समर्थक/Followers

गुरुवार, 29 नवंबर 2018

आवाज़ मन की


                                    सुलग रहा यादों का जंगल, 

                                       तन्हा और बेजान, 

                                  आवाज़ उर में धड़क रही,

                                       बन मीठा-सा गान, 

                                  ह्रदय प्रीत में  सुलग रहा, 

                                   सुमरुँ  पिया का नाम ,

                               नीर नयन  का  सूख  गया, 

                                 बन  मीठी   मुस्कान,  

                                लौट आएँगे  माही  मेरे, 

                                  मन  में था यही भान, 

                             पदचिह्नों  को दिल से लगाया, 

                                 बन  बैठे  श्रीराम, 

                              सीता उसकी राह तके, 

                               रुठ  गये   मेरे  राम  ,

                              मन बैरी बौराया  माही, 

                               धड़कन  हुई   बेचैन, 

                              वहम से नाता जोड़ रही, 

                                मूक वेदना की यही तान, 

                                लौट आयेंगे  माही  मेरे, 

                                 मन में था यही  गान, 

                              प्रीत में उलझी मन की डोरी, 

                                  हाथ  हुए  बेजान ,

                               यादें  उर में  सुलग  रहीं ,

                                 तन्हा और बेजान, 

                              माही मेरे  मन  में  बैठे, 

                              पुकारुँ   मैं   दिन-रैन,

                              लौट  आयेंगे  माही मेरे, 

                              मन  में था यही  गुमान |

                                      # अनीता सैनी  
                            
   
                  
                                

x

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें