समर्थक/Followers

सोमवार, 11 फ़रवरी 2019

सत्य अहिंसा का पुजारी




                                                         
              सत्य  अहिंसा का पुजारी, बना आम  इंसान, 
           हक अपना बाँट रहा , सजी  रसूखदारों  की दुकान |

            दरियादिली में  डूब गया  ,  जिंदगी को गया भूल ,
              महंगाई को सर पर बिठा,  दर्द  में रहा झूल |

            मोहब्बत  की  मारामारी,  सभी  को  एक  बीमारी, 
          हाथों में सभी के फोन, क्यों अकेलेपन  की  सवारी ?

           सोच समझ में उलझा, दिन - रात गोते लगा रहा ,
           चक्रव्यूह  बनी जिंदगी,   ताना - बाना  बुन  रहा |

          आँखों  पर   पट्टी  प्रीत  की,  शब्द  मधुर  बरसाये, 
          मोह  रहे   शब्द  नेताओं  के,  प्रीत  में  जनता  सोये |

             एक तबका दर्द  में  डूबा रहा,   नेता फूल बरसा रहे, 
           मीठी - मीठी  बातों  से , पेट  की  आग बुझा  रहे |

                             -  अनीता सैनी 

43 टिप्‍पणियां:

  1. यथार्थ पर सुन्दर व्यंग्यात्मक रचना ।

    उत्तर देंहटाएं
  2. यथार्थ जीवन सजीव चित्रण
    सुंदर रचना

    उत्तर देंहटाएं
  3. आम इन्सान तो नेताओं से ठगे जाने और उन से अपना खून चुसवाने के लिए पैदा हुआ है. यही उसकी नियति है.

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. सह्रदय आभार आदरणीय | बहुत ख़ुशी हुई आप की टिप्णी मिली |
      क्या यह नियति कभी नहीं बदलेगी ?
      देख कर लग रहा है हम विनाश की और अग्रसर हो रहे है |
      सादर

      हटाएं
  4. आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा कल बुधवार (13-02-2019) को "आलिंगन उपहार" (चर्चा अंक-3246) पर भी होगी।
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. सह्रदय आभार आदरणीय चर्चा में स्थान देने के लिए |
      सादर

      हटाएं




  5. आपकी लिखी रचना आज "पांच लिंकों का आनन्द में" बुधवार 13 फरवरी 2019 को साझा की गई है......... http://halchalwith5links.blogspot.in/ पर आप भी आइएगा....धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. सह्रदय आभार आदरणीया पम्मी जी
      पांच लिंकों का आनन्द में मुझे स्थान देने के लिए |
      सादर

      हटाएं
  6. सोच समझ में उलझा, दिन - रात गोते लगा रहा ,
    चक्रव्यूह बनी जिंदगी, ताना - बाना बुन रहा |
    बहुत खूब ।

    उत्तर देंहटाएं
  7. सत्य वचन बेहद सार्थक सृजन अनीता जी..👌👌

    उत्तर देंहटाएं
  8. वाह धार दार यथार्थ ।
    सार्थक रचना सखी।

    उत्तर देंहटाएं
  9. एक तबका दर्द में डूबा रहा, नेता फूल बरसा रहे,
    मीठी - मीठी बातों से , पेट की आग बुझा रहे |
    सटीक प्रस्तुति....
    बहुत ही लाजवाब।

    उत्तर देंहटाएं
  10. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  11. जनता की कमियों एवं पीड़ा को व्यक्त करती सुन्दर रचना.

    उत्तर देंहटाएं
  12. हर शब्द अपनी दास्ताँ बयां कर रहा है आगे कुछ कहने की गुंजाईश ही कहाँ है बधाई स्वीकारें

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. शुभ प्रभात आदरणीय 🙏🙏
      उत्साहवर्धन टिप्णी के लिए, तहे दिल से आभार आप का |
      सादर

      हटाएं

आदरणीय/आदरणीया, स्नेहिल प्रतिक्रिया के लिये आपका हार्दिक धन्यवाद,