समर्थक/Followers

शुक्रवार, 30 नवंबर 2018

अन्नदाता


                           गुरुर धधक रहा सीने  में ,
                         पगड़ी पहन स्वाभिमान की, 
                            अंगारों पर चलता हूँ  |

                             आग़ोश  में मोहब्बत , 
                          आँचल में उम्मीद समेटे, 
                       निश्छल नित्य आगमन करता हूँ|

                           ख़ुशियों का मोहताज़ नहीं ,
                              ग़मों  से बातें  करता 
                            फ़सलों संग इठलाता  हूँ  |

                        सूरज-चाँद-सितारे,साथी  मेरे ,
                                जीवन  के  राग
                            मोहब्बत  का  गान  सुनता  हूँ |

                            मेहनत  करना काम मेरा, 
                             मेहनत  ही  रहा  ईमान  मेरा 
                            मेहनत की रोटी खाता हूँ  |

                                आन-बान-शान, 
                              मान जीवन के साथी 
                             सीने से इन्हें लगाता, 
                                   किसान   हूँ, 
                             अन्नदाता  कहलाता हूँ |
                           

गुरुवार, 29 नवंबर 2018

आवाज़ मन की


                                    सुलग रहा यादों का जंगल, 

                                       तन्हा और बेजान, 

                                  आवाज़ उर में धड़क रही,

                                       बन मीठा-सा गान, 

                                  ह्रदय प्रीत में  सुलग रहा, 

                                   सुमरुँ  पिया का नाम ,

                               नीर नयन  का  सूख  गया, 

                                 बन  मीठी   मुस्कान,  

                                लौट आएँगे  माही  मेरे, 

                                  मन  में था यही भान, 

                             पदचिह्नों  को दिल से लगाया, 

                                 बन  बैठे  श्रीराम, 

                              सीता उसकी राह तके, 

                               रुठ  गये   मेरे  राम  ,

                              मन बैरी बौराया  माही, 

                               धड़कन  हुई   बेचैन, 

                              वहम से नाता जोड़ रही, 

                                मूक वेदना की यही तान, 

                                लौट आयेंगे  माही  मेरे, 

                                 मन में था यही  गान, 

                              प्रीत में उलझी मन की डोरी, 

                                  हाथ  हुए  बेजान ,

                               यादें  उर में  सुलग  रहीं ,

                                 तन्हा और बेजान, 

                              माही मेरे  मन  में  बैठे, 

                              पुकारुँ   मैं   दिन-रैन,

                              लौट  आयेंगे  माही मेरे, 

                              मन  में था यही  गुमान |

                                      # अनीता सैनी  
                            
   
                  
                                

x

बुधवार, 28 नवंबर 2018

चाँद ! तुम सो रहे हो ?

                                                      
                         ठिठुर रही  ज़िंदगी 
                          सड़क किनारे मानव, 
                          मन बेहाल  रहा !

                            ओस  की  बूँदें, 
                           झुँझला रही ज़िंदगी 
                             हवा का झौंका, 
                         हठ के ताव लगा रहा  !

                           सूरज निकले,
                             रात ढले, 
                          इसी इंतज़ार  में मन, 
                          अलाव जला रहा !

                        ठिठुरन जानी-पहचानी, 
                         वक़्त की रही  बेमानी, 
                        सुलग रही आग पेट की, 
                        क़िस्मत से हार न मानी, 
                    सड़क किनारे ज़िदगियों का, 
                             यही हाल रहा !

                               #अनीता सैनी 

सोमवार, 26 नवंबर 2018

वो दो आँखें......


                                      
ख़ामोशी से एकटक ताकना,
उत्सुकताभरी निगाहें ,
अपनेपन से  धड़कती, 
 धड़कनों की  पुकार,
और कह रही  कुछ पल मेरे पास   बैठ  !
 एक कप चाय का बहाना ही क्यों न हो,
कुछ पल सुकून से उसके पास बैठना, 
उसकी ज़िदगी का अनमोल पल बन जाता, 
 उसका अकेलापन समझकर भी  नहीं समझ पायी !
उसकी वो आँखें तरसती रहीं ,
धड़कन धड़कती  रही, 
ख़ामोश शब्द बार-बार पुकार रहे, 
मैं व्यस्त थी, 
या एक दिखावा ,
  बड़प्पन के लिये 
 व्यस्तता का दिखावा लाज़मी था !
क्या माँगती  है माँ ? 
चंद शब्द  प्यार के, 
 दो जून की रोटी, 
ज़िदगी में लुटायी  मुहब्बत का कुछ हिस्सा  !
उसकी ज़िदगी के इस और उस,
दोनों छोर पर हम हैं, 
और हमारी ... 
वो कहीं  नहीं...
हमारी ज़िंदगी  में हर वस्तु का अभाव...
प्यार  कर नहीं पाते.. 
पैसे होते नहीं.. 
और मकान छोटा लगता..
और माँ. ...
एक चारपाई  पर पूरा परिवार समेट लेती है !


रविवार, 25 नवंबर 2018

मन ने थामी तृष्णा की डोर..


                
                             दिन को सुकून न रात को चैन , 
                              कुछ पल बैठ क्यों  है बेचैन  ?


                              मन  बैरी  रचता  यह  खेल, 
                                तन  बना   कोलू  का  बैल !


                                मन की दौड़ समय का खेस ,
                             ओढ़  मनु  ने  बदला  है वेश  !


                          मन की पहचान मन से छिपाता, 
                          तिल-तिल मरता,वेश बदलता !


                                 मनु को मन ने लूट लिया, 
                                जीवन उस का छीन  लिया !


                            बावरी  रीत परिपाटी का झोल, 
                             तन   बैरी   बोले   ये    बोल !


                                     तन  हारा  !
                            समय ने उसको  ख़ूब  लताड़ा,
                           बदल वेश जीवन को निचोड़ा !


                                          मन चंचल !
                                  सुलग रही तृष्णा की कोर , 
                                 थका मनु  न छूटी   डोर !

                                      #अनीता सैनी 





शनिवार, 24 नवंबर 2018

नौजवान मेरे देश का

                        
  
                                      

                         मोहब्बत  मासूम,दर्द ख़ंजर कहलाता ,
            न तौल तेरी मासूमियत को,हर किसी के नसीब में ऐसा  दर्द नहीं होता |

                माँ के आँचल  की छाँव से महरुम, माँ की हिफ़ाज़त तू   करता, 
                न कर दिल कमज़ोर, फ़ौलाद से टकराये ऐसा हुनर तू रखता |

                घर की चौखट को मंदिर ,माँ-बाप में भगवान को तलाशता 
                      प्रेम ही पूजा ,मानवता का  ध्यान  तू धरता |
             
                शिकवा और  शिकायत  का पिटारा न  खोलता, 
             हर  बार मुस्कुराते हुए विदा करो,यही बात तू कहता|

                  कुछ दर्द सीने में दफ़्न,  कुछ  अश्कों में  बहा देता, 
                      माँ  की हिफ़ाज़त  में शीश अपना कटा देता |

                 दौलत न शोहरत का मोहताज़, वतन का रखवाला कहलाता, 
                    हर  माँ    के  नसीब  में  ऐसा  बेटा   नहीं  होता |

                                              # अनीता सैनी 
                 
            

गुरुवार, 22 नवंबर 2018

मिज़ाज रूमानी....

         
         
                       ख़ामोशी से गुफ़्तुगू सह न सका मन, 
                        रिमझिम   बरखा   गाये   रिदम ,
                        झौका पवन का हुआ मगन, 
                        बावरी पवन का मिज़ाज रूमानी, 
       
                      क़दमों  में  घुँघरू , थिरक रहा तन, 
                      तरु  संग  इठलाये, झूम रहा  मन, 
                      आँखों में झलके  प्रेम  की लगन, 
                      बावरी पवन का मिज़ाज रूमानी, 

                      भवरों संग  प्रेम  आलाप  में झूमे,
                      महक  फूलों की , फूलों  संग घूमे,
                      छिपती-छिपाती पिया  को  बुलाती, 
                      बावरी पवन का  मिज़ाज  रूमानी  |

                               # अनीता सैनी                        
                      

                   

एक डाल के दो पँछी


                         

                         घटाएँ उमड़ीं  एक पल जीवन ठहर गया, 
                धरा ने धारण की उसाँस,समय का पहिया ठहर-सा गया |

                            सफ़र दोहरा ,दर्द ने डेरा डाल लिया, 
                  जीवन तपती रेत, ख़ुशियों ने दामन छोड़ दिया|

              थामे रखा उस डाल को,जीवन आशा  बना लिया,
              आँखों में झलक रहा विश्वास,प्रेम पात को पा लिया |

                दो पँछी एक डाल के,दोनों ने जीवन साथ जिया, 
                 प्रेम और विश्वास लिये,अपना जीवन ख़ूब सीया |
    
                 ताना -बाना ऐसा बुना,कर्म का पहिया घूम गया, 
               विश्वास का पँछी  उड़ गया, प्रेम स्वतः रूठ  गया |

                                      #अनीता सैनी 
                
      
          .

मंगलवार, 20 नवंबर 2018

आस्था

                          

                        मासूमित  के  स्वरुप   में  सिमटी

                              प्रेम के लिबास में लिपटी 

                         होले  से  क़दम  बढ़ाती

                        आँखों  में  झलकती 
                          ह्रदय में  समाती 
                              स्नेहगामिनी 
                               मनमोहिनी 
                           अपनत्त्व सहेजती 
                             तुलसी-सी पावन 
                           मन-मंदिर  में विराजित 
                             सहेज माम्तत्व  
                            अपनत्त्व  की बौछार 
                           शालीनता की मूरत 
                               ऐसी रही 
                          आस्था की सूरत |

                           समय की मार ने 
                           अपनों के प्रहार ने 
                          जल रही द्वेष की दावाग्नि में 
                           दोगले स्वार्थ ने 
                         अपना शिकार बनाया !
                          सोच-समझ के भंवर में गूँथी 
                           आज बिखर रही आस्था |

                          तपता रेगिस्तान 
                            जेठ की दोपहरी 
                              खेजड़ी के ठूँठ की 
                                  धूप न छाँव 
                               दुबककर बैठी आस्था 
                            उम्मीद के दामन को लपेटे 
                           दोपहरी ढलने का इंतजार 
                            चाँदनी रात की मनुहार 
                            चंद क़दम अस्तित्त्व का छोर  
                              मन में सुलग रही यही कोर 
                             महके गुलिस्ता हो एक नई  भोर |
             
                                        - अनीता सैनी 

                                

               

सोमवार, 19 नवंबर 2018

माँ


                         
                                  
                    
                          सज्दे  में  झुका  शीश,
                          दुआ  बन  जाती  है माँ
                          ज़िंदगी   के  तमाम  ग़म, 
                          सीने  से लगा  भुला  देती माँ
                         चोट  का  मरहम,  दर्द  की  दवा,
                         सुबह की  गुनगुनी  धूप  है माँ
                         वक़्त-बे-वक़्त  हर  गुनाह  धो  देती, 
                         नाजुक़  चोट  पर  रो  देती  है  माँ
                         नाज़ुक  डोरी  से   रिश्तों   को  सिल  देती,
                        उन्हीं  रिश्तों  में  सिमट  जाती  है  माँ 

                                           -अनीता सैनी

शुक्रवार, 16 नवंबर 2018

कही-अनकही बातें


         
                                  ताक  रही  निगाहें, सुख अंबर  बरसायेगा ,
                            मेहनत  करेगा कौन जब मुफ़्त में खाना मिल जायेगा  ? 
                       
                                ठिठुर  रही  ज़िंदगी, धूप का आलम आयेगा ,   
                                दुबक  रहे  घरों  में, चराग़ कौन जलायेगा ? 

                                ख़ामोशी मात दे जायेगी, हाथ मलते रह जायेंगे ,
                                एक बार फिर वही, ग़लती दोहराते रह  जायेंगे  |
         
                                 वक़्त  की  मारा-मारी,नेताओं  की  होशियारी, 
                                  दिखा रहे खेल अपना,  सबकी   साझेदारी  |
             
                           जनमानस का हाल बुरा , ज़िंदगी  में  कोहरा  छा गया,
                              उम्मीद की लौ ,चुनावों  का  आलम  छा गया |

                                                  -अनीता सैनी 
           
                 

गुरुवार, 15 नवंबर 2018

मैं अपने घर का मेहमान

                           

                                  मुस्कुराता  चेहरा,आँखें  बोल  गयीं  ,
                             वक़्त का मेहमान,तुम्हारा ग़ुलाम  बन गया |

                              दहलीज़  का  सुकून,मेरे  नसीब  से खेल गया , 
                                  घर  अनजान, सरहद  जान  बन  गयी |

                             तेरी यादों  का धुआँ ,मेरी  पहचान  बन  गयी  , 
                             तरसती  हैं  निगाहें,  ऐसे  मेहमान  बन  गये |
                
                             समेट ली सभी  हसरतें, दिल  के सभी जल गये,
                             जिंदगी  ख़ाली  मकान, तन्हाइयाँ  जान  बन  गयी |  
                        
                              घर  के  मेहमान, ज़िंदगी  के  मुसाफ़िर बन गये, 
                               तुम्हारा गुनहगार, देश का  पहरेदार  बन गया |

                                                 -अनीता सैनी 

सोमवार, 12 नवंबर 2018

दीप प्रेम का


                गर्द  द्वेष की  छिटकी, कोना मन का महका 
                दीप उम्मीद, बत्ती प्रेम प्रज्वलित, 
                प्रेम पूजा, मानवता का ध्यान किया, 
                साथी बन  घर-द्वार, रूप प्रेम का चहका |


                    ख़ुशियाँ   झालर,  मन  के  मोती सजा  दिये,
              मायूसी को साफ़ किया, इंतज़ार में आँखें टाँग दिये ,
              क्षण के फूल  न्यौछावर ,धड़कन का दीप जला दिया,
              साँसें  सरगंम ,फ़ज़ा   ने  संगीत गुनगुना दिया |
            

              झूम  उठी  ख़ामोशी, हवाओं  ने संदेश   दिया ,
                चौखट  ने  दीदार  किया,  आँगन  ने  रुप  श्रृंगार,  
              कोना -कोना  बतिया  उठा,  गुम  हुई  ख़ामोशी, 
              ख़ुशियाँ   चौखट  पार उतरीं , आओ  प्रेम दीप जलायें   |

                                         -अनीता सैनी 

शनिवार, 3 नवंबर 2018

ख़्वाहिश - ए - ताबीर

                                          
                                              
                         

ख़्वाबों  की  नगरी, ख़ुशियों   की   बौछार ,
जहाँ   हो   ऐसा,  न  हो  ग़मों  का  किरदार |

आँगन   की   ख़ामोशी,   चौखट  की  पुकार , 
ना -मुराद इश्क़  करवाता रहा इंतज़ार |


ख़्वाहिशों   की    ताबीर   में   बसर   हुआ   हर   पहर ,
आँखों  में  तैरते  ख़्वाब  झलकते   दिल  के  पार |

फ़ौला  फ़ज़ा   में  प्यार ,   मौसम   भी   ख़ुशगवार, 
ज़िंदगी   में  रही  मायूसी, नसीब में  नहीं तुम्हारा प्यार |

नील   वियोग  में   फ़ज़ा ,   नीलाअंबर  भी   हारा ,
ताक    रही    टहनियाँ,   वादियों   ने    पुकारा |

                           -अनीता सैनी