समर्थक/Followers

बुधवार, 16 जनवरी 2019

अली

            
         

                        मन  माही  प्रीत  में  उलझे 
                       ह्रदय  री  बात   बताऊ   रे 
                       मन   बैरी   बौराया  अली 
                       कैसे   इसे   समझाऊ   रे ?


                      पी   मिलन   की  हूक  उठी 
                      सुध   बुध   अपनी  गवाई   रे 
                      महल  अटरिया   सुनी  लागे 
                       कैसे   जी    भहलाऊ  रे  ?

                      सखी - सहेली,   झूला  - झूले 
                      तन  पे   सौलह  श्रृंगार  रे 
                      मैं  विरहिणी,    विरह  सिंचू 
                      जगत   प्रीत   बिसराई     रे 
                     

                      तीज  त्योहार   राह  निहारु 
                     साजन  बसे   किस  देश     रे ?
                     चाँद  चढ़ों   गिगनर    अली 
                     कैसे    अरख   लगाऊ  रे ? 

                                      - अनीता 


5 टिप्‍पणियां:

आदरणीय/आदरणीया, स्नेहिल प्रतिक्रिया के लिये आपका हार्दिक धन्यवाद,