गुरुवार, 10 मई 2018

तासीर


सिमटना ,सिसकना फ़ितरत बना देती 
मोहब्बत तासीर है ,अल्फाज़  भुला देती 

- अनीता सैनी 

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

anitasaini.poetry@gmail.com