बुधवार, 12 दिसंबर 2018

शहादत को सलाम


                                                
                       क़दमों  से  गूँजे  कण -कण 
                         इठलाता  स्वाभिमान। 

                        सीने   में  धड़कन  बन 

                       धड़क  रहा   हिंदुस्तान। 

                         हवाओं  ने  गुनगुनाया 

                         शौर्य   का  गुणगान। 

                         सरहद  पर  दहाड़  रहा 

                          हिंद  का   नौजवान। 
                       
                      अंतिम साँस  तक  अटल रहा
                          देश   का    वीर   जवान। 

                         कारतूस  सजे    सीने  पर  

                          इकलौता  माँ  का   लाल। 

                          हिमालय  बैठा  देख रहा

                          लाडले  बेटे  का  कमाल।  
     
                            खड़ा शेर-सा  सीना  तान 
                            भारत  का  वीर   जवान।  

                                 वतन  से  मोहब्बत

                             ज़िंदगी   हिंद   पर  क़ुर्बान। 

                            सजा  मुकुट  शहादत  का ,
                              मुस्कुराये  हर  जवान। 

                         शेर -ए -हिंद  की  दहाड़  से

                            बौखलाया  पाकिस्तान।           

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

anitasaini.poetry@gmail.com