समर्थक/Followers

मंगलवार, 26 फ़रवरी 2019

अदम्य साहस



                                          

पूत को  खो  कर तिलमिलाया आसमां,आज  ख़ुशी  के आँसू  बहाए ,
ठण्डी    हुई    ह्रदय  की  ज्वाला,   आज   सुकून   से  रोया |


आँख   का  पानी,   दिल  का   दर्द   इत्मीनान  से  सोया, 
सेना  का  शौर्य , शहीद  का  कारवा  ख़ुशी  से  मुस्कुराया |



अदम्य  साहस  देख  जवानों  का,  आसमां  मिलने  आया ,
सौगात   में  बरसाई   बूंदें, तिलक सूर्य  की  किरणों  से करवाया  |
                
                               - अनीता सैनी 

20 टिप्‍पणियां:

  1. आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा कल बुधवार (27-02-2019) को "बैरी के घर में किया सेनाओं ने वार" (चर्चा अंक-3260) पर भी होगी।
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. सह्रदय आभार आदरणीय चर्चा में मुझे स्थान देने के लिए |
      सादर

      हटाएं
  2. भारतीय सेना और भारत माता की जय

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. पीठ पर किया वार, आज मुँह की खाई
      देख सेना का शौर्य,लाहौर में आग जलाई | जय हिंद
      सादर

      हटाएं
  3. जय हिन्द !! उत्तम अभिव्यक्ति ।

    उत्तर देंहटाएं
  4. भारत माँ के वीर पवन पुत्रों की शान में सुहाने बोल सखी | वाह और सिर्फ वाह !
    जय माँ भारती , जय माँ के वीर सपूत !!!!!!!!!!! जय हिन्द -- जय हिन्द की सेना |

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. जय हिंद | नमन हिंद के वीर जवानों को |
      प्रिय सखी आप भी बधाई | आज जयपुर का मौसम भी कुछ यही बया कर रहा था |
      सादर

      हटाएं
  5. अति उत्तम जी स्वागत आदरणीय

    उत्तर देंहटाएं
  6. बहुत खूब...... सखी ,जय हिन्द -जय हिन्द की सेना

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. प्रिय सखी कामिनी जी स्नेह आभार आप का
      जय हिंद ,जय भारत
      सादर

      हटाएं

आदरणीय/आदरणीया, स्नेहिल प्रतिक्रिया के लिये आपका हार्दिक धन्यवाद,