों  संग घूमें ,
                      छुपती छुपाती पिया  को  बुलाती, 
                      बावरी पवन का  मिज़ाज  रूमानी ..........

                      
                      

                   

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

आदरणीय/आदरणीया, स्नेहिल प्रतिक्रिया के लिये आपका हार्दिक धन्यवाद,