मंगलवार, 20 नवंबर 2018

आस्था

                          
    मासूमित  के  स्वरुप   में  सिमटी
   प्रेम के लिबास में लिपटी 
     होले  से  क़दम  बढ़ाती
      आँखों  में  झलकती 
        ह्रदय में  समाती 
     स्नेहगामिनी 
    मनमोहिनी 
   अपनत्त्व सहेजती 
     तुलसी-सी पावन 
     मन-मंदिर  में विराजित 
                             सहेज माम्तत्व  
                            अपनत्त्व  की बौछार 
                           शालीनता की मूरत 
                               ऐसी रही 
                          आस्था की सूरत |

                           समय की मार ने 
                           अपनों के प्रहार ने 
                          जल रही द्वेष की दावाग्नि में 
                           दोगले स्वार्थ ने 
                         अपना शिकार बनाया !
                          सोच-समझ के भंवर में गूँथी 
                           आज बिखर रही आस्था |

                          तपता रेगिस्तान 
                            जेठ की दोपहरी 
                              खेजड़ी के ठूँठ की 
                                  धूप न छाँव 
                               दुबककर बैठी आस्था 
                            उम्मीद के दामन को लपेटे 
                           दोपहरी ढलने का इंतजार 
                            चाँदनी रात की मनुहार 
                            चंद क़दम अस्तित्त्व का छोर  
                              मन में सुलग रही यही कोर 
                             महके गुलिस्ता हो एक नई  भोर |
             
                                        - अनीता सैनी 

                                

               

6 टिप्‍पणियां:

anitasaini.poetry@gmail.com