समर्थक/Followers

शुक्रवार, 28 जून 2019

मैं कर्कश संसार में जीना चाहती थी

                   
                                                      
फैला ममता का दामन ,
धर रूप  स्नेह  का,
वात्सल्य भाव  से  बरसना,
संघर्ष  सजा ललाट पर ,
मैं कर्कश संसार  में  जीना चाहती थी |

करोगे  कब तक जीना दुश्वार, 
जो दोष नहीं था मेरा 
 करोगे  कब तक उससे  श्रृंगार,
 मर-मरकर जीने  की राह  चुन,
 मैं कर्कश  संसार में जीना चाहती थी |

जब-जब लगी चाहत से गले ज़िंदगी,
तब-तब अँकुरित हुई कुबुद्धि समाज में, 
गूँथी अनचाहे अपशब्दों की सतत श्रृंखला ,
कर कंठ पर धारण, मैं  कर्कश संसार में जीना चाहती थी |

भावों का विकार सहज सरल,
निर्मल मन को द्रवितकर कुंठा से किया मलिन,
जग ने कह मनोरोगी  किया तिरस्कार,
सब्र टूटा कब मेरा,प्रवाह उम्मीद लिये 
मैं कर्कश  संसार  में  जीना चाहती थी |

अंतर्मन में जग ने जलाया पल-पल ,
क्रोध से भरा अवमानना का दीप,
वक़्त ने  किया  ग़ुमराह,
भाग्य  ने जकड़ी मोम-सी मासूम साँसें, 
मैं कर्कश  संसार में  जीना चाहती थी |

 न  बढ़ाया  मौत  ने  क़दम, 
किया अग्रसर  मेरे अपनों  ने 
नैराश्य  की  पूड़ी  खिला  सानिध्य में, 
भावुक मन अबला का साँसों  से खेल गया, 
मैं  कर्कश  संसार  में  जीना चाहती थी |

                   - अनीता सैनी 



19 टिप्‍पणियां:

  1. न बढ़ाया मौत ने क़दम,
    किया अग्रसर मेरे अपनों ने
    नैराश्य की पूड़ी खिला सानिध्य में,
    भावुक मन अबला का साँसों से खेल गया,
    मैं कर्कश संसार में जीना चाहती थी |
    बहुत सुंदर रचना,अनिता दी।

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. सस्नेह आभार ज्योति प्रिय बहन
      सादर स्नेह

      हटाएं
  2. एक ऐसी अभिव्यक्ति जो एक सत्य घटना पर आधारित स्त्री की मनोदशा का अव्यक्त पहलू समाज के सामने रखती है.
    हत्या और आत्महत्या का मिश्रित रूप लिये यह ख़बर सारा दोष स्त्री पर मढ़ती है किन्तु इस रचना में स्त्री-विमर्श से जुड़े अनेक सवालों को समाज के समक्ष खड़ा किया गया है ताकि ऐसी घटनाओं की पुनरावृत्ति न होने पर सामाजिक बहस अपना सफ़र तय करे.
    दर्दभरी मर्मस्पर्शी अभिव्यक्ति हमें सोचने पर विवश करती है.

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. सहृदय आभार आदरणीय 🙏)
      आप ने रचना का मूल उद्देश्य समझा और बहुत ही सुन्दर समीक्षा की आप के विचारों ने बहुत ही प्रभवित किया | ख़बर के मुताबित सारा दोष स्त्री पर मढ़ दिया परन्तु उसे यहाँ तक पहुँचने वाला कौन था ? क्या कोई औरत पैदाइशी
      मनोरोगी होती है? समाज में पनप रही ऐसी गतिविधियों पर बहस होनी ही चाहिये और गहन कारवाही भी उन अदृश्य हाथों को काटना चाहिये जो एक औरत यह क़दम उठाने पर विवश करते है |यह घटना कोई आम घटना नहीं है सोचते हुये रूह कांप जाती है|
      तहे दिल से आभार आप का आप ने स्त्री की मनःस्थति को समझा |
      प्रणाम
      सादर

      हटाएं
  3. अंतर्मन में जग ने जलाया पल-पल ,
    क्रोध से भरा अवमानना का दीप,
    वक़्त ने किया ग़ुमराह,
    भाग्य ने जकड़ी मोम-सी मासूम साँसें,
    मैं कर्कश संसार में जीना चाहती थी |स्त्री की दशा का बहुत ही मार्मिक चित्रण किया आपने सखी

    उत्तर देंहटाएं
  4. भावों का विकार सहज सरल,
    निर्मल मन को द्रवितकर कुंठा से किया मलिन,
    जग ने कह मनोरोगी किया तिरस्कार,
    सब्र टूटा कब मेरा,प्रवाह उम्मीद लिये
    मैं कर्कश संसार में जीना चाहती थी |
    बहुत ही हृदयस्पर्शी रचना...बहुत लाजवाब...

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. तहे दिल से आभार प्रिय सखी आप का,आप ने हमेशा मेरा
      उत्साहवर्धन किया है |
      सस्नेह आभार
      सादर

      हटाएं
  5. बहुत ही हृदयस्पर्शी रचना प्रिय सखी ..।असहाय नारी का मन खोल कर रख दिया आपने ।

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. सस्नेह आभार प्रिय सखी परन्तु आज समाज ऐसी घटनाओं को बख़ूबी अंजाम दे रहा है| अगर आज हम सचेत नहीं हुये ..समाज दलदल में समा जाएगा |
      सादर स्नेह बहना

      हटाएं
  6. आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा कल सोमवार (01-07-2019) को " हम तुम्हें हाल-ए-दिल सुनाएँगे" (चर्चा अंक- 3383) पर भी होगी।
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. सहृदय आभार आदरणीय चर्चा मंच पर मेरी रचना को स्थान देने के लिए
      प्रणाम
      सादर

      हटाएं
  7. पुरे समाज को कठघरे में खड़ा करती है ये रचना जो दिख रहा है और जो सच है उसमें बहुत फर्क है ऊपरी तौर पर आत्म हत्या दिखने वाली इस घटना की नीव काफी फहले से पड़ गई, रोज रोज के ताने और पुत्र की चाह जो कुंठा बन आत्महत्या की राह दिखाती है... हत्या का पुराना सड़यंत्र।
    बहुत विचारणीय प्रस्तुति।

    उत्तर देंहटाएं
  8. मुश्किलों के साथ जीने की ललक ... समाज के ज़ुल्म्प्न को सहते हुए इस समाज को आइना दिखाना ... सच के करीब लिखी रचना ...

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

      हटाएं
    2. तहे दिल से आभार आदरणीय उत्साहवर्धन समीक्षा हेतु
      प्रणाम
      सादर

      हटाएं
  9. उत्तर
    1. बहुत बहुत शुक्रिया आप का आदरणीय
      प्रणाम
      सादर

      हटाएं

आदरणीय/आदरणीया, स्नेहिल प्रतिक्रिया के लिये आपका हार्दिक धन्यवाद,