गुरुवार, 22 नवंबर 2018

मिज़ाज रूमानी....

         
         
                       ख़ामोशी से गुफ़्तुगू सह न सका मन, 
                        रिमझिम   बरखा   गाये   रिदम ,
                        झौका पवन का हुआ मगन, 
                        बावरी पवन का मिज़ाज रूमानी, 
       
                      क़दमों  में  घुँघरू , थिरक रहा तन, 
                      तरु  संग  इठलाये, झूम रहा  मन, 
                      आँखों में झलके  प्रेम  की लगन, 
                      बावरी पवन का मिज़ाज रूमानी, 


                      भवरों संग  प्रेम  आलाप  में झूमे,

                      महक  फूलों की , फूलों  संग घूमे,
                      छिपती-छिपाती पिया  को  बुलाती, 
                      बावरी पवन का  मिज़ाज  रूमानी  |


                               # अनीता सैनी                        

                      

                   

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

anitasaini.poetry@gmail.com