रविवार, 25 नवंबर 2018

मन ने थामी तृष्णा की डोर..


                
                             दिन को सुकून न रात को चैन , 
                              कुछ पल बैठ क्यों  है बेचैन  ?


                              मन  बैरी  रचता  यह  खेल, 
                                तन  बना   कोलू  का  बैल 


                                मन की दौड़ समय का खेस ,
                             ओढ़  मनु  ने  बदला  है वेश  !


                          मन की पहचान मन से छिपाता, 
                          तिल-तिल मरता,वेश बदलता !


                                 मनु को मन ने लूट लिया, 
                                जीवन उस का छीन  लिया !


                            बावरी  रीत परिपाटी का झोल, 
                             तन   बैरी   बोले   ये    बोल !


                                     तन  हारा  !
                            समय ने उसको  ख़ूब  लताड़ा,
                           बदल वेश जीवन को निचोड़ा !

                                          मन चंचल !
                                  सुलग रही तृष्णा की कोर , 
                                 थका मनु  न छूटी   डोर !

                                      -अनीता सैनी 






कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

anitasaini.poetry@gmail.com