समर्थक/Followers

शुक्रवार, 11 जनवरी 2019

सब





                                                            

                 स्नेह सहेज, कुमोद  रुप  धर ,
                 व्याकुल व्याधि,  निर्दय  त्रास ,
                 परोपकार धर मनु मस्तिष्क पर 
                 अंचल विश्वास से  प्रेम आमंत्रण दृश्य यही सब ओर.. . 



                दिशा दीप्त, किये  दीप दान, 
               पूर्णय प्रकाश,   रहा  अनादि तम 
              सृष्टि सृजन शिशिकिरण ,सुख - इंगित 
               वृक्ष  लता  में  गूँथे  प्रीत  दृश्य  यही  सब  ओर.. . ... 




              चिर  सृष्टि, अचिर  स्वप्न  गूँथे  ह्रदय  में ,
            प्रतिदिवसावसान  वैभव  जग आधार 
            कुटीर द्वार पर जीवन तरु  पथ अश्रान्त,
    मधुर नूपुर, सुरभि -संसार महक़ रहा जग दृश्य यही सब  ओर. .....
     
                                - अनीता 

2 टिप्‍पणियां:

आदरणीय/आदरणीया, स्नेहिल प्रतिक्रिया के लिये आपका हार्दिक धन्यवाद,