समर्थक/Followers

शुक्रवार, 21 दिसंबर 2018

वक़्त



                                      
  एक टक शून्य की ओर ताकती  निगाहें... ..
      सांझ  सी   ढल   रही   जिंदगी, 
     उत्सुकता  से  पूछ  रही  यही  सवाल .....
       कल   फिर   सूर्य   उदय  होगा
            इस   पथ   का   राही 
    किसी  अनजानी   राहों  पर  होगा  ? 


            कभी  अपने   आप  को, 
            कभी  वक़्त  को ताक  रही... ..
            जहन  में  उठ  रहा  सवाल ,
            अंतर  मन  में  मच   रहा  बवाल ,
         वक़्त   का  किया   मैंने   क्या  हाल  ?
जिंदगी के  अंतिम  पड़ाव पर  स्वयं से  कर रही यही  सवाल ||


       लड़खड़ाते क़दम,  सँभलने का करता जतन,  
                 दिशाहीन  जा   रहा,
     मन में मायूसी  ,निगाहों  में  लाखों  सवाल,
         ख़ामोशी  के  लिबास में  अनायास , 
         मुझ  से   रुठ  कर   जा  रहा,
           अपनाया   न   कभी  मैंने ,
       आज   ठुकरा  कर  मुझे  जा  रहा, 
    ख़ामोशियों   में   आवाज़   दिये  जा  रहा, 
                  कुछ  न   कहा !
        चंद   शब्द   गुनगुनाता  जा    रहा ||


     " वक़्त   का   वक़्त  से  रहा  ये  तकाज़ा
    थामें  रखा  जिसने   वक़्त   का   दामन
     वक़्त  रहते   वक़्त  पर  बना  वही   राजा
   आने  वाला  वक़्त  फिर  इतिहास  दोहराएगा
   वर्तमान   को   भविष्य  का   आईना   दिखाएगा "


                         अनीता 

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

आदरणीय/आदरणीया, स्नेहिल प्रतिक्रिया के लिये आपका हार्दिक धन्यवाद,