मंगलवार, 25 दिसंबर 2018

व्यथा



                                                
    धरा  ने    धैर्य   रुप  धरा,
      सह    रही    असीम   पीड़ा ,
    मानव  का  मनमाना  राज्य ,
  निरकुंशता  की   नग्न  क्रीड़ा, 
         उत्पीड़न   राज्य   चहु ओर,  
         क्रूर   बन   बैठा   शूर, 
   दफ़्न   कोख   में, 
जला  रहे   काया  , 
 तड़पता मन,
 द्वेष की दावाग्नि,
 ध्वस्त हो  रहा अस्तित्त्व  , 
ह्रदय   में   अतृप्त   व्यथाएँ, 
        देख ! मानव  धरा  पर    बेटी   की   छाया। 

        पल -पल   अस्तित्त्व   जता  रहीं ,
 नारी   की   करुण   कथाएँ ,
      परिपाटी   से  किया   सरोबार, 
 मानव  मुख  मोड़,
     देह नारी  की  रहा  झकझोर,
     हृदय   के  दुःख  का   क्षोभ  त्यागकर, 
       नित्य   बढ़  रही  किस  ओर 
  धरा  निवेदित   नारी  से 
  " सहते   रहना,  कुछ  न  कहना 
        लौट  धरा पर,  फिर  नहीं   आना "

         # अनीता सैनी 


कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

anitasaini.poetry@gmail.com