समर्थक/Followers

मंगलवार, 15 जनवरी 2019

स्मृति

                
                 
                  
                


                    
                    उत्सुक वेदना ,  प्रेम   भाव  अभाव
                         वेग ह्रदय  में  चिर - कालिन
                       प्रीत   विमुख,  हुआ  उद्वेग 
                           स्मृति  जड़ता  जीवन की 
                           जड़ में राग  अनुराग
                       ह्रदय में फैला विपुल  भाव 
                        उत्सुक  नयन, ह्रदय हुआ बैचैन 
                         कल्पित   प्रतिमा  प्रिय  की
                         स्मृति  साथी, चिर -काल 
                         कल्पित  सुख, मन  भावन 
                     आकांक्षित  ह्रदय,  साँसे विचलित
                          श्रृंगार  सागर -तरंग 
       स्मृति जड़ता जीवन की चिर - संचित प्रेम भाव अभाव.. .

                      

                                  - अनीता 

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

आदरणीय/आदरणीया, स्नेहिल प्रतिक्रिया के लिये आपका हार्दिक धन्यवाद,