बुधवार, 28 नवंबर 2018

चाँद ! तुम सो रहे हो ?

                                                      
                         ठिठुर रही  ज़िंदगी 
                          सड़क किनारे मानव, 
                          मन बेहाल  रहा !


                            ओस  की  बूँदें, 

                           झुँझला रही ज़िंदगी 
                             हवा का झौंका, 
                         हठ के ताव लगा रहा  !


                           सूरज निकले,

                             रात ढले, 
                          इसी इंतज़ार  में मन, 
                          अलाव जला रहा !


                        ठिठुरन जानी-पहचानी, 

                         वक़्त की रही  बेमानी, 
                        सुलग रही आग पेट की, 
                        क़िस्मत से हार न मानी, 
                    सड़क किनारे ज़िदगियों का, 
                             यही हाल रहा !


                               #अनीता सैनी 


5 टिप्‍पणियां:

  1. सुंदर रचना, चिन्तन पूर्ण। शुभकामनाएं ।

    जवाब देंहटाएं
  2. आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा कल बुधवार (04-11-2020) को   "चाँद ! तुम सो रहे हो ? "  (चर्चा अंक- 3875)   पर भी होगी। 
    -- 
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है। 
    -- 
    सुहागिनों के पर्व करवाचौथ की
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।  
    सादर...! 
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक' 
    --

    जवाब देंहटाएं
  3. आदरणीया अनिता सैनी जी, नमस्ते👏! बहुत भावपूर्ण रचना। ये पँक्तियां अच्छी हैं:
    सुलग रही आग पेट की,
    क़िस्मत से हार न मानी,
    --ब्रजेन्द्रनाथ

    जवाब देंहटाएं

anitasaini.poetry@gmail.com