समर्थक/Followers

शुक्रवार, 24 मई 2019

गलीचा अपनेपन का


                                         
                                                                                            
क्यों न हम बिछा  दें
एक ग़लीचा  अपनेपन का  
प्रखर धूप में 
जलते अशांत चित पर 
स्नेह, करूणा  और बंधुत्व  का 

अपनेपन के रंगों  में  रंगा 
मख़मली  एहसासों से सजा 
मनभावन ग़लीचा 
सजाये  मन  के  द्वार  पर 

किसी प्रिय के लिए   ही क्यों 
सभी को प्रिय बनाने के लिए 
 कुछ पल के लिये   ही क्यों 
 हर पल के लिये 

न भावों को दौड़ाएँ 
न उम्मीद की गठरी रखें 

ग़लीचा  पैरों पर  या 
पैर ग़लीचे पर .... 
ख़यालों  में नहीं इत्मिनान से चले 

गलत-फ़हमी की जमीं  धूल 
वक़्त -बे - वक़्त  झाड़ ले  
न  जमे  द्वेष 
द्वेष  के  एहसास को मिटा दें  


वक़्त  की तेज़ धूप में उड़ जाता  
 रंग ग़लीचे का 
 समेट  देती हैं  जरूरतें 
ग़लीचे के मख़मली  एहसास को

 रखें  ख़याल 
हृदय में बिछे  बंधुत्व  के ग़लीचे का 
 क्यों  पनाह  दें   चापलूस  चूहों  को 
 क्यों  उड़ने  दें  रंग  अपनेपन का .......

 - अनीता सैनी 

32 टिप्‍पणियां:

  1. प्रिय अनीता अपनेपन के उद्दात भावों की नयी परिभाषा गढ़ती रचना के लिए तुम्हे दाद देतीं हूँ। गलीचे के बहाने से आपसी प्रेम और सौहार्द की ये कल्पना अद्भुत है। रचना के स्नेहिल भाव बहुत प्रेरक हैं और हरजनसुखाय की भावना से ओत _प्रोत् हैं। ढेरों शुभकामनायें आत्मीयता के मखमली एहसासो से लबरेज़ रचना के लिए। साथ में मेरा प्यार।

    उत्तर देंहटाएं
  2. क्यों न हम बिछा दें
    एक गलीचा अपनेपन का
    प्रखर धूप में
    जलते अशांत चित पर
    स्नेह, करूणा और बंधुत्व का ....,
    बहुत सुन्दर भावों से सम्पन्न अत्यन्त सुन्दर सृजन अनीता जी । सस्नेह .....

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. प्रिय सखी मीना जी तहे दिल से आभार आप का
      सादर स्नेह

      हटाएं
  3. वक्त की तेज़ धूप में उड़ जाता
    रंग ग़लीचे का
    समेट देती है जरूरतें
    ग़लीचे के मखमली एहसास को.....वाह! बहुत सुंदर!!!

    उत्तर देंहटाएं
  4. गलतफ़हमी की जमी धूल
    वक्त वे वक्त झाड़ ले
    न जमे द्वेष
    द्वेष के एहसास को मिटा दें.... बहुत ही बेहतरीन रचना सखी

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. तहे दिल से आभार प्रिय सखी अनुराधा जी
      सादर स्नेह

      हटाएं
  5. व्यक्ति में सकारात्मक विचारों की पौध रोपना दीर्घकालिक दुष्कर कार्य है। रचना का सन्देश समसामयिक है।

    उत्तर देंहटाएं
  6. ऐसे अपऩेपन के गलीचे सभी के पास हो तो दुनिया कितनी सुंदर हो जाए. बहुत प्यारी रचना अनिता जी 👌👌

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. प्रिय सखी सुधा जी सस्नेह आभार आप का
      सादर

      हटाएं
  7. बेहतरीन काव्य है अनिता बहन शुभ्र भावों से सुशोभित साथ ही सुंदर काव्य धारा।
    अतिसुन्दर।

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. सस्नेह आभार प्रिय कुसुम दी जी
      सादर स्नेह

      हटाएं
  8. वाह अनीता जी अपनेपन का गलीचा
    मखमली एहसासों से सजा मनभावन गलीचा
    आज के युग को प्रेरित करती रचना

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. तहे दिल से आभार प्रिय रितु दी
      सादर स्नेह

      हटाएं
  9. वाह!!प्रिय सखी ,बहुत खूबसूरत ,अपनेपन का गलीचा !!👌👌नमन आपकी लेखनी को 🙏

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. प्रिय शुभा दी जी सस्नेह आभार आप का
      सादर स्नेह

      हटाएं
  10. आपकी लिखी रचना "पांच लिंकों का आनन्द में" सोमवार 27 मई 2019 को साझा की गई है......... पाँच लिंकों का आनन्द पर आप भी आइएगा....धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. प्रिय यशोदा दी जी हमक़दम में स्थान देने के लिए सहृदय आभार आप का
      सादर

      हटाएं
  11. उत्तर
    1. तहे दिल से आभार प्रिय पम्मी दी जी
      सादर स्नेह

      हटाएं
  12. मीत यदि कोई संग हो, तो घास के हरे ग़लीचे भी अपनापन लिये होते हैं।
    बहुत सुंदर रचना।
    प्रणाम।

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. सही कहा शशि भाई
      सहृदय आभार आप का
      सादर

      हटाएं
  13. किसी प्रिय के लिए ही क्यों
    सभी को प्रिय बनाने के लिए
    कुछ पल के लिये ही क्यों
    हर पल के लिये

    बहुत सुंदर ...भाव लिए आप का ये गलीचा मनमोह गया ,सखी.

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. प्रिय कामिनी दी जी तहे दिल से आभार आप का
      सादर स्नेह

      हटाएं
  14. गलत-फ़हमी की जमीं धूल
    वक़्त -बे - वक़्त झाड़ ले
    न जमे द्वेष
    द्वेष के एहसास को मिटा दें
    बहुत ही सुन्दर भाव , उत्तम विचारों से सजी लाजवाब भावाभिव्यक्ति...
    वाह!!!

    उत्तर देंहटाएं

आदरणीय/आदरणीया, स्नेहिल प्रतिक्रिया के लिये आपका हार्दिक धन्यवाद,