समर्थक/Followers

मंगलवार, 2 अप्रैल 2019

शुष्क मरु की तपती काया

                                                                      
               शुष्क  मरु की  तपती काया 
                  झुलसा तन तलाशे  छाया 
                        आओ प्रिय !
                          प्रीत  संग 
                  भाव - सरिताएं  उलीचें

                     सुन्दर   फूल   नहीं 
                    जंगली   घास  उगाएं 
                  तपती  देह कराहता मरु 
                       मुस्कुराते छाले 
                       आओ  प्रिय !
           शुष्क मरु पर भाव सरिताएं उलीचें 

              सावनी - मनुहार भरे  सांसों  में
                   विश्वास दबा मुट्ठीयों  में
                    प्रेम के मधुर गीत सींचे 
                         शुष्क मरु पर 
                     भाव सरिताएं  उलीचें 

                  हृदय करुणा झलकें आखों  में  
                   शीतलता का  भाव  तलाशें 
                                प्रिय !  
                      निशा का साथ सुहाना
                     अनमनी सी ठहरी तन पर
                      मौन  प्रेम के  लगे पहरे 
                      मुखर मधुर  स्वप्न  सुनहरे
                             आओ प्रिय !
                        प्रीत पल  कर  धारण 
                         तब नयनों को मीचें
                              प्रीत  संग 
                        भाव - सरिताएं उलीचें |

                              - अनीता सैनी 

27 टिप्‍पणियां:

  1. प्रिय अनीता--प्रेम को आतुर हिय का मधुर मनुहार !! !! सरस ,सरल, सुंदर रचना जो बहुत मनभावन है। सस्नेह शुभकामनाएं और बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत सुंदर प्रस्तुति बहना भावों का बहता संगम मरुस्थल में स्नेह सरिता वाह¡¡

    उत्तर देंहटाएं
  3. वाहह्हह.. सहज मनभावनी प्रिय संग प्रेम गीत का हार...बहुत प्यारी रचना प्रिय अनीता।

    उत्तर देंहटाएं
  4. सावनी - मनुहार भरे सांसों में
    विश्वास दबा मुट्ठीयों में
    प्रेम के मधुर गीत सींचे
    शुष्क मरु पर
    भाव सरिताएं उलीचें
    बहुत सुन्दर ,सार्थक भावाभिव्यक्ति...
    वाह!!!

    उत्तर देंहटाएं
  5. उत्तर
    1. प्रिय अनुराधा बहन तहे दिल से आभार आप का
      सादर

      हटाएं
  6. शुष्क मरु की तपती काया
    झुलसा तन तलाशे छाया
    आओ प्रिय
    प्रीत संग
    भाव - सरिताएं उलीचें......,
    अप्रतिम सृजन अनीता जी ।

    उत्तर देंहटाएं
  7. आपकी लिखी रचना "पांच लिंकों का आनन्द में" गुरूवार 4 अप्रैल 2019 को साझा की गई है......... पाँच लिंकों का आनन्द पर आप भी आइएगा....धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं

  8. शुष्क मरु की तपती काया
    झुलसा तन तलाशे छाया
    आओ प्रिय !
    प्रेम की खूबसूरत मनुहार. वाह 👏 👏

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. प्रिय सुधा बहन तहे दिल से आभार आप का
      सादर

      हटाएं
  9. निशा का साथ सुहाना
    अनमनी सी ठहरी तन पर
    मौन प्रेम के लगे पहरे
    मुखर मधुर स्वप्न सुनहरे
    आओ प्रिय !
    बहुत सुंदर रचना।



    उत्तर देंहटाएं
  10. बहुत सुंदर मनुहार !
    विशेष पंक्ति -
    आओ प्रिय ! भाव सरिताएँ उलीचें !

    उत्तर देंहटाएं
  11. अनुपम औ अद्वितीय चिंतन चित्रण अविस्मरणीय है।
    🙏 👏 🙏

    उत्तर देंहटाएं
  12. उत्तर
    1. तहे दिल से आभार आदरणीय
      सादर

      हटाएं

    2. जी नमस्ते,

      आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल शनिवार (6-04-2019) को " नवसंवत्सर की हार्दिक शुभकामनाएं " (चर्चा अंक-3297) पर भी होगी।

      --

      चर्चा मंच पर पूरी पोस्ट अक्सर नहीं दी जाती है बल्कि आपकी पोस्ट का लिंक या लिंक के साथ पोस्ट का महत्वपूर्ण अंश दिया जाता है।

      जिससे कि पाठक उत्सुकता के साथ आपके ब्लॉग पर आपकी पूरी पोस्ट पढ़ने के लिए जाये।

      ....

      अनीता सैनी

      हटाएं

आदरणीय/आदरणीया, स्नेहिल प्रतिक्रिया के लिये आपका हार्दिक धन्यवाद,