समर्थक/Followers

शुक्रवार, 16 नवंबर 2018

कही-अनकही बातें


         
                                  ताक  रही  निगाहें, सुख अंबर  बरसायेगा ,
                            मेहनत  करेगा कौन जब मुफ़्त में खाना मिल जायेगा  ? 
                       
                                ठिठुर  रही  ज़िंदगी, धूप का आलम आयेगा ,   
                                दुबक  रहे  घरों  में, चराग़ कौन जलायेगा ? 

                                ख़ामोशी मात दे जायेगी, हाथ मलते रह जायेंगे ,
                                एक बार फिर वही, ग़लती दोहराते रह  जायेंगे  |
         
                                 वक़्त  की  मारा-मारी,नेताओं  की  होशियारी, 
                                  दिखा रहे खेल अपना,  सबकी   साझेदारी  |
             
                           जनमानस का हाल बुरा , ज़िंदगी  में  कोहरा  छा गया,
                              उम्मीद की लौ ,चुनावों  का  आलम  छा गया |

                                                  -अनीता सैनी 
           
                 

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें