समर्थक/Followers

बुधवार, 3 अप्रैल 2019

मन वीणा यूँ बजी आज


                                  

                      फैला उम्मीद का दामन 
                      मन  वीणा  यूँ  बजी  आज 
                उमंग  के   साज  सजे   दिशाओं  में
                      पिया  के  रंग  में   रंगी  आज 
                  
                        सजा  आँखों  में  सूरमा 
                       ओढ़   चुनरियाँ    लाल 
                       नेह   प्रीत   में  खो जाऊँ 
                  फ़िर   बन   जाऊँ    दुल्हन  आज  

                        रीती रिवाज़ का पहन  चोला 
                      मंद  - मंद   मुस्काऊँ  आज   
                         वक़्त की डोरी खोलूँ  हाथों से 
                       फ़िर  सजाऊँ  जीवन का  साज 

                            बाट  तुम्हारी   जोहती 
                        बेचैन हृदय में  छिपाये  राज 
                        भूल न  जाना  बात  मिलन की 
                             राह   निहारे   गोरी  आज 
    
                                  - अनीता सैनी 

36 टिप्‍पणियां:

  1. आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल शुक्रवार (05-04-2019) को "दिल पर रखकर पत्थर" (चर्चा अंक-3296) पर भी होगी।
    --
    चर्चा मंच पर पूरी पोस्ट नहीं दी जाती है बल्कि आपकी पोस्ट का लिंक या लिंक के साथ पोस्ट का महत्वपूर्ण अंश दिया जाता है।
    जिससे कि पाठक उत्सुकता के साथ आपके ब्लॉग पर आपकी पूरी पोस्ट पढ़ने के लिए जाये।
    --
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. सहृदय आभार आदरणीय चर्चा में मुझे स्थान देने के लिए
      सादर

      हटाएं
  2. ओहह्होओ... बहुत बहुत सुंदर प्रिय अनीता👌👌👌
    बहुत सुंदर रचना👍👍
    पिया मिलन की आस में गोरी रह-रह झाँके द्वार
    सुखद स्मृति पट खोले सोचे कब आयेंगे मेरे प्यार

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. प्रिय श्वेता बहन तहे दिल से आभार आप का उत्साहवर्धन के लिए 🌷🌷🌷🌷
      सादर

      हटाएं
  3. उत्तर
    1. प्रिय अनुराधा बहन तहे दिल से आभार आप का
      सादर

      हटाएं
  4. ब्लॉग बुलेटिन की दिनांक 04/04/2019 की बुलेटिन, " चल यार धक्का मार , बंद है मोटर कार - ब्लॉग बुलेटिन “ , में आप की पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. सहृदय आभार आदरणीय ब्लॉग बुलेटिन में मुझे स्थान देने के लिए
      सादर

      हटाएं
  5. बाट तुम्हारी जोहती
    बेचैन हृदय में छिपाये राज
    भूल न जाना बात मिलन की
    राह निहारे गोरी आज
    मिलन के पलों की मधुरता को संजोती मधुर रचना प्रिय अनीता | शब्द शब्द नेह रस झरता प्रतीत हो रहा है | सुंदर चित्र रचना की शोभा बढ़ा रहा है | ये जोड़ी और प्रेम अक्षुण और अटल हो |मेरी दुआ और कामना | हार्दिक प्यार के साथ |

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. प्रिय रेणु दी तहे दिल से आभार आप का
      सादर

      हटाएं
  6. बहुत सुंदर रूमानी रचना

    उत्तर देंहटाएं
  7. आपके मन की वीणा सदैव बजती रहे। शुभकामनाएं व आशीष ।

    उत्तर देंहटाएं
  8. बेहद खूबसूरत रचना अनीता जी । हार्दिक शुभकामनाएं ।सस्नेह ।

    उत्तर देंहटाएं
  9. अनीता जी, सुंदर भावपूर्ण रचना के लिए आपको बधाई। सादर।

    उत्तर देंहटाएं
  10. वाह..क्या बात है
    बहुत सुंंदर।

    उत्तर देंहटाएं

आदरणीय/आदरणीया, स्नेहिल प्रतिक्रिया के लिये आपका हार्दिक धन्यवाद,