समर्थक/Followers

सोमवार, 15 अक्तूबर 2018

रुह की रानी

                                                     
उमंगित मन
चंचल  क़दम
रुहानी मुस्कान
शब्द सरस  संलग्न
कर कमर  इतराते
शिकायत  जमीं  पर

मनमोही मासूम
झिलमिल अदा
मंद-मंद  मुस्काना
इठलाता  यौवन
एक नज़र नज़राना
नज़रों का चुराना

मोह  रही  मन
दिलकश  लजाना
खनक  रहे  गुमान  के  घुँघरु
लहरा रही   गुरुर की  चोटी
घर नहीं,  देश   संवार  रही
हर  घर  से  उठा  रही  कचरा
ख़ामोश  रुह  की    रानी |

          - अनीता सैनी 

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें