शुक्रवार, 30 नवंबर 2018

अन्नदाता


                           गुरुर धधक रहा सीने  में ,
                         पगड़ी पहन स्वाभिमान की, 
                            अंगारों पर चलता हूँ  |


                             आग़ोश  में मोहब्बत , 

                          आँचल में उम्मीद समेटे, 
                       निश्छल नित्य आगमन करता हूँ|


                           ख़ुशियों का मोहताज़ नहीं ,

                              ग़मों  से बातें  करता 
                            फ़सलों संग इठलाता  हूँ  |


                        सूरज-चाँद-सितारे,साथी  मेरे ,

                                जीवन  के  राग
                            मोहब्बत  का  गान  सुनता  हूँ |


                            मेहनत  करना काम मेरा, 

                             मेहनत  ही  रहा  ईमान  मेरा 
                            मेहनत की रोटी खाता हूँ  |


                                आन-बान-शान, 

                              मान जीवन के साथी 
                             सीने से इन्हें लगाता, 
                                   किसान   हूँ, 
                             अन्नदाता  कहलाता हूँ |
                           

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

anitasaini.poetry@gmail.com