समर्थक/Followers

सोमवार, 28 जनवरी 2019

साँझ




                                      धरा  आलिंग़न  में 
                                    धरी  सुनहरी  साँझ,
                                   धूसर  रंगों   में  डूबी 
                                   गुरुर  से  माथा  चुम,

                                  शांत  लय  से  रखती 
                                        पद - चाप, 
                                    प्रीत  में   इतराती 
                                  करती  प्रेम  आलाप,

                                    समीर   शांत  लय
                                        से टकराती  
                                     प्रीत में बरसाती
                                         सुनहरी धूप,

                               मद्धिम  लय  में    छिपी  
                                     आकांक्षा, 
                             दुल्हन सा  माधुर्य  समेटे 
                             श्यामलता में सिमटी 
                            करती  रंगों  की  बौछार,

                                  बेचैनी ह्रदय में समेटे 
                                 जला   प्रीत  का  दीप
                                 ओढ़ी  चुनड़ी  यौवन की 
                                "पी" मिलन  की  आस,

                                  खिन   मन   झुंझलाया 
                                  दौड़  निशा  आई   द्वार |


                                       -  अनीता 

शनिवार, 26 जनवरी 2019

गणतंत्र दिवस एक पर्व




  1. 1. 

                                  खिली   कलियाँ 
                                लहराया   तिरंगा 
                                  गूँजा  आसमां |


               2.              
               
                                 मातृभूमि  की 
                               चाहत का पैग़ाम 
                                 लबों  पे  नाम |

3 .


                                 गूँज  शौर्य  की 
                               गूँजे  चहू   दिशायें 
                                 वीरों  के  नाम   |


4 .
                                 पर्व  आज़ादी
                             झलके  स्वाभिमान 
                                 तिरंगा  जान
   |

5 .

                                गर्वित  देश
                              हूँकारे   राजपथ 
                               शौर्य   के  नाम |

                                   - अनीता सैनी 

गुरुवार, 24 जनवरी 2019

दमन अवसाद का




                 

          अपने  हिस्से  की  ज़िंदगी, मोहब्बत से गूंथने लगे ,    
             दमन  अवसाद  का,  तृष्णा  को  दबाने  लगे  |
        
            ज़िंदगी  की  दौड़  में,  कृत्रिमता  को  ठुकराने  लगे,
         किया क़दमों को मज़बूत ,अस्तित्त्व अपना बताने लगे |

            इंसान  हैं   हम,  इंसान  से  मोहब्बत  करने  लगे, 
              मशीनों  की  मोहब्बत, दोस्ती   ठुकराने  लगे   |

        तन की  थकान, मन के  अवसाद से  निजात पाने लगे , 
             हृदय    का   जुनून ,    चाहत   में    बुनने   लगे  |

                चाहतों  के   दरमियाँ   दायरे  बनने  लगे  ,
            क्यों  घसीटें  मन  को,  इंसानियत  समझने  लगे   ?

            बच्चों   से  मोहब्बत,  प्रतियोगिता  भुलाने  लगे , 
             बनें  नेक   इंसान, ठुकरेस  ठुकराने   लगे  |

          खा  रहे  इस  नश्ल  को,  वो   कीड़े  दफ़नाने  लगे  ,
           कृत्रिमता  को  ठुकरा,   प्रकृति  को  अपनाने  लगे  |


                                - अनीता 

बुधवार, 23 जनवरी 2019

शत-शत नमन



                  
                 
      वतन  पर  मिटने  वाला  भारत  का  सपूत  निराला ,
        हाथों में  शंखनाद, कलेजे   में  धधके  ज्वाला |


       दृढ़प्रतिज्ञ   फौलाद  सा सीना,  आजादी का  करे  आह्वान ,
   "तुम मुझे ख़ून दो मैं तुम्हे आज़ादी..."लबों पर इन्ही शब्दों का गान |



       निर्भीक  निडर  परमवीर,जय हिंद का करता  उद्घोष ,
          युवा  सहृदय   सम्राट, आजादी  का  करता   जयघोष |

                                 - अनीता 

मंगलवार, 22 जनवरी 2019

कोहरा



                   

           कोहरे  में  ठिठुरती  ज़िंदगी , मिला  अलाव  का सहारा ,
            कभी   ठंड   के   साये  में, कभी   धूप   ने  पुकारा |

         
               छिटका  द्वेष  का  कोहरा,  प्रीत   का  हुआ  सवेरा, 
           खिली   मुहब्बत   की   धूप,दर्द  का  मुस्कुराया    चेहरा | 

          
           ज़िंदगी   की  गर्दिश  ने, हर   चेहरे   का  रुप   निखारा,
          किसी  पर सजा  दिये आँसू , किसी  को  प्रीत  से  निखारा |


              उनकी   मुहब्बत    ने   तरासा   वजूद    हमारा  , 
         वो  तन्हाइयों   में  छोड़   गये,  हम  ने  महफ़िल  में  पुकारा |

         
           खिलखिलाती  धूप,  फूलों   की  ख़ुशबू , आसमां   हमारा, 
           कोहरे  ने  समेटी   ज़िंदगी, तड़पते  दिल  ने   पुकारा |

                                      - अनीता सैनी 

          

शनिवार, 19 जनवरी 2019

मानवता

                                 

      अनाज के कुछ दाने पक्षियों के हिस्से  में जाने लगे,
       अपने हिस्से की एक रोटी लोग गाय को खिलाने लगे | 

    प्यास  से अतृप्त पेड़, लोग पानी  पिलाने लगे  ,
     कुछ ने बँधाया ढाढ़स,एक रेला अस्पताल ले जाने लगा |

     उलझ  गया वो  माँझे  में,पँख उसके फड़फड़ाने लगे  ,
     न करेंगे अब पतंगबाज़ी,मनुष्य आजीवन यही प्रण निभाने लगा |

      सींच रहे मोहब्बत के फूल,धरा भी अब मुस्कुराने लगी,
फूट रहे दिलों में प्रेम के अंकुर,मनुष्य भी अब खिलखिलाने लगा |

पत्थर के ज़ख़्म सहलाने लगें, इंसान-इंसान को गले लगाने लगा 
दिया जो ज़ख़्म अंजाने में,इंसानियत से मोहब्बत  निभाने  लगा, 

आँख का पानी अब मुस्कुराने लगा,वो ख़ुशी के बहाने तलाशने  लगा, 
ज़ख़्म दिल के ज़माना सहलाने लगा,हर कोई चिकित्सक नज़र आने लगा, 


      
                                            -अनीता 

गुरुवार, 17 जनवरी 2019

याद -ए-माज़ी




                                       

नज़ाकत   भरी   निगाहों  से 
पिला  दिया  दर्द-ए-जाम,ज़िंदगी के मयख़ाने में,
ज़िक्र   हुआ  दिल  की  महफ़िल  में, 
रुख  किया  यादों  के  तहख़ाने   का|


 नाराज़  नहीं   तुझसे  ऐ  ज़िंदगी,  
उलझ  गयी    लम्हों   के   तहख़ने  में ,
एक  घूंट  जाम-ए-जिंदगी,  
मदहोश हो गये,ज़िंदगी  के मयख़ाने  में |

  मोहब्बत की डगर तलाश रहा  मन 
 हाथों  में    जाम-ए-ज़िंदगी ,  
क्यों   हुआ  वो  मोहब्बत   पर  फ़िदा  ?
नसीब  ही   उस    का   बेवफ़ा  रहा |


फिर   जी  उठी   इसी  बहाने  से 
तस्वीर उभर आयी याद-ए-माज़ी ज़िदगी के तहख़ाने   में, 
महक़  उठी   फ़ज़ा   में  हिज्र  की  शाम 
 ज़ाम-ए-ज़िंदगी,यादों  के   मयख़ाने  में |

                          -अनीता सैनी  

बुधवार, 16 जनवरी 2019

अली

            
         

                        मन  माही  प्रीत  में  उलझे 
                       ह्रदय  री  बात   बताऊँ    रे 
                       मन   बैरी   बौराया  अली 
                       कैसे   इसे   समझाऊँ    रे ?


                      पी   मिलन   की  हूक  उठी 
                      सुध-बुध   अपनी  गवायी   रे 
                      महल-अटरिया   सूनी  लागे 
                       कैसे   जी    बहलाऊँ   रे  ?

                      सखी-सहेली,झूला-झूले 
                      तन  पे   सौलह  शृंगार  रे 
                      मैं  विरहिणी,विरह  सीचूँ  
                      जगत  प्रीत   बिसरायी   रे 
                     

                      तीज-त्योहार   राह  निहारुँ  
                     साजन  बसे   किस  देश   रे ?
                     चाँद  चढो   गिगनार  अली 
                     कैसे  अरक   लगाऊँ   रे ? 

                                 # अनीता सैनी 


मंगलवार, 15 जनवरी 2019

स्मृति

                
                 
                  
                


                    
                    उत्सुक वेदना,प्रेम   भाव-अभाव
                         वेग ह्रदय  में  चिरकालिन
                       प्रीत   विमुख,  हुआ  उद्वेग 
                           स्मृति  जड़ता  जीवन की 
                           जड़ में राग  अनुराग
                       ह्रदय में फैला विपुल  भाव 
                        उत्सुक  नयन, ह्रदय हुआ बैचैन 
                         कल्पित   प्रतिमा  प्रिय  की
                         स्मृति-साथी, चिरकाल 
                         कल्पित  सुख, मनभावन 
                     आकांक्षित  हृदय,  साँसें  विचलित
                          शृंगार  सागर -तरंग 
       स्मृति जड़ता जीवन की चिरसंचित प्रेम भाव-अभाव |

                      
                                  - अनीता सैनी 

रविवार, 13 जनवरी 2019

लौट आना




              

                          सैकत  बन  फिसल  रहा
                          धड़कनों  की अँजुली  से 
                          मुहब्बत  में  गूँथा  कल
                           दर्द   में  मुस्कुराता  पल |
                         


                          मुस्कुराने   की  आदत 
                          ग़मों  को  मात दे  गयी  , 
                         मुस्कुराती  तस्वीर  तुम्हारी 
                         आँखें  नम  कर   गयी   |


                          
                         इत्तिफ़ाक़  से  लौट  आना 
                        महफ़िल  फिर   सजा    देंगें, 
                        क़दमों  के  निशां  उस दर से 
                        अपने  हाथों    से  मिटा  देंगें  |

                                 -अनीता सैनी 

शनिवार, 12 जनवरी 2019

सब





                                                            

                 स्नेह सहेज, कुमोद  रुप  धर ,
                 व्याकुल व्याधि,निर्दय  त्रास ,
                 परोपकार धर मानव मस्तिष्क पर 
                 अंचल विश्वास से  प्रेम आमंत्रण दृश्य यही सब ओर |



                दिशा दीप्त, किये  दीपदान, 
               पूर्ण  प्रकाश,  रहा  अनादि तम 
              सृष्टि सृजन शशिकिरण ,सुख-इंगित 
               वृक्ष  लता  में  गूँथे  प्रीत  दृश्य  यही  सब  ओर|




              चिर  सृष्टि, अचिर  स्वप्न  गूँथे  हृदय  में ,
            प्रतिदिवसावसान  वैभव  जग आधार 
            कुटीर द्वार पर जीवन तरु  पथ अश्रांत,
    मधुर नूपुर, सुरभि-संसार महक रहा जग दृश्य यही सब  ओर |
     
                                - अनीता सैनी 

गुरुवार, 10 जनवरी 2019

हिंदी



                           


मन से निकला साज़,महकी बन ममत्त्व  की आवाज़ ,
गूँज रही कण-कण में,बन मधुर वर्ण कंठ का राज |


क़दमों  में थिरकती ताल, कंठ सजे सुन्दर साज़ ,
मधुर  वर्ण बन निखरी,हिंदी  हृदय  का  ताज |


मोहब्बत में लिखा फ़रमान, हाले  दिल ने किया बखान, 
हिंद  देश  की  हिंदी,  मिला  मातृत्व   का  सम्मान |


हाथ थामे रखना, कभी   चाहत को न क़ुर्बान करना,
लबों  पर सजाये रखना,  यूँ  बेगानापन  न  दिखाना |



ठुकरा  रहे  हो  ममत्त्व    कल  फिर  लौट  आओगे ,
गुमराह हुए  ज़िंदगी  की  राह में,तलाश  में  मेरी नज़र आओगे  |

                                    -अनीता सैनी 


मंगलवार, 8 जनवरी 2019

ठूँठ

             

                                  वृद्ध   विहंग, 
                                एकाकी   विचरण ,
                                  मीत   ठूँठ, 
                                प्रीत   लाचारी, 
                            झर  रहा  दो  प्रणयियों, 
                         के  नयन  नीर  नीरस  जीवन  में |

                           स्नेह   प्रीत  पवन  पल्लवित  ,
                          विचरण   विहग  मुग्ध   स्वप्न  में |

                              प्रीत  पहन   ज्योतिर्मय,
                          जलधि-जलद   व्याकुल   प्रीत   में |

                              प्रज्वलित   दीप   उम्मीद,
                               शुष्क   स्नेह  नयन   में |

                               उदीप्त   सकल   साज,
                                नीरस   जीवन    में |

                             धीर    धर   वसंत  पल्लवित , 
                             महके   ठूँठ   नील   गगन   में |

                           छाँह   बैठे   पथिक   पथ   ह्रदय, 
                           सुकून  आह   झलके   जीवन   में |
     
                                     - अनीता सैनी 
                            
                          

शनिवार, 5 जनवरी 2019

अनुभूति


                                           
अक्सर  वह  बेचैन मन से पुकारती ,
 किन्तु  कुछ कहने की  सामर्थ्यता न जुटा पायी ,
उस की उत्सुकता भरी निगाहें ,
 कपकपाते  होंठ, 
 स्थिर मन, 
डगमगाती  बेचैनी,
  देख मन  तिलमिलाने  लगा,
उसका उत्सुकता भरी निगाहों से मिलना, 
उसी  बेचैनी को दिल में समेटे   लौट जाना, 
  देख  कौतुहल मन की दीवारों से झाँकने लगा, 
समय  के दोनों  छोर  कुरेदती, 
दो कप चाय,
बेचैन आँखों के सिवा  कुछ न मिला, 
वक़्त का पड़ाव अपनी करवट ले ही रहा था कि, 
जिसे मैं भुला चुकी आज फिर वह मेरी  दहलीज़  पर थी,
 हाथ  में  लकड़ी का सहारा  थामे, 
बारिश  में  कपकपाता  बदन, 
पैरों  की  क्षीण  गति, 
मन में उम्मीद का पुष्प, 
 देख  मन  सिहर उठा, 
उम्र  के ढलते पड़ाव  में उसकी  बेचैनी से, 
फिर मिल  गया मन को कौतुहल का विषय , 
 एक कप चाय जैसे ही उनके के गले से उतरी,
दानवीर कर्ण की भाँति  पूछ ही बैठी, 
अम्मा जी कुछ चाहिए क्या ?
वो एक टक  मुझे ताकती  रही,
 मैं गुनहगार की भाँति  सर झुकाये  बैठी  रही, 
 धीरे-धीरे  शब्द  सफ़र पर निकले....
" बेटी ! तुम्हारे  घर  में  सुख-समृद्धि  का जो पौधा  है
   वैसा  एक मुझे भी दे दो,बरसात के दिन है पनप जायेगा "
बरसात की तेज़  बौछारों के साथ ,
मन में विश्वास के बादल गड़गाड़ने लगे, 
किस पौधे से बाँधूँ  विश्वास की डोरी ?
बरसात की  बूँदों  में बह रहा वात्सल्य मेरी आँखों में छलक गया |

                             # अनीता सैनी 

शुक्रवार, 4 जनवरी 2019

आशियाना

                                                     

 आँखें    पथरायी-सी, 
बैठी   चौखट   के   पार , 
दर्द   के  धागे,  सुकून   की  सिलाई,
तुरपन  रिश्तों   की    हर  बार , 
समय   में   गोते   खा  रही,
ढूढ़   रही   अपना   घर-द्वार  |


जग  ने  रीत  बनायी  ऐसी,
दो   आँगन   दो   द्वार, 
बचपन दिल  में  समेट  लिया, 
भूल  मात-पिता, भाई-बहन   का  प्यार, 
समय   के भवँर  गोते   खा   रही , 
ढूढ़   रही   अपना   घर-द्वार |



श्रद्धा    सुमन   से   सींच    रही ,
दो  आँगन,   दो  परिवार ,
सुख    जीवन   में   त्याग    रही,
विश्वास    का  पात्र  किया   तैयार ,
समय    में    गोते    खा   रही ,
ढूढ़   रही   अपना   घर-द्वार |


सपने     अपनों    के   बुन   रही, 
समय    से    कर   बैठी   तक़रार, 
जीवन   राह    में   राही    बनी,
बुन   आशियाने   के   नाजुक   तार, 
समय   में    गोते    खा   रही,
ढूढ़    रही   अपना    घर-द्वार |

     
              - अनीता सैनी 

बुधवार, 2 जनवरी 2019

वक़्त का वार

                                           

वक़्त बे-वक़्त,वक़्त ने किया वक़्त पर वार,

ज़ख़्म  गहरें,ख़ामोशी से वक़्त ने किया प्रहार |



  ख़ंजर कर्मों का,वक़्त  का रहा प्रहार ,

 बे-ख़बर मन  मेरा न  कर सका  तक़रार |



वक़्त का  प्रहार  महफ़िल में  हुस्न-ए-यार, 

वक़्त-ए-बेताबी-ए-ख़ामोशी में सिसक  रहा  प्यार |



जज़्ब-ए-ग़म का मशविरा सुन रहे, हुस्न-ए-प्यार , 

ख़ामोश हुस्न,इंतज़ार  में प्यार,वक़्त  की रही मार |



अपनी नजरों  का  वार,फेंक   बढ़  जाता   उस पार , 

 मैं वक़्त की शो-केस में खड़ी,देख रही वक़्त का प्रहार |


                                  - अनीता सैनी