समर्थक/Followers

गुरुवार, 28 फ़रवरी 2019

द्वेष बना अभिशाप



                       
                                    मोह में  मुग्ध सृष्टि, 
                                शशि संग  अनुराग अनूठा ,
                              हृदय  में  वात्सल्य  भाव उठा, 
                                 दहलीज़  का दामन डोल,  
                               शशि-किरणों का  किया शृंगार  |

                                        नाज़ुक हाथ, 
                             थामें  प्रीत  के  कोमल   तार, 
                             मुग्ध  भाव  से  बिखेर  रही, 
                                  मन  भावों  के तार |

                             प्रीत  रुप   शृंगार  किया, 
                             अधरों  पर मीठी मुस्कान, 
                             कल्पित  कृति   बोल  उठी,  
                             किया मन भावों का शृंगार   |

                                        नाम मानव दिया, 
                              स्नेह, संवेदना प्रवाह  किया, 
                             करुणा  रुप  धर  अँजुली  में, 
                             सोये  हृदय   पर  किया  सवार |

                                      शशि का तेज़, 
                               नीर नयन में तार दिया, 
                                पवन की पीर दबा  हृदय, 
                                प्राणों का  किया  संचार  |

                               द्वेष भाव का ओझल रंग, 
                                मानव मन पर सवार हुआ, 
                              किया  सुन्दर कृति का संहार, 
                               महक  रही प्रीत की बस्ती, 
                               अँगारों  में   दिया  तार   |

                               भूल गया  अस्तित्त्व  अपना,  
                              घटना को दिल में उतार लिया, 
                                मूक  द्वेष के  शब्द  गहरे, 
                                द्वेष  बना  अभिशाप मनु का ,
                                प्रीत  का  दामन हुआ तार-तार |

                                         -  अनीता सैनी 

बुधवार, 27 फ़रवरी 2019

नियति बन महके


                                                        
                   शब्द  मधुर  हों  जनमानस  के, 
                    दिखा  नियति  ऐसा कोई  खेल, 
                   करुण  हृदय  से  सींचे  प्रीत  को, 
                     फूले-फले   प्रीत  की    बेल  |

                      प्रज्वलित  हो  दीप  ज्ञान  का, 
                     साँझ की मधुर निश्छल   छाया  में, 
                      ढुलकता   मोह   मनुज  नयन  से, 
                      बंजर  मानवता  महके   प्रीत   में |

                        सुख-दुःख दोनों कर्म  के  साथी, 
                       श्रम-विश्राम  का उदीप्त यही  खेल, 
                          नीलाअंबर के  निश्छल  नयन से, 
                       गूँथे तारिकाओं  संग श्रम की  बेल |

                       मानवता की मधुर गंध भीगे  प्रीत से,  
                                  भीनी-भीनी  महके,  
                          अनुराग हृदय में नूपुर बन खनके, 
                             रहे  धरा पर  तृप्त  लालसा, 
                                 श्यामा   शृष्टि   महके |

                                         - अनीता सैनी 

मंगलवार, 26 फ़रवरी 2019

अदम्य साहस



                                          

सपूत कोखोकर तिलमिलाया आसमां,आज ख़ुशी के आँसू बहाए ,
ठंडी   हुई  हृदय की  ज्वाला,आज   सुकून   से  रोया |


आँख   का  पानी,दिल  का दर्द  इत्मीनान  से  सोया, 
सेना  का  शौर्य, शहीद  का  कारवां   ख़ुशी  से  मुस्कुराया |


अदम्य  साहस  देख  जवानों  का,आसमां  फिर मिलने  आया ,
सौगांत  में  बरसायीं  बूंदें, तिलक सूर्य  की  किरणों  से करवाया  |
                
                               - अनीता सैनी 

शनिवार, 23 फ़रवरी 2019

स्मृति


                                                 

                     हृदय में करुण  रागिनी, 
                  साँसें  विचलित कर जाती, 
                        मिटे  माटी  के  लाल, 
               क्यों  सुकून  की नींद आ जाती ?

                हाहाकार गूँज  रहा  कण-कण में,  
                       स्मृति   दौड़  आ  जाती, 
                       वेदना  असीम  हृदय  की, 
                      हवाओं से पैगाम लिखवाती|

                      व्यथा व्योम की सुन मानुष,  
                         दामन  में  दर्द  छुपाती, 
                      जला रही  पद चिह्न सपूत के,  
                     करुणा  के  आँसू  बरसाती|

                  चातक-सी वो करुणार्द्र पुकारें
                     हृदय  को आहत कर जातीं 
                      बेसुध-सी  सुप्त  व्यथाएँ 
                        सिसक-सिसककर 
                    क्षितिज पटल पर सो जाती |

                               - अनीता सैनी 

गुरुवार, 21 फ़रवरी 2019

क़रार

                                       

                           गुम  हुआ क़रार, 
                         ज़माने की आबोहवा में, 
                 मुहब्बत की गहराइयों  में, 
                         डूब  गया  ग़म सुकूं  की तलाश  में  |

                         क़रार-ए-जंग  छिड़ी,  
                      मुहब्बत के बाज़ार   में, 
                           सुकूं-ए-तलब, 
                      मिला ग़मों के दरबार   में |

                        दिल  ने  जलाये   चराग़ 
                      मुहब्बत   के    इंतज़ार में 
                 सुकूं  के  दौर  में  क़ुर्बान   हुआ प्यार 
                     दिल-ए-क़रार  के  बाज़ार  में |

               सुकूं  की  चाहत  में  दौड़ा  रही ज़िंदगी  
               फ़लक़-सितारों  से  फ़रियाद  कर  बैठी 
                        मिले   क़रार-ए-ज़िंदगी  
                         यही   ऐतबार   कर  बैठी |

                                      - अनीता सैनी 

बुधवार, 20 फ़रवरी 2019

ज़िंदगी मेरी


                                            
                    वक़्त  का  मरहम, 
           कभी सुना,आज ज़िंदगी  लगा गयी,  
                 ज़माने में थे कभी नक़्श-ए-क़दम , 
              आज यादों की परछाई  बन  गये |

                       मुस्कुराती  ज़िंदगी , 
             अचानक  शहादत का  ख़िताब दिला  गयी,  
                 भाग्य  रहा  यह  मेरा ज़िंदगी, 
                   देश  के  काम  आ गयी |

                       मुहब्बत की  मशाल, 
                आमजन के हाथों में थमा गयी, 
                    द्वेष पनप  रहा  जहां   में, 
                   मुहब्बत  का  पाठ पढ़ा गयी |

                       जला   दिलों  में  चिंगारी, 
                   दीपक  से   मशाल  बना   गयी,  
                      कितनों  की  सोई  आत्मा, 
                    कितनों का ज़मीर  जगा  गयी |


                       मक़ाम  यही  था  मेरा, 
                    शहादत   साथ  निभा  गयी, 
                    कुछ  को  किया  बेनक़ाब,  
                कुछ की  अक़्ल ठिकाने आ  गयी  |

                               - अनीता सैनी 

मंगलवार, 19 फ़रवरी 2019

क्षणिकाएँ



                                              


                                  ||  मति  ||
                                        
                           सागर   में  दरिया  बनाती,  
                            दर्द   में   मीठी   झंकार, 
                          मुखरित   जीवन  पथ  करे,  
                            यही   मति   का  प्यार |

                         लाचारी   को  दूर  भगाये,  
                        गुनगुनाये  जोशीले  गीत, 
                 हृदय  में  पनपाये   उत्साह  के  बीज, 
                      मानव   मस्तिष्क  की भीत |


                                ||करुणा ||
                                     
                          कर्म    पथ   को  सींचती, 
                           सुख  वैभव   परित्याग, 
                         पत्थर   से   भी   प्रीत  करे, 
                        करुणा  हृदय  का  अनुराग |

                         मानवता  का  अदृश्य  गहना, 
                          शब्दों   में   प्रीत  आलाप, 
                           नयनों  में  बैठी  मुस्काए, 
                          मानव   हृदय   का  विलाप |


                                    ||  प्रीत ||
                                            
                         मति करुणा  का  अनूठा  संगम, 
                             मानव   मन   का  उद्धार, 
                          खोज  रहा  घट - घट  हृदय में,  
                            बैठी   मानव   मन   के  द्वार |

                          मानव   ने  दामन  छोड़  दिया, 
                       क्रोध   हुआ,  हृदय  पर   सवार, 
                           तृष्णा  ने  डेरा  डाल  दिया, 
                          प्रीत  से   हुआ   दुर्व्यवहार  |

                               -  अनीता सैनी 

शनिवार, 16 फ़रवरी 2019

बोलता ताबूत



                     

         अमन  का  पैगाम,लहू  से  लिख  दिया,        
        दिए  जो  ज़ख़्म, सीने  में  छुपा   दिया |


       मोहब्बत  का  पैगाम,पैगंबर  बना   दिया,
    दर्द में डूबा दिल,एक बार फिर मुस्कुरा दिया |


   शहीद का दर्जा,चोला  भगवा  का पहना  दिया,
खेल  गए वो  राजनीति,मुझे ताबूत में  सुला  दिया | 



   घर  में  बैठे  आंतकी,मुझे  पहरेदार  बना  दिया,
   हाथों   में  थमा   हथियार,लाचार  बना  दिया  |
      
  दीन  हूँ या  हीन,कटघरे  में  खड़ा  कर  दिया,
  खौल रहा   था  ख़ून,मुझे  झेलम में डूबों  दिया |

                           -अनीता सैनी 

गुरुवार, 14 फ़रवरी 2019

पलाश बन खिल जाना


                             सजा  रही जीवन गुलदस्ता,  
                               तुम  प्रीत  फूल ले आना,   
                               मधुवन महके  जीवन का,  
                            तुम पलाश बन खिल जाना |


                              तपन  बहुत है जीवन  की, 
                             तुम  पतझड़  में  मुस्काना,  
                          आँधीं  का झौंका  का आये द्वार पर,  
                         तुम गुलमोहरी  मधुमास  सजाना|


                            गर  मायूसी  के  मोती  पहनूँ, 
                            तुम ख़ुशी  के तराने  गुनगुनाना,  
                            अकेलेपन   के   झौंकों   को, 
                             तुम  पलाश  बन  महकाना|


                             छूट  रहा  अनुराग  जीवन का,  
                               तुम  माया  बन  लौट  आना, 
                               सपना  बन   बिखरी  यादें, 
                             तुम पलाश  बन  खिल जाना|

                                          - अनीता सैनी 

सोमवार, 11 फ़रवरी 2019

सत्य अहिंसा का पुजारी


                                                         
              सत्य-अहिंसा का पुजारी, बना आम  इंसान, 
           हक़ अपना बाँट रहा, सजी  रसूखदारों  की दुकान |

            दरियादिली में  गया  डूब ,ज़िंदगी को गया भूल ,
              महंगाई को सर पर बिठा,दर्द  में गया  झूल |

            मुहब्बत  की  मारामारी,सभी  को  एक  बीमारी, 
          हाथों में सभी के फोन, क्यों अकेलेपन  की  सवारी ?

           सोच-समझ में उलझा, दिन-रात गोते लगा रहा ,
           चक्रव्यूह  बनी ज़िदगी,ताना-बाना  बुन  रहा |

          आँखों  पर   पट्टी  प्रीत  की,  शब्द  मधुर  बरसाये, 
          मोह  रहे   शब्द  नेताओं  के,प्रीत  में  जनता  सोये |

             एक तबका दर्द  में  डूबा रहा,नेता फूल बरसा रहे, 
           मीठी-मीठी  बातों  से,पेट  की  आग बुझा  रहे |

                             -  अनीता सैनी 

शनिवार, 9 फ़रवरी 2019

नज़र-नज़र का खेल


                                        
   ज़िंदगी  को  परखती   नज़र, नज़रिया  बन  गयी,  
   कहीं   चढ़ी  परवान, कहीं   धूल  में  मिला  गयी  |

   मुस्कुराती  नज़रें, दिल  में  वफ़ा  के फूल   खिला गयी  ,
    झुक  गयी   गर  वो  नज़रें , बेरुख़ी   का  सबब  बन  गयी|

     मासूम दिल की नज़रें,  कर  रही तग़ाफ़ुल  का  गिला, 
    मिली  इस  जहाँ की नज़रों  से,तड़पकर ख़ाक हो गयी |

     हुक़ुमत  दिल  पर  वो  राज -ए -उल्फ़त  छिपाए  रहे,
     डगमगा  गए  क़दम  ज़ब  नज़रों  से  बात  हो  गयी  |
        
  नज़रों पर चढ़ा  पैमाना  दिल  का, ज़िंदगी  का रुख़  बदल गया,       पत्थर  पर बरसा रहे मुहब्बत,इंसानियत मुहब्बत  को तरस गयी|

   कुछ स्वार्थ से क़दम मिलाती, कुछ अहम के परवान चढ़ गयी ,
    कुछ  संवार रही  धरा को, कुछ बंजर बना गयी|

   नज़र से उपजा नज़रिया, नज़रों  को ग़ुमराह कर गया ,
  एक नज़र तलाश रही अपने, एक अपनों को ठुकरा गयी|

                                    - अनीता सैनी 

बुधवार, 6 फ़रवरी 2019

यादों का झौंका

                 

                          

                                   

                     यादों के झौंके  संग 
                  मंद-मंद मुस्कुराती,आसमां को 
                        एक   टक  निहारती   
                       अतीत  के  पन्नों   को 
                        विचारों  की  कंघी  से 
                        धीरे-धीरे कुरेदती   
                        किन्हीं  ख़्याल में गुम  
                       वजुद  तलाशने  लगी 
                          कभी  तन्हा  रही 
                        आज सोई उम्मीद 
                     फिर  डग  भरने  लगी 
                       थामे  रहती  अँगुली 
                      लड़खड़ाते  थे  क़दम 
                   वो आज सहारा बनने लगा 
                     मुद्दतों  बाद  मुस्कुराई 
                      एक सुकून की साँस 
                  दामन में खिलखिलाने लगी, 
                       घनघोर  अंधरे  में 
                      रफ़्ता-रफ़्ता  महकी 
                     मेहनत  रंग भरने  लगी  
                     गुरुर  से धड़कता सीना 
                   उसके  कंधे  मेरे  कंधों को 
                     लाँघकर  जाने  लगे  
                     नम   हुई  आँखें  आज 
                 वात्सल्य  भाव  से मुस्कुराने लगी |

                          - अनीता सैनी     

मंगलवार, 5 फ़रवरी 2019

क्षणिकाएँ


          



                                   || जुनून  ||

                               नाजुक़ हथेली, 
                                सपनों की इमारत,   
                                   जुनून  कहुँ , 
                            मंज़िल को पाने की चाहत |


                                ||   आहट ||

                              दौड़ रही ज़िंदगी, 
                              क़दमों की हुई न  आहट, 
                                कहने को सभी अपने, 
                           अपनेपन की हुई न  सरसराहट |


                                ||   अहाता ||

                          शब्दों  का  मौन   अहाता, 
                             सभी  का  एक  ही  दाम, 
                         सतरंगी  बचपन, धूल  से  सना, 
                              मोहब्बत  का   पैग़ाम |
    

                                   ||   प्रेम ||

                           मूक  सफ़र  का  राही 
                          नज़रों  में मोहब्बत का पैगाम 
                             आशिक़ों  की तपिश में  
                             सुलगता  सुबह - शाम |

                      
                                   || नदी ||

                         हर इंतहान  से  गुज़रती 
                           एकधार  में  अविरल  बहती 
                              सागर चाहत  का लक्ष्य 
                                पाने को मिट जाती |


                                    - अनीता सैनी  
       
        
                 
               

शुक्रवार, 1 फ़रवरी 2019

यादों के निशां






             वक़्त की दरियादिली, यादों की आहट छोड़ गया 
          दम तोड़ती मुस्कुराहट, इंतज़ार के  पन्ने  छोड़  गया |

          ज़हन में दफ़्न यादें,साँसों  की   गर्माहट   छोड़   गया 
          कुछ दरीचे में दफ़न, कुछ बिस्तर की सलवटों  में छोड़ गया  |

           पुकारती   आँखें,  कँगन    की  झँकार  छोड़  गया 
          यादों  की  गठरी, बिस्तर  के  सिरहाने  छोड़ गया 

             क़दमों  के  निशां,  तड़पती   परछाई   छोड़  गया
         अनगिनत   यादें,  आँगन  की   दहलीज़ पर  छोड़  गया |

            मुस्कुराती  मोहब्बत, सिसकती   यादें  छोड़  गया
           आँख  का  पानी,  बीतें  लम्हों की सौगत छोड़ गया |

           ज़िंदगी  की  कहानी,  कुछ  लम्हों  में  समेट  गया 
          यादों  की  परछाई, पलकों पर सजा  गया |

           उदास    शाम,   यादों   भरा   दामन  छोड़  गया 
         उम्मीद की अँगुली, वक़्त के बोलते ज़ख़्म  छोड़ गया |

                                   -  अनीता