शनिवार, 24 नवंबर 2018

नौजवान मेरे देश का

                        
  
                                      



                         मोहब्बत  मासूम,
दर्द ख़ंजर कहलाता ,

            न तौल तेरी मासूमियत को,
हर किसी के नसीब में ऐसा  दर्द नहीं होता। 

                माँ के आँचल  की छाँव से महरुम, 
माँ की हिफ़ाज़त तू   करता, 
                न कर दिल कमज़ोर, 
फ़ौलाद से टकराये ऐसा हुनर तू रखता |



                घर की चौखट को मंदिर ,
माँ-बाप में भगवान को तलाशता 

                      प्रेम ही पूजा ,
मानवता का  ध्यान  तू धरता |
             
                शिकवा और  शिकायत  का पिटारा न  खोलता, 
             हर  बार मुस्कुराते हुए विदा करो,
यही बात तू कहता|



                  कुछ दर्द सीने में दफ़्न,  
कुछ  अश्कों में  बहा देता, 

                      माँ  की हिफ़ाज़त  में शीश अपना कटा देता |



                 दौलत न शोहरत का मोहताज़, 
वतन का रखवाला कहलाता, 

                    हर  माँ    के  नसीब  में  ऐसा  बेटा   नहीं  होता |



                                              -अनीता सैनी 

                 
            

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

anitasaini.poetry@gmail.com