समर्थक/Followers

मंगलवार, 16 जुलाई 2019

श्री गुरुवै नमः



आशा का दीपक जला, गुरु का करना ध्यान।
तब ही होगी ज्ञान की, राह बहुत आसान।।
--
कठिन राह में जो हमें, चलना दे सिखलाय।
गुरु की भक्ति से यहाँ, सब सम्भव हो जाय।।
--
गुरु की महिमा का करें, कैसे शब्द बखान।
जाकर के गुरुधाम में, मिलता हमको ज्ञान।।
--
मन की कोटर में रखो, हरदम गुरु का रूप।
गूँगे को मिलते जहाँ, शब्द-रूप अनुरूप।। 
--
गुरु की अनुकम्पा अदृश, करो गुरू का मान।
आगे बढ़ने के  लिए, सीख गुरू से ज्ञान।।

 - अनीता सैनी

20 टिप्‍पणियां:

  1. आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा कल बुधवार (17-07-2019) को "गुरुसत्ता को याद" (चर्चा अंक- 3399) पर भी होगी।
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    गुरु पूर्णिमा की
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. सहृदय आभार आदरणीय चर्चा मंच पर स्थान देने के लिए
      प्रणाम
      सादर

      हटाएं
  2. वाह! गुरु की महिमा का प्रभावी बखान.

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. सहृदय आभार सर| आप को गुरुपूर्णिमा की अनंत शुभकामनाएँ
      प्रणाम
      सादर

      हटाएं
  3. वाह वाह वाह शानदार प्रस्तुति

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. शुक्रिया सर |आप को गुरुपूर्णिमा की अनंत शुभकामनाएँ
      प्रणाम
      सादर

      हटाएं
  4. बहुत सुंदर प्रस्तुति सखी

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. सस्नेह आभार बहना |
      आप को गुरुपूर्णिमा की अनंत शुभकामनाएँ
      सादर

      हटाएं
  5. अति सराहनीय मैम। तस्मै श्री गुरवे नमः।

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. शुक्रिया सर |आप को गुरुपूर्णिमा की अनंत शुभकामनाएँ
      प्रणाम
      सादर

      हटाएं
  6. वाह!!सखी ,बहुत खूबसूरत गुरू महिमा गान !

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. शुक्रिया प्रिय शुभा दी जी
      सादर स्नेह

      हटाएं
  7. बहुत सुंदर सृजन गुरु की महत्ता पर बहुत श्रृदा युक्त काव्य ।
    अप्रतिम रचना ।

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. शुक्रिया प्रिय कुसुम दी जी
      सादर स्नेह

      हटाएं
  8. उत्तर
    1. तहे दिल से आभार प्रिय रितु दी जी
      सादर स्नेह

      हटाएं
  9. प्रिय अनीता -- बहुत ही सार्थक दोहे गुरुदेव के लिए , जिनमें तुम्हारी प्रखर प्रतिभा बखूबी नजर आ रही है | सस्नेह शुभकामनायें |

    उत्तर देंहटाएं

आदरणीय/आदरणीया, स्नेहिल प्रतिक्रिया के लिये आपका हार्दिक धन्यवाद,