गुरुवार, 31 दिसंबर 2020

31 दिसंबर

 वह चला गया

कुछ बड़बड़ाते हुए 

फिर कभी न लौटने के

वादे के साथ

ख़ामोशी की धुँध में 

उदासी को ओढ़े

मानवमंशा से मिले ज़ख़्मों को

स्वाभिमान की चादर से

बार-बार ढकता हुआ 

पलकें झुकाए

न हिला न डुला

न कुछ बोला 

बस चला गया चुपचाप।


मन की वीथियाँ  

 बुहारती-बुहारती 

थक गई थी मैं 

थकान मेरे कंधों पर

ज़िद से आ बैठी 

और एक-दो तमाचे मैंने भी जड़े

एक क्षण पलकें उठाईं 

दिल की गहराइयों में उतर

गलती पूछी थी उसने 

फिर ओढ ख़ामोशी की चादर 

कुछ कहा न सुना

अनसुने कर मेरे अहसास 

बस चला गया चुपचाप।


@अनीता सैनी 'दीप्ति'


रविवार, 27 दिसंबर 2020

सुराही पर


बहुत दिनों से बहुत ही दिनों से

  सुराही पर मैं तुम्हारी यादों के 

  अक्षर से विरह को सजा रही हूँ 

छन्द-बंद से नहीं बाँधे उधित भाव 

कविता की कलियाँ पलकों से भिगो 

कोहरे के शब्द नभ-सा उकेर रही हूँ। 


उपमा मन की मीत मिट्टी-सी महकी  

रुपक मौन ध्वनि सप्त रंगों-सा शृंगार

यति-गति सुर-लय चितवन का क़हर  

अक्षर-अक्षर में उड़ेला मेघों का उद्गार

शीतल बयार स्मृतियों के पदचाप 

मरु ललाट पर  छाँव उकेर  रही हूँ।


प्रीत पगे महावर संग मेहंदी का लेप

काँटों की पीड़ा कलियों  से छिपाती 

अनंत अनुराग भरा घट ग्रीवा तक

 जगत उलाहना हँस-हँस लिखती 

किसलय पथ  उपहार जीवन का  

 वेदना उन्मन चाँद की उकेर रही हूँ।


@अनीता सैनी 'दीप्ति'

गुरुवार, 24 दिसंबर 2020

कुरजां और प्रेम

पाहुन कुरजां

स्मृतियाँ छोड़ ज़ेहन में 

उड़ जाते हैं  सुने नभ में


प्रभात के मोती सज़ा 

दूधिया पँखों पर

 पी संदेश है सुनाता 

 

मन-विथियों में विचरता 

खुली आँखों में स्वप्न लिए 

 कुहासे में है खो जाता 

 

  होठों पर चुप्पी लिए 

भावना से  छूना 

आना और चले जाना।


@अनीता सैनी 'दीप्ति'


सोमवार, 21 दिसंबर 2020

शब्द


 ज़िद की झोली कंधों पर लादे आए !

 शब्दों के झुरमुट को

  चौखट से लौटाया मैंने

  ओस की  बूँदों ने बनाया बंधक 

   बग़ीचे की बेंच पर ठिठुरते देखे!

  मुझ बेसबरी से रहा नहीं गया

  बहलाने निकली उन्हें 

  परंतु चाहकर भी कुछ कहा नहीं गया

तो क्या सभी सँभालकर रखते हैं ?

शब्दों के उलझे झुरमुट को 

क्योंकि शब्दातीत में समाहित होते हैं 

अर्थ के अथाह भंडार 

झरने का बहना चिड़िया का चहकना

प्रभात की लालिमा में क्षितिज का समाना 

या निर्विकार चित्त की संवेदना तो नहीं शब्द?

 मरु से मिली ठोकरें सिसकती वेदना तो नहीं है?

 कृत्रिम फूलों पर मानव निर्मित सुगंध हैं शब्द?

तो क्या? भावों के भँवर में उलझी ज़िंदगियाँ हैं ?

अंतस का पालना झुलाती शब्दों को मैं 

तभी तो,चाहकर भी कुछ कहा नहीं गया।


@अनीता सैनी  'दीप्ति'


गुरुवार, 17 दिसंबर 2020

कशमकश की सीलन


 तुम बहुत मजबूर हो!

दरख़्त के तने का खुरदरापन 

दर्शाता है कशमकश की सीलन

शाख़ पर झूलती ज़िम्मेदारी

समय से पहले पत्तों का पीलापन 

बात यहीं से शुरु करनी चाहिए।


हम भूलने लगे हैं दरख़्त की छाँव 

उस पर बने पक्षियों के आशियाने

महकते खिलखिलाते सुर्ख़ फूल

टहनियों से नाज़ुक संबंधों को 

अब विचारों के फटे  कंबल से

थकते अहसास झाँकने लगे हैं।


प्रेम की पगडंडियों से परे हम

पहुँच गए हैं पथरीले रास्तों पर

झंझावातों  के काँटे कुरेदते-कुरेदते

उलझनों के घने कोहरे में विलीन 

चलने लगे हैं नींद के पैरों से

समझौते की सड़क के किनारे-किनारे।


@अनीता सैनी 'दीप्ति'

मंगलवार, 15 दिसंबर 2020

कैसे?

 बहुत भिन्न हैं वे तुम लोगों से 

तुम्हारे लिए वाकचातुर्यता  शग़ल है 

तलाशते हैं वे संबल तुम्हारे कहे शब्दों में 

तुम षड्यंत्र की कोख  से

नित नए  पैदा करते हो शकुनी

हुज़ूर! समय पर फेंके पासे कैसे छिपाओगे?

  

तुम तरक़्क़ी की सीढ़ियों को 

गोल-गोल घुमावदार बनाते हो 

उन पर ग़लीचा गुमान का बिछाया  

अपेक्षा को उन्नति का जामा 

उद्देश्य को लिबास प्रगति का पहनाया 

कूड़े के ढ़ेर पर महल मंशा का कैसे सजाओगे?


ज़िद को सफलता का मफलर 

उस पर तमगेनुमा बटन जड़वाए

फटे कुर्ते पर रफ़ू नुमा सिलाई

धागे को सुंदरता के ढोंग से ढका है 

भविष्य की  काया से लपेटी हैं कतरन

कड़ाके की बहुत ठंड है दिसंबर में

तुम असफलता कैसे  छिपाओगे?


@अनीता सैनी 'दीप्ति'

रविवार, 6 दिसंबर 2020

बहुत बुरा लगता है


अनदिखे में तुम्हारे होने का आभास

दिल को इतना भी बुरा नहीं लगता 

बुरा नहीं लगता इंतज़ार के दरमियाँ

पनपने वाले प्रेम को पोषित करना।


बुरा नहीं लगता शब्दों के सागर में 

भावनाओं के ज्वार-भाटे का उतार-चढ़ाव 

बुरा नहीं लगता पैरों को भिगोती लहर का 

किनारे पर आकर लौट जाना।


बुरा नहीं लगता उतावलेपन में झाँकती  

ज़माने की ऐंठन भरी उलाहना से 

कभी-कभी खटकता है समय का 

स्मृतियों के सिरहाने बैठ सहलाना।


बुरा नहीं लगता हवा की आहट से

विचलित धड़कनों को सुलाना 

परंतु बहुत बुरा लगता है तुम्हारे द्वारा 

पुकारे जाने की आवाज़ को अनसुना करना।


@अनीता सैनी 'दीप्ति' 

गुरुवार, 3 दिसंबर 2020

देखो! तुम अपने पैरों की तरफ़ मत देखो


 तुम अपने पैरों की तरफ़ मत देखो 

मैं कहती हूँ न बार-बार मत देखो 

तुम चाँद-सितारों की बातें करो 

पगडंडियों पर बिछी ओस की उलझन कहो 

देखो ! तुम्हें देख कैसे मुस्कुराते हुए 

 धीरे-धीरे चाँदनी बरसता चलता है चाँद। 


तुम प्रेम की मीठी-मीठी बातें करो 

ख़ुबसूरत हर्षाते लम्हों की बातें करो 

गेहूँ सरसों से लहराते खेतों  की बात कहो 

खेत में खड़े व्याकुल बिजूका की व्यथा 

उसके  साथ गुनगुनाए गीत सुनाओ  

मैंने कहा न अपने पैरों को मत देखो l


देखो ! नील मणि-सा नीला आसमान 

 सफ़ेद लिबास में इस पर दौड़ते अबोध छौने 

 तुम प्रेम के सागर में आँखें मूँद डूब जाओ 

 देखो! अपने पैरों से ध्यान हटाओ तुम 

मैंने कहा न ध्यान हटाओ 

अभी-अभी टूटी हैं बेड़ियाँ  पैरों से 

स्याही से लिखे फ़रमान की बातें न कहो तुम।  


@अनीता सैनी 'दीप्ति'


शनिवार, 28 नवंबर 2020

चलिए कुछ विचार करते हैं

 

कृषि प्रधान
 कहे जाने वाले भारत  देश में 
जब किसानों का
 निवाला छीना जाता है 
बेहतर है 
इन्हें  मर जाना चाहिए।

कुछ  विचार करते हैं 
 मिल-बैठकर, समर्थन चाहिए!
अगर ये ऐसे नहीं मरते हैं   
इन्हें मिलकर मारते हैं  
ठंड को कह तुड़वा दे हड्डी या 
 कोरोना को कहे सीने पर बैठ जाए!

या फिर मूक-बधिर बन
  टी.वी. पर आँखें गड़ातें हैं 
नेताओं की रैली पर 
गुलाब के फूल बरसाते हैं  
 खेतिहर पर ठंडा पानी डाल
  तमाशा देखते हैं।

चलिए !  
चुपके से एक क़ानून बनाते हैं  
कुछ झूठ 
कुछ सच मिलकर फैलाते हैं  
नासमझ को नादानी में डुबोते हैं।

कहो तो मूर्खता को
 समझदारी के पैर लगाते हैं  
 फिर भी न मरे उन्हें 
 राजनीति की कसौटी पर कसते हैं  
चलो ! कुछ और न सही 
ग़रीबी की रस्सी बना गला घोंटते हैं।

@अनीता सैनी 'दीप्ति'

गुरुवार, 26 नवंबर 2020

एक साया


 मैने देखा एक साया 

उड़ते खग की परछाई-सा 

अतृप्ति का भाव  दुखों को ओढ़े 

सागर-सा सूनापन सुषुप्तावस्था में 

तनाव की दरारों से शब्द बन झाँकता।


काल के क़दमों से तेज़  

तीव्र  वेग से दौड़ता कुंठित मन-सा 

सूखे पात-सा लिप्सा में लीन 

 तृष्णा  की टहनी पर बैठा 

 काया को कलुषित करता।

 

 दोष रुपी असंख्य रोगों को 

   आग़ोश में भरता 

  चिंता रुपी ज्वर से ग्रसित 

  मनवीय मूल्यों का हनन करता 

  नित नई संर्कीणता धारण करता।

  

 मन के कहे को गुमान से करता 

  विकराल रुप कुकर्मों का धरता 

 षड्यंत्र रुपी गुफा गढ़ता 

 भ्रम की पट्टी आँखों पर बाँधे 

 स्वयं सिद्धता दर्शाने आतुर रहता।


@अनीता सैनी 'दीप्ति'

मंगलवार, 24 नवंबर 2020

मूरत मन की

प्रसिद्द गायिका, संगीतकार एवं वरिष्ठ ब्लॉगर आदरणीया शुभा मेहता दीदी ने मेरे नवगीत 'मूरत मन की ' को अपना मधुर स्वर देकर संगीतबद्ध किया है। आदरणीया दीदी के स्वर में अपना नवगीत सुनकर मन भावविभोर हो गया।
आदरणीया शुभा दीदी का स्नेह और आशीर्वाद सदैव मेरे साथ बना रहे।
आप भी सुनिए मेरा नवगीत आदरणीया शुभा दीदी के सुमधुर कंठ से निसृत कर्णप्रिय स्वरलहरी-


मूरत मन की  पूछ रही है, 

नयनों से लख-लख प्रश्न प्रिये,

 जीवन तुझपर वार दिया है,

साँसें पूछ रहीं हाल प्रिये। 


समय निगोड़ा हार न माने,

पुरवाई उड़ती उलझन में,

पल-पल पूछूँ हाल उसे मैं,

नटखट उलझाता रुनझुन में

कुशल संदेश पात पर लिख दो,

चंचल चित्त अति व्याकुल प्रिये।। 


भाव रिक्त कहता मन जोगी,  

नितांत शून्य आंसू शृंगार,

भाव की माला गूँथे स्वप्न,

चेतन में बिखरे बारबार,

अवचेतन सँग गूँथ रहीं हूँ, 

कैसा जीवन जंजाल प्रिये।।


सीमाहीन क्षितिज-सी साँसें,

तिनका-तिनका सौंप रही हूँ,

आकुल उड़ान चाह मिलन की,

भाव-शृंखला भूल रही हूँ,

सुध बुद्ध भूली प्रिय राधिका, 

कैसी समय की ये चाल प्रिये।।

© अनीता सैनी

शनिवार, 21 नवंबर 2020

जन्मदिवस पर


लोरी

सोजा रानी गुड़िया रानी
माँ मीठी लोरी गायेगी 
चाँद चंदनिया झर झर करके
चंदन पलने बिछ जायेगी।।

तितली सी तू सोन परी है
मेरे घर की राजकुमारी।
फूलों जैसी कोमल कलिका
बाबा की ओ राज दुलारी।
हर करवट पर घुंघरु बजते
पायल झनकार सुनाएगी।।

चाँद चंदनिया झर झर करके
चंदन पलने बिछ जायेगी।।

तारों जड़ी चुनरिया सुंदर
ओढ़ नींद अब आती होगी।
उड़न खटोले में चढ़ कर तू
परीलोक तक जाती होगी।
चंदा के झूले पर चढ़कर
वही निंदिया फिर आयेगी।।

चाँद चंदनिया झर झर करके
चंदन पलने बिछ जायेगी।।

चंदा मामा खिड़की बैठा
ताक रहा है कब से नटखट
सो जाएगी जब तू बिटिया
किरणें लेकर जाए चटपट
बादलों की डोली चढ़ाके
तूझको बहुत हँसायेगी।।

चाँद चंदनिया झर झर करके
चंदन पलने बिछ जायेगी।।

कुसुम कोठारी'प्रज्ञा' 
--


जन्मदिवस पर 

तुम्हारी अनुपस्थित में 
कमज़ोर नहीं पड़े ममता के तार 
वात्सल्य ने गूँथा था पलना 
स्वप्न-डोर थामी थी चाँद-सितारों ने 
झुलाया था प्रीत ने झूला।

ख़ुशियोंभरा माहौल 
 आशीर्वाद आशीषमय मंज़र 
उपहारों का लगा था अंबार 
संगीत में गूँजते आँगन के 
 थिरक रहे  थे पाँव।
 
हँसी की झीनी चादर ओढ़े 
दायित्त्वपूर्ण आभास 
 लिए सुकून के मोती मुट्ठी में 
पलकों पर कुछ दृश्य अविस्मरणीय 
गुनगुना रहे थे  गान।

मन मायूस न था बेटी का 
नज़रें गूँथ रहीं थीं एक संसार 
भेंट नहीं मन्नत में माँगी थी दुआ 
अगले जन्मदिवस पर हो 
शीश पर तुम्हारा हाथ

@अनीता सैनी 'दीप्ति'

गुरुवार, 19 नवंबर 2020

बेटी बेल बाबुल आँगन की


जन्मदिवस एक विशिष्ट दिन जब शुभकामनाओं का अंबार लग जाता है।अपनी बिटिया के जन्मदिवस पर उसको समर्पित लोरी लिखकर मन को बड़ा सुकून मिला।
वरिष्ठ ब्लॉगर एवं जानी-मानी लेखिका, नवगीतकार 
आदरणीया कुसुम कोठारी जी ने इसे स्वर देकर अनूठा बना दिया है।
 आप भी सुनिए आदरणीया कुसुम दीदी की मधुर आवाज़ में इस प्यारी-सी लोरी को-


धींव बेल बाबुल अँगना की 
हिय धड़कन नैना बस जाए 
वैण मधुर तुलसी से पावन 
मन किसलय मधु रस छलकाए।।

पल्लव प्रीत सृजक धरणी-सी
चपल चंद्रिका आँगन चमके
कच्ची नींद  स्वप्न नैनन का 
मुखड़ा चंदा जैसा दमके
कुसुम कली-सी मंजुल मोहक
सुता तात बग़िया महकाए ‌।।

भाल तिलक रोली-सी सजती
होंठों की है वो स्मित-रेखा
नाज़ुक धागा बँधन स्नेह का 
मुक्ता जैसी जीवन लेखा
अमूल्य रत्न दुआ बन बरसे
प्रेम-पंथ दूर्वा लहलाए।।

उजली किरण भोर की बेला
अंतस उजियारा जुगनू-सी
आभा बन बिखरी जीवन में 
जगी आस झलकी टेसू-सी 
अल्पना देहरी पर रचती
ज्यों साँझ दीपक झिलमिलाए।।

@अनीता सैनी 'दीप्ति'

मंगलवार, 17 नवंबर 2020

कौन हूँ मैं ?


कौन हूँ मैं ?
पुकारने पर यही प्रश्न 
लौट आता है।
स्वयं को जैसे आज 
भूल चुकी हूँ।
ज़रुरत कहूँ कि ज़िम्मेदारी 
या  नियति का खेल।
कभी-कभी मैं एक 
पिता का लिबास पहनती हूँ 
कि अपने बच्चों की 
ज़रूरतों के लिए दौड़ सकूँ।
कभी-कभी ख़ामशी ओढ़े
मूर्तिकार का लिबास पहनती हूँ।
  कलेजे पर पत्थर रख
उन्हें दिन-रात तरासती हूँ। 
  कभी-कभी ही सही
कुछ देर के लिए 
  मैं एक माँ का लिबास पहनती हूँ ।
उन्हें ख़ूब लाड़ लड़ाती हूँ।
  सरल स्वभाव के साथ
प्रेम का मुखौटा लगाती हूँ।
  अपनी माँ को यादकर 
उसके पदचिह्नों पर चलती हूँ  
कि अपने बच्चों के लिए 
ख़रीद सकूँ ख़ुशियाँ।
कभी-कभी मैं 
ज़मीन से भी जुड़ती हूँ 
खेतिहर की तरह।
ख़ूब मेहनत करती हूँ 
कि पिता-पति के लिए ख़रीद सकूँ 
मान-सम्मान और स्वाभिमान।
परंतु फिर अगले ही पल 
स्वयं से यही पूछती हूँ 
कौन हूँ मैं ?

@अनीता सैनी 'दीप्ति'

शुक्रवार, 13 नवंबर 2020

सिर्फ़ और सिर्फ़ मेरे लिए


थक-हारकर
 जब सो जाती है पवन 
दीपक की हल्की-सी लौ में 
मिलने आतीं हैं 
बीते लम्हों की 
कुछ हर्षित परछाइयाँ 
चहल-पहल से दूर 
ख़ामोशी ओढ़े एक कोने में 
कुछ सुनतीं हैंं  
कुछ सुनातीं हैं 
स्वप्न सजाए थाल में 
 बीते पलों के कुछ मुक्तक 
लिए आतीं हैं गूँथने
  हरी दूब-सा खूबसूरत हार 
चाँदनी रात में
 बरसती धुँध छानती हैं 
कुछ भूली-बिसरी स्मृतियाँ 
तुषार बूँदों में भीगे 
मिलने आ ही जाते हैं 
कुछ अविस्मरणीय दृश्य 
हाथों पर धरे अपने 
 अनमोल उपहार 
सिर्फ़ और सिर्फ़ मेरे लिए।

@अनीता सैनी 'दीप्ति'

बुधवार, 11 नवंबर 2020

आँखोड़ा


आँखों पर आँखोड़ा 
खुरों में लोहे की नाल को गढ़ा 
दौड़नेवाले की पीड़ा का आकलन नहीं 
दौड़ानेवाले को प्राथमिकता थी।

क्यों का हेतु साथ था ?
किसने बाँधी विचारों की ये पट्टी ?
प्रश्न का उत्तर ज़बान पर
हाथ में फिर वही प्रश्न  था।

ऊँघते हालात का देते तक़ाज़ा 
खीझते परिवर्तन के साथ दौड़ना
चुप्पी साधे समझ गंभीरता ओढ़े  
बुद्धि का यह खेल अलबेला था।

सदियों पहले जिसने भी बाँधी हो ?
कर्ता-कर्म बदले विचारों का भार वही 
समय के साथ रियायत मिली
चमड़े का पट्टा थ्री डी प्रिंट में था।

@अनीता सैनी 'दीप्ति'

रविवार, 8 नवंबर 2020

ठग


गाँव के बाहर पीपल के नीचे 
अँधेरी रात में ओढ़े चाँदनी कंधों पर 
मुखमंडल पर सजाए सादगी की आभा 
शिलाओं को सांत्वना देता-सा लगा।

मुँडेर पर बैठा उदास भीमकाय पहर 
सूनेपन की स्याह काली रात में बदला लिबास 
षड्यंत्र की बू से फुसफुसाती पेड़ की टहनियाँ 
गाँव का एक कोर जलाता-सा लगा।

मूँदे झरोखों से झाँकती बेकारी की दो आँखें 
ज़माने के ज़हरीले धुँए का काजल लगाए 
मनसा की मिट्टी से लीपता मन की दीवार 
सपनों को चुराता चतुर लुटेरा-सा लगा।

प्रभाव प्रभुत्त्व समय के सितारों का साथ 
नासमझ ग्वाले उनकी समझ के दोनों हाथ 
कंबल में छिपाए सिक्के उनकी  खनक 
छद्म वाक्चातुर्यता ओढ़े ठगी वंचक-सा लगा।

प्रभात की आँखों से निकलते लाचारी के रेसे 
साँझ के हृदय में पनपती उम्मीद से लिपटते 
 सिमटती माया का सिलसिला समय अंतराल में 
ठग चेहरा दाढ़ी में छुपाता-सा लगा।

@अनीता सैनी  'दीप्ति'

गुरुवार, 5 नवंबर 2020

तुम्हारी याद में



यादों का आसमान 
स्मृतियों की दहलीज़  
अधखुले दरीचे से झाँकता चाँद 
तुम्हारी याद में।

मन की वीथियाँ  को
एहसास के ग़लीचे से सजाया 
भावनाओं के गूँथे बेल-बूँटे 
ख़ुशियों की झालर लगाई 
तुम्हारी याद में।

बिखरी बेचैनियों को 
लिबास दुल्हन का पहनाया 
मेहंदी-काजल से की मनुहार 
सिसकती चुप्पी को मनाया 
तुम्हारी याद में।

आँखों के खारे पानी से 
नित-नित धोए पैर रंगरेज़ समय के 
चाँदनी भर-भर अँजुरी में निखारा 
 जीवन का सारा अंह हारा 
तुम्हारी याद में।

@अनीता सैनी 'दीप्ति'

रविवार, 1 नवंबर 2020

तुम देखो !

स्वच्छंद  आसमान तुम्हारा है 
नहीं है पंखों पर बंदिशों की डोर 
हवा ने भी साधी है चुप्पी 
गलघोंटू नमी का नहीं कोई शोर  
व्यथा कहती साहस से
तुम उल्लास बुन सको तो देखो!

समय बदला  बदले हैं सरोकार 
ऊँघते क़दमों की बदली है तक़दीर 
खेत-खलिहान से निकल धूल मिट्टी से सनी
आँखों ने बुने हैं स्वप्न रुपी संसार 
मेघाच्छादित गगन  गढ़ता है गरिमा 
तुम उत्साह उड़ान में भर सको तो देखो!

डैनों में उड़ान संयम बाँधती पंजों से 
तिनका-तिनका समर्पित साथी को 
मासूम चिड़िया है बहुत नादान 
डाल-डाल पर गूँथती आशियाना 
घरौंदों में भी सुरक्षित नहीं है गौरिया 
तुम कवच बन कठोरकर सको तो देखो!

माँ की हिदायतों में उलझी चहचहाती 
कोरे आकाश को घूर-घूर रह जाती 
साँझ ढले घर-आँगन  में लौट आना 
दोपहर में दानव भटकते गलियों में 
बारिश में न भीगना तेज़ाब है बरसता  
तुम मन को मार रस्सी से बाँध सको तो देखो !

@अनीता सैनी 'दीप्ति '

सोमवार, 26 अक्तूबर 2020

परिवर्तन सब निगल चुका था


हमने शब्दों का व्यापार करना चाहा 
परंतु वे शब्द भी खोखले प्रभावरहित थे 
हमारा व्यवहार संवेदनारहित 
भाव दिशा भूल ज़माने से भटक चुके थे 
शुष्क हृदय पर दरारें पड़ चुकी थी 
अब रिश्ते रिश्ते नहीं पहचान दर्शाने हेतु 
मात्र एक प्रतीक बन चुके थे 
जीवन ज़रुरतों का दास बन चुका था 
घायल सांसों से आँखें चुराता इंसान 
इंसानीयत का ओहदा छोड़ चुका था 
अबोध बालकों की घूरतीं आँखें 
बालकनी से झाँकते कोरे जीवंत चित्र थे 
माँ की ममता पिता का दुलार 
अपनेपन का सुगढ़  एहसास  
सप्ताह में एक बार मिलने वाली 
मिठाई बन चुका था 
मास्क में मुँह छिपाना 
हाथों पर एल्कोहल मलना 
परिवर्तन पहनना अनिवार्य बन चुका था 
अकेलापन शालीनता की उपाधि
मानवीय मूल्य मात्र बखान 
फ़्रेम में ढलती कहानी बन चुके थे 
देखते ही देखते बदलाव सब निगल चुका था।

@अनीता सैनी 'दीप्ति'

रविवार, 25 अक्तूबर 2020

अभिलाषा



मन दीये में नेह रुप भरुँ  
बैठ स्मृतियों की मुँडेर पर।
समर्पण बाती बन बल भरुँ 
समय सरित की लहर पर।
प्रज्वलित ज्योति सांसों की 
बन प्रिय पथ पर पल-पल जलूँ।

भाव तल में तरल तरंग 
मृदुल अनुभूतियाँ बन छाया ऊठूँ ।
किसलय-दल मैं सजल भोर बनूँ 
पथिक पथ तपन मिटे दूर्वा रुप ढलूँ।
शाँत पवन मिट्टी की महक बनूँ 
 नयनन स्वप्न प्रिय प्रीत बन जलूँ ।

सूनेपन में  मुखर आभा 
उदास मन में उम्मीद बन निखरुँ।
आरोह-अवरोह सब मैं सहूँ 
जीवन-लय में लघु कण बन बहूँ ।
हताश मन में साथी संबल बनूँ 
प्रिय मन दीप्ति हृदय आँगन जलूँ ।

@अनीता सैनी 'दीप्ति'

सोमवार, 19 अक्तूबर 2020

अनभिज्ञता है पूर्णता


तुम्हें ये जो पूर्णता का बोध
 हर्षाए जा रहा है 
ये अनभिज्ञता है तुम्हारी 
थकान नीरसता छिछलापन है 
तुम्हारे मन-मस्तिष्क का 
उत्सुकता उत्साह पर 
अनचाहा विराम चिन्ह है 
अपूर्णता अज्ञानता मिथ्या है जो 
 झाँकतीं है समझ की दीवार के 
 उस पार नासमझ बन 
समर्पण को हाँकता अधूरापन 
 तुम्हारे  विनाश का है  प्रारब्ध।
पूर्णता के नशे में 
तुमने ये जो ज़िंदा पेड़ काटे हैं 
जूनून दौड़ेगा इनकी नसों में 
जड़े  ज़िंदगी गढ़ेगी दोबारा  
 इन पेड़ों की टहनियों को 
ज़िद पर झुकाईं हैं तुमने ये टूटेगी नहीं 
लहराएगी नील गगन में स्वछंद ।

@अनीता सैनी 'दीप्ति'

रविवार, 18 अक्तूबर 2020

जब भी मिलती हूँ मैं



जब भी मिलती हूँ मैं 
शब्दों से परे एक-एक की ख़ामोशी 
आँखों के झिलमिलाते पानी में पढ़ती हूँ।

कोरी क़िताब के सफ़ेद पन्ने 
पन्नों में हृदय के कोमल भाव 
भावों के बिखरे मोती शब्दों से चुनती हूँ।

सूरज की रोशनी चाँद की आभा 
कृत्रिमता से सुदूर प्रकृति की छाँव  में 
निश्छल बालकों का साहस पढ़ती हूँ।

गर्व में डूबा मन इन्हें सेल्यूट करता 
पैरों में चुभते शूल एहसास सुमन-सा देते 
आत्ममुग्धता नहीं जीवन में त्याग पढ़ती हूँ ।

परिवर्तन के पड़ाव पर जूझती सांसें 
सेवा में समर्पित सैनिक बन सँवरतीं हैं  
समाज के अनुकूल स्वयं को डालना पढ़ती हूँ।

समय सरहद सफ़र में व्यतीत करती आँखें 
आराम  आशियाने  में  ढूँढ़तीं  
गैरों से नहीं अपनों से सम्मान की इच्छा पढ़ती हूँ।

@अनीता सैनी 'दीप्ति'

शुक्रवार, 16 अक्तूबर 2020

क्षितिज पार दूर देखती साँझ


 
फिर पथ पीड़ा क्यों हाँक रहा?
ले गोद चला भाव सुकुमार
एक-एक रोटी को पेट पीटता  
करुण कथा में सिमटा संसार।

मौन करुणा कहे बरसे बरखा 
शीतलता को धरणी तरसती।
मनुज सरलता डायन बन लौटी 
चपला बुद्धि काया को छलती।

ठठेरा बन बैठा है यहाँ कौन ?
गढ़ता शोषण साम्राज्य मौन।
मिटाना था अँधेरा आँगन का   
विपुल वेदना अधिकारी कौन?

हृदय मधु भरा मानस मन में 
ज्यों पराग सुमन पर ठहरा।
ज्ञात है बदली में अंजन वास 
 निधियाँ का चितवन पर पहरा।

उन्मादी मन उलझा उत्पात में 
क्षितिज पार दूर  देखती साँझ। 
निर्निमेष पलक हैं भावशून्य 
अंतस में रह-रह उभरे झाँझ।

@अनीता सैनी 'दीप्ति'

मंगलवार, 13 अक्तूबर 2020

मैं और मेरा मन


मैं और मेरा मन 
सभ्यता के ऐंद्रजालिक अरण्य में 
भटके नहीं विचरण पर थे 
दृश्य कुछ जाने-पहचाने  
सिमटी-सी भोर लीलाएँ लीन 
बुझते तारे  प्रभात आगमन 
मैं मौन मन लताओं में उलझा 
अस्तित्व ढूँढ़ता सुगबुगाया 
निश्छल प्रकृति का है कौन ?
देख वाक़या धरणी पर 
शंकित आहान बिखरे शब्द 
वृक्ष टहनियों में  स्वाभिमान  
पशु-पक्षी हाथ स्नेह के थाल  
सुंदर सुमन क्रीड़ा में मग्न 
प्रकृति कर्म स्वयं पर अडिग  
सूरज-चाँद पाबंद समय के
शीतल नीर सहज सब सहता 
पर्वत चुप्पी ओढ़े मौन वह रहता 
अचरज आँखों में उपजा मन के 
निकला लताओं के घेरे से 
मानव नाम का प्राणी देखा !
सींग शीश पर उसके चार 
काया कुपित काजल के हाथ 
नींद टाँग अलगनी पर बैठा 
आँखों में आसुरी शक्ति का सार  
वैचारिक द्वंद्व दिमाग़ पर हावी 
 भोग-विलास में लिप्त इच्छाएँ अतृप्त 
काज फिरे कर्म कोसता आज 
धड़कन दौड़ने को आतुर 
नब्ज़ ठहरी सुनती न उसकी बात 
हाय ! मानव की यह कैसी ज़ात 
मन सुबक-सुबककर रोया 
आँख का पानी आँख में सोया।

@अनीता सैनी 'दीप्ति'

सोमवार, 12 अक्तूबर 2020

इंद्रजाल


ऐन्द्रजालिक की भाँति छाया रहता है
घर के कोने-कोने में माया का ओढ़े गुमान।
माया महकती है सदृश्य हर पहर  
हरशृंगार के पावन पुष्प के समान
  
बाँधता नाज़ुक श्वेत धागा अंतस पर 
व्यवहार का हल्की गठान के साथ
मौन साधे आँखों से कुछ कहता 
अहसास संग जोड़ता परिवार का हाथ

नीरवता में भाव बिखेरता हँसता जैसे 
 लहरों को छिपाता आग़ोश में समंदर
भावभीनी चुप्पी में सतरंगी स्वप्न बीनता 
पैरों की जलन बिसराता तपती रेत पर।

कैसे गढ़ता है ज़िंदगी की हवा में जादू 
निश्छल निरीह जीवन पर ऋतुएँ हर्षाईं। 
यादों की एक गठरी उठाए कंधों पर 
चल पड़ा जाने-पहचाने पथ पर हरजाई

दृढ़ शक्ति अथाह विश्वास के बोता बीज 
मन में नेह अँकुरित करता जैसे छलिया
अनंत परिभाषाओं से गढ़ूँ नाम उसका 
 शीतल हवा-सा खिला देता मन कलियाँ

@अनीता सैनी 'दीप्ति'