बुधवार, 28 नवंबर 2018

चाँद ! तुम सो रहे हो ?

                                                      
                         ठिठुर रही  ज़िंदगी 
                          सड़क किनारे मानव, 
                          मन बेहाल  रहा !


                            ओस  की  बूँदें, 

                           झुँझला रही ज़िंदगी 
                             हवा का झौंका, 
                         हठ के ताव लगा रहा  !


                           सूरज निकले,

                             रात ढले, 
                          इसी इंतज़ार  में मन, 
                          अलाव जला रहा !


                        ठिठुरन जानी-पहचानी, 

                         वक़्त की रही  बेमानी, 
                        सुलग रही आग पेट की, 
                        क़िस्मत से हार न मानी, 
                    सड़क किनारे ज़िदगियों का, 
                             यही हाल रहा !


                               #अनीता सैनी 


2 टिप्‍पणियां:

anitasaini.poetry@gmail.com