शुक्रवार, 14 दिसंबर 2018

ऋतुराज शिशिर


                                                                                            
निशा   निश्छल   मुस्कुराये  प्रीत  से, 
विदा    हुई   जब   भोर   से। 


तन्मय   आँचल   फैलाये   प्रीत का , 
पवन  के   हल्के   झौकों    से। 


कोयल    ने   मीठी    कूक  भरी, 
जब   निशा   मिली   थी   भोर   से। 


ऊषा     स्नेह    में    डूब    गई, 
जब   बरसी   बदरी   धूर   की। 


 प्रीत   धरा    की   मुग्ध   हुई ,
कुसुमों   ने   ताज  सजाया   है। 


गूँज    रही   पायल   प्रीत   की , 
शिशिर    के   नंगे    पाँव   की। 


सिहर    उठा   जनमानस   भी ,
शिशिर    की   शीतल    छाँव   से। 

              #अनीता सैनी 

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

anitasaini.poetry@gmail.com