समर्थक/Followers

रविवार, 13 जनवरी 2019

लौट आना

                       
                    



              

                          सैकत  बन  फिसल  रहा
                          धड़कनों  की अँजुली  से 
                          मोहब्बत  में  गूँथा  कल
                           दर्द   में  मुस्कुराता  पल ||
                         


                          मुस्कुराने   की  आदत 
                          ग़मों  को  मात दे  गई , 
                         मुस्कुराती  तस्वीर  तुम्हारी 
                         आँखें  नम  कर   गई  ||


                          
                         इतफ़ाक़   से  लौट  आना 
                        महफ़िल  फिर   सज़ा   देंगे, 
                        क़दमों  के  निशां    उस दर से 
                        अपने  हाथों  से  मिटा  देंगे ||

                                 -अनीता 

4 टिप्‍पणियां:

आदरणीय/आदरणीया, स्नेहिल प्रतिक्रिया के लिये आपका हार्दिक धन्यवाद,