समर्थक/Followers

रविवार, 16 दिसंबर 2018

समय समय की बात

  उस समय ...


                                  ठिठुरती   ठंड,  
                                  गर्मी  की  तपन , 
                              हर ऋतु ने आज़माया |

                              हुनर  का बखान  क्या 
                           सभी  में   उत्तीर्ण   पाया  ?

                               मेहनत की कसौटी 
                                राह जीवन की  
                           जिंदगी ने  ख़ूब  रुलाया |

                              दुःखमय  जीवन,
                               न आभास  हुआ 
                      सदियों  से , इससे  बतियाता  आया |

                      पीपल  की छाँव में   बैठा  किसान, 
                           किस  उलझन  में  आया ? 


इस समय......     



                          सत्ता का झोल  समझ न  पाया, 
                                वो  तो  माई  ,बाप  ,
                  वहम का पिटारा पाल रखा, उसने खाई मात  |

                         उम्मीद की लो जलाना सीखो , 
                              कलेज़े  से करते  बात  |

                      दिमाग  का खेल  समझ न पाया, 
                           जज्बातों  का   सरताज़  |

                        पीपल की छाँव में आज भी 
                              सजती चौपाल  ,
                           तीज, त्योहार   , पर  बटती, 
                              खुशियों   की   सौगात | 

                           चोट   ह्रदय  पर  दी  जिसने , 
                               उसने  खाई  मात |

                          बदला   माहौल  सत्ता का ,
                            उगल  रहा  यही  बात  ||






कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

आदरणीय/आदरणीया, स्नेहिल प्रतिक्रिया के लिये आपका हार्दिक धन्यवाद,