समर्थक/Followers

शनिवार, 9 फ़रवरी 2019

नज़र - नज़र का खेल


                                        
   जिंदगी  को  परखती   नज़र  ,   नजरिया  बन  गई , 
   कहीं   चढ़ी  परवान, कहीं   धूल  में  मिला  गई |

   मुस्कुराती  नजरें, दिल  में  वफ़ा  के फूल   खिला गई ,
    झुक  गई  गर  वो  नजरें , बेरुखी  का  सबब  बन  गई |

     मासूम दिल की नज़रें,  कर  रही तग़ाफ़ुल  का  गिला, 
    मिली  इस  जहाँ की नज़रों  से, तङप कर ख़ाक हो गई |

     हुकूमत  दिल  पर  वो  राज -ए -उल्फ़त  छुपाए  रहे,
     डगमगा  गए  क़दम  ज़ब  नज़रों  से  बात  हो  गई |
        
  नज़रों पर चढ़ा  पैमाना  दिल  का, जिंदगी का रुख़  बदल गया,       पत्थर  पर बरसा रहे महोब्बत,इंसानियत मोहब्बत  को तरस गई |

   कुछ स्वार्थ से क़दम मिलाती, कुछ अहम के परवान चढ़ गई  ,
    कुछ  संवार रही  धरा को,  कुछ बंजर बना गई  |

   नज़र से उपजा नजरिया, नज़रों  को ग़ुमराह कर गया ,
  एक नज़र तलाश रही अपने, एक अपनों को ठुकरा गई |

                                    - अनीता सैनी 

36 टिप्‍पणियां:

  1. नज़रों पर चढ़ा पैमाना दिल का, जिंदगी का रुख़ बदल गया, पत्थर पर बरसा रहे महोब्बत, इंसानियत वफ़ा को तरस गई |


    वाह अति सुंदर।

    उत्तर देंहटाएं
  2. नज़र से उपजा नजरिया, नज़रों को ग़ुमराह कर गया ,
    एक नज़र तलाश रही अपने, एक अपनों को ठुकरा गई |
    अति सुंदर....... सखी

    उत्तर देंहटाएं
  3. नज़र से उपजा नजरिया, नज़रों को ग़ुमराह कर गया ,
    एक नज़र तलाश रही अपने, एक अपनों को ठुकरा गई |
    .
    उत्तम रचना मैम

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. आदरणीय अमित जी - ह्रदय तल से आभार आप का उत्साहवर्धन के लिए |
      सादर

      हटाएं
  4. आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा कल सोमवार (11-02-2019) को "खेतों ने परिधान बसन्ती पहना है" (चर्चा अंक-3244) पर भी होगी।
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    बसन्त पंचमी की
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    उत्तर देंहटाएं
  5. जी नमस्ते,
    आपकी लिखी रचना हमारे सोमवारीय विशेषांक
    ११ फरवरी २०१९ के लिए साझा की गयी है
    पांच लिंकों का आनंद पर...
    आप भी सादर आमंत्रित हैं...धन्यवाद।

    उत्तर देंहटाएं
  6. बहुत ही सुन्दर नजर और नजरिया...
    लाजवाब..

    उत्तर देंहटाएं
  7. नज़रों के अलग अंदाज़ को बाखूबी लिखा है ... नज़र से देखने की जरूरत है इसे ...

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. तहे दिल से आभार आदरणीय दिगम्बर जी |आप ने टिप्णी से रचना का गौरव बढ़ाया |
      आभार
      सादर

      हटाएं
  8. वाह बहुत खूबसूरती से फलसफा ए नजर बयां किया आपने सखी सुंदर रचना।
    फेसबुक पर ज्वॉइन करें।

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. आदरणीया सखी कुसुम जी - बहुत अच्छा लगा, आप की उत्साहवर्धन टिप्णी से |
      आभार
      सादर

      हटाएं
  9. उत्तर
    1. आदरणीया पम्मी जी - सह्रदय आभार सखी |
      सादर

      हटाएं
  10. बहुत सुंदर रचना अनिता दी।

    उत्तर देंहटाएं
  11. बहुत ही खूबसूरत अल्फाजों में पिरोया है आपने इसे... बेहतरीन

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. आदरणीय संजय जी सह्रदय आभार आप का |
      सादर

      हटाएं

आदरणीय/आदरणीया, स्नेहिल प्रतिक्रिया के लिये आपका हार्दिक धन्यवाद,