गुरुवार, 18 फ़रवरी 2021

अनमनापन

अनमनेपन का

प्रकृति से अथाह प्रेम

झलकता है 

उसकी आँखों से 

प्रेम में उठतीं  

ज्वार-भाटे की लहरें 

किनारों को अपने होने का 

एहसास दिलाने का प्रयत्न 

बेजोड़पन से करती हैं  

एहसास के छिंटों से 

भिगोती हैं जीवन

जीवनवाटिका में

फूल बनने की अभिलाषा को 

समझकर भी मैं नासमझी की 

डोर से ही खींचती हूँ 

और धीरे-धीरे समझ को 

उसमें डुबो देती हूँ।


उसकी फ़ाइल पेपर की 

उलझन से इतर

अक्षर बनने की लालसा का 

पनपते जाना 

और फिर 

वाक्य बन

समाज को छूकर देखना

कविता बन

हृदय में उतरना 

तो कहानी बन

 आँखों से लुढ़कने की

 अथाह चाह

तो कभी 

उपन्यास के प्रत्येक पहलू को 

घटित होते देखना

उसकी उस लालसा को

 न सींच पाने की पीड़ा

मैं भोगी बन हर दिन जीती हूँ।


@अनीता सैनी 'दीप्ति'

20 टिप्‍पणियां:


  1. सादर नमस्कार,
    आपकी प्रविष्टि् की चर्चा शुक्रवार ( 19-02-2021) को
    "कुनकुनी सी धूप ने भी बात अब मन की कही है।" (चर्चा अंक- 3982)
    पर होगी। आप भी सादर आमंत्रित हैं।
    धन्यवाद.


    "मीना भारद्वाज"

    जवाब देंहटाएं
  2. जी नमस्ते,
    आपकी लिखी रचना शुक्रवार १९ जनवरी २०२१ के लिए साझा की गयी है
    पांच लिंकों का आनंद पर...
    आप भी सादर आमंत्रित हैं।
    सादर
    धन्यवाद।

    जवाब देंहटाएं
  3. बहुत सुंदर प्रस्तुति

    जवाब देंहटाएं
  4. एहसासों से सजी-सँवरी सारगर्भित रचना।

    जवाब देंहटाएं
  5. अंतर्मन को छूती खूबसूरत रचना..

    जवाब देंहटाएं
  6. सुन्दर प्रस्तुति.

    जवाब देंहटाएं
  7. संवेदनाओं से सिंचित अहसास।
    अभिनव अंदाज।
    सुंदर सृजन।

    जवाब देंहटाएं
  8. बहुत सुंदर रचना,अनिता दी।

    जवाब देंहटाएं
  9. बहुत बहुत सुन्दर सराहनीय रचना

    जवाब देंहटाएं
  10. उलझन से इतर

    अक्षर बनने की लालसा का

    पनपते जाने

    और फिर

    वाक्य बन

    समाज को छूकर देखना

    कविता बन

    हृदय में उतरना - - बहुत सुन्दर व अलहदा सृजन।

    जवाब देंहटाएं
  11. घटित होते देखना
    उसकी उस लालसा को
    न सींच पाने की पीड़ा
    मैं भोगी बन हर दिन जीती हूँ।

    मर्मस्पर्शी रचना..🌹🙏🌹

    जवाब देंहटाएं
  12. बेहद सुंदर अभिव्यक्ति प्रिय अनीता

    जवाब देंहटाएं
  13. नासमझी की डोर से खींच कर समझ को डूबो देना ... हृदय में उतर गया । अति सुन्दर भाव एवं कथ्य ।

    जवाब देंहटाएं
  14. तो कभी

    उपन्यास के प्रत्येक पहलू को

    घटित होते देखना

    उसकी उस लालसा को

    न सींच पाने की पीड़ा

    मैं भोगी बन हर दिन जीती हूँ।,,,,,।।बहुत सुंदर रचना !आदरणीया शुभकामनाएँ ।

    जवाब देंहटाएं
  15. बेहतरीन रचना अनिता जी, अद्भुत बधाई हो

    जवाब देंहटाएं
  16. सारगर्भित एवं स्वानुभूत अभिव्यक्ति । अभिनंदन अनीता जी ।

    जवाब देंहटाएं

anitasaini.poetry@gmail.com