समर्थक/Followers

मंगलवार, 22 जनवरी 2019

कोहरा





                   

           कोहरे  में  ठिठुरती  जिंदगी , मिला  अलाव  का सहारा ,
            कभी   ठंड   के    सायें  ,  कभी   धूप   ने  पुकारा, 

         
               छिटका  द्वेष  का  कोहरा,  प्रीत   का  हुआ  सवेरा, 
           खिली   मोहब्बत   की   धूप   ,दर्द  का  मुस्कुराया    चेहरा, 

          
            जिंदगी की  गर्दिश  ने, हर   चहरे   का  रुप   निखारा,
          किसी  पर सज़ा  दिये आँसू , किसी  को  प्रीत  से  निखारा, 


              उनकी   मोहब्बत   ने   तरासा   वज़ूद    हमारा  , 
         वो  तन्हाइयों   में  छोड़   गए,  हम  ने  महफ़िल  में  पुकारा ,

         
           खिलखिलाती  धूप,  फूलों   की  खुशबू , आसमां   हमारा, 
           कोहरे  ने  समेटी   जिंदगी,   तड़पते  दिल  ने   पुकारा |

                                      - अनीता 

          

16 टिप्‍पणियां:

  1. उनकी मोहब्बत ने तरासा वज़ूद हमारा ,
    वो तन्हाइयों में छोड़ गए, हम ने महफ़िल में पुकारा ,
    बहुत खूब प्रिय अनिता जी -- मौसम के कोहरे के बहाने मन का कोहरा भी साफ हो गया | हार्दिक शुभकामना के साथ बधाई |

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. प्रिय सखी रेणु जी सस्नेह आभार आप का उत्साहवर्धन टिप्णी के लिए
      सादर आभार
      आप को बहुत सा स्नेह |
      सादर

      हटाएं
  2. उनकी मोहब्बत ने तरासा वज़ूद हमारा ,
    वो तन्हाइयों में छोड़ गए, हम ने महफ़िल में पुकारा ,..बहुत ही सुन्दर रचना ।

    उत्तर देंहटाएं
  3. खिलखिलाती धूप, फूलों की खुशबू , आसमां हमारा,
    कोहरे ने समेटी जिंदगी, तड़पते दिल ने पुकारा।
    सुन्दर रचना । बहुत-बहुत बधाई आदरणीय अनीता जी।

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. आदरणीय पुरुषोत्तम जी सह्रदय आभार आप का
      उम्मीद है आप मार्गदर्शन करते रहेंगे
      आभार
      सादर

      हटाएं
  4. उत्तर
    1. सह्रदय आभार आदरणीय रोहिताश जी
      आधार
      सादर

      हटाएं
  5. आपकी लिखी रचना "मित्र मंडली" में लिंक की गई है. https://rakeshkirachanay.blogspot.com/2019/01/106.html पर आप सादर आमंत्रित हैं ....धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. आदरणीय राकेश जी - सह्रदय आभार आप का मित्र मंडली में मुझे स्थान देने हेतु |
      आभार
      सादर

      हटाएं
  6. जिंदगी की गर्दिश ने, हर चहरे का रुप निखारा,
    किसी पर सज़ा दिये आँसू , किसी को प्रीत से निखारा,

    बहुत खूब।

    उत्तर देंहटाएं

आदरणीय/आदरणीया, स्नेहिल प्रतिक्रिया के लिये आपका हार्दिक धन्यवाद,