मंगलवार, 21 जनवरी 2020

आस है अभी भी


लड़खड़ाते हौसलों में हिम्मत, 
दूब-सा दक्ष धैर्य धरा पर है अभी भी, 
कोहरे में डूबी दरकती दिशाएँ,  
नयनों में उजले स्वप्न सजोते हैं अभी भी, 
रक्त सने बोल बिखेरते हैं  हृदय पर, 
जीने की ललक तिलमिलाती है अभी भी । 

कश्मकश की कश्ती में सवार,  
तमन्नाओं की अनंत कतारें हैं अभी भी,  
बिखरी गुलाबी आँचल में, 
 सुंदर सुमन अलसाई पाँखें हैं अभी भी, 
सुरमई सिंदूरी साँझ में, 
विहग-वृन्द को मिलन की चाह शेष है अभी भी । 

घात-प्रतिघात शीर्ष पर, 
इंसानीयत दिलों में धड़कती है अभी भी,  
नयनों के झरते खारे पानी में , 
दर्द को सुकून मिलता है अभी भी,  
उम्मीदों के हसीं चमन में फूलों को 
 बहार आने की अथक आस है अभी भी । 
© अनीता सैनी 

रविवार, 19 जनवरी 2020

मैंने देखा है तुम्हें



 मैंने देखा ता-उम्र तुम्हें, 
   ज़िंदा है इंसानीयत तुममें आज भी, 
तुम निडर साहसी और बहादुर हो,  
इतने बहादुर कि जूझते हो स्वयं से ,   
तलाशते हो हर मोड़ पर प्रेम। 

 महसूस किया है तुम्हारे नाज़ुक दिल को मैंने 
अनगिनत बार छलनी होते हुए, 
 समाज के अनुरुप हृदय को ढालते,  
जतन पर जतन सजाते,  
स्वयं की सार्थकता जताते हुए। 

तुम्हारे कन्धों में सामर्थ्य है, 

सार्थक समाज के सृजन का, 
ऊबना भयावह सच की देख तस्वीर, 
तुम चलना मानवता के पथ पर, 
अपना कारवाँ बढ़ाते हुए। 

स्वार्थसिद्धि के उड़ते परिंदे हैं परिवेश में,  
तुम्हें विवेक अपना जगाना होगा, 
न पहनो मायूसी का जामा, 
रोपने होंगे तुम्हें बीज ख़ुशहाली के,  
दबे-कुचलों को राहत का मरहम लगाते हुए। 

©अनीता सैनी 


शुक्रवार, 17 जनवरी 2020

बर्फ़-सी पिघलती है पिपासा



वाक़िया एक रोज़ का... 
सँकरी गलियों से गुज़रता साया,
छद्म मक़सद के साथ था, 
कुछ देखकर अनायास ठिठक गया। 

राम के नाम पर विचरते  राहू-केतू,

आज नक़ाब चेहरे का उतर गया,
है अमर ज्योति गणतंत्र की वहाँ, 
दबे पाँव दहशत का अँधेरा उस राह पर छा गया। 

स्वतंत्रता की उजली धूप में मानुष, 
अँगूठा अपना दाँव पर लगा  रहा,  
पसार दिया अपना हाथ मैंने भी,
  उन्मादी मस्तिष्क नजात दर्द से पा गया। 

 कतार का हिस्सा बन झाँकती जहां में,

 उसी कतार से नाम अपना मिटा रही, 
बदलेगी दुनिया आत्ममंथन के बाद,  
नये चेहरों को कतार का मुखिया बना रही।  

बर्फ़-सी पिघलती है पिपासा मेरे मन में,
 कलकल बहती झरने-सी साँसों में, 
भरी अँजुरी से झरती देख भविष्य को, 
 पैरों से लिपट सार्थकता अँगूठे की बता रही। 

ज़िंदा हूँ मैं ज़िन्दगी मुझसे पूछती, 

ख़ामोशी में चेतना बन वह साया विहरता, 
पसारा था हाथ अवसाद में बनी आत्मवंचना
रोम-रोम उस मोड़ पर सिहरता रहा।  

©अनीता सैनी 

बुधवार, 15 जनवरी 2020

सफ़ेदपोशी



वे सजगता की सीढ़ी से, 
 क़ामयाबी के पायदान को पारकर,  
अपनी तीक्ष्ण बुद्धि से, 
सुख का आयाम शोषण को बताने लगे। 

सुन्न हो रहे दिल-ओ-दिमाग़,   

दर्द में देख मानव को मानव अट्टहास करता, 
सूख रहा हरसिंगार-सा हृदय, 
पारस की चाह में स्वयं पत्थर-से बनने लगे। 

मूक-बधिर बनी सब साँसें, 

 सफ़ेदपोशी नींव पूँजीवाद की रखने लगी,  
आँखों में झोंकते सुन्दर भविष्य की धूल, 
अर्जुन-वृक्ष-सा होगा परिवेश स्वप्न समाज को दिखाने लगे। 

आत्मता में अंधे बन अहं में डूबते, 

 ख़ामोशी से देते बढ़ावा निर्ममता को , 
आत्मकेन्द्रित ऊषा की चंचल अरुणावली से, 
जग का आधार सींचने लगे। 

सौंदर्यबोध के सिकुड़ रहे हों  पैमाने,  

दूसरों का भी हड़पा जा रहा हो आसमां,  
तब खुलने देना विवेक के द्वार, 
ताकि पुरसुकून की साँस मानवता लेने लगे। 

© अनीता सैनी 

शुक्रवार, 10 जनवरी 2020

जिजीविषा की नूतन इबारत



अविज्ञात मलिन आशाओं को समेटकर, 
अनर्गल प्रलापों से परे,  
विसंगतियों के चक्रव्यूह तोड़कर, 
जिजीविषा की नूतन इबारत, 
मूल्यों को संचित कर वह लिखना चाहती है। 

भोर में तन्मयत्ता से बिखेरती पराग, 

विभास से उदास अधूरी कल्पना छिपाती, 
सुने-अनसुने शब्दों को चुन प्रसून महकाती, 
नुकीले कंटकों को सहते हुए वह मुस्कुराना चाहती है। 

कोहरे का कौतुहल मुठ्ठी में छिपा हिलमिल, 

प्रीत गीत गाती ग़लीचे में धूप को बातों में उलझाती,   
शबनम की उलझन मख़मली घास से सुन,  
नेह को निथार कर वह  सँवरना चाहती है। 

ज़िंदगी की झूलती डाल को धीर मन से थामे 
व्याकुल हृदय मुख पर आच्छादित भावशून्यता का 
अधीर आवरण गढ़े 
सुगढ़ अर्थवान शब्दों  की परवाज़ लिये, 
जतन की आवाज़ बन वह जीना चाहती है। 

©अनीता सैनी 

गुरुवार, 9 जनवरी 2020

मन भीतर यही आस पले



मन भीतर यही आस पले,  
प्रणय की आँधी चले, 
  थार के दिनमान जगे,   
मन संलग्नता से,  
विधि का आह्वान करे,  
अनल का प्रकोप रुठे,  
प्रकृति ज़िंदा न जले,  
सघन वन पर नीर बहा, 
गगन हरी देह धरा की करे। 

धूल भरी घनी काँटों से सनी, 
 गहरी शाब्दिक चोट,  
वेदना की टीसों के स्थान, 
तन्मयता से परस्पर, 
उनींदे प्रेम के निश्छल,  
पुरवाई के झोंकों से भरे।  

तुषार-सी शीतल निर्मल, 
वाक-शक्ति मरुस्थल की,  
ऊँघती संध्या-लालिमा-सी, 
अधमींची आँखों पर ठहरे, 
क्षुद्रता का अभिशाप हर, 
पलकों का बन सुन्दर स्वप्न,  
नन्हीं झपकी की गठरी बने, 
जीवन जीव का फूलों-सा, 
हृदय सरिता-सा झरे। 

©अनीता सैनी 


बुधवार, 8 जनवरी 2020

आदमी इंसान बनना चाहता



अदब से आदमी,आदमी होने का ओहदा, 
आदमीयत की अदायगी आदमी से  करता,  
आदमी इंसानियत का लबादा पहन,  
स्वार्थ के अंगोछे में लिपटा इंसान बनना चाहता। 

सूर्य के तेज़-सी आभा मुख मंडल पर सजा,  

ज्ञान की धारा का प्रारब्धकर्ता कहलाता,  
सृष्टि का लाडला सृष्टि को तबाह करने को उतारु,  
बुद्धि की समझ से आधुनिकता का पाठ पढ़ाता। 

जीवन मूल्यों की नई पहचान गढ़ता, 
स्वाभिमान के रुप में हथियार अहंकार का रखता,   
 रोबोट बनने की चाह में स्वयं को हैवान बन गँवाता,  
दुनिया को तबाही का भयावह मंज़र दिखाना चाहता। 

 ©अनीता सैनी 


रविवार, 5 जनवरी 2020

राजस्थान के शहर कोटा में



ज़िम्मेदारी के अभाव का घूँट, 
अस्पताल का मुख्यद्वार पी रहा,  
व्यवस्था के नाम पर, 
दम तोड़तीं टूटीं खिड़कियाँ,  
दास्तां अपनी सुना रहीं, 
विवशता दर्शाती चौखट,  
दरवाज़े को हाँक रही, 
ख़राब उपकरणों की सजावट,  
शोभा बेंच की बढ़ा रही, 
 लापरवाही की लीपापोती,  
प्रचार में हाथ स्टाफ़ का बढ़ा रही,  
ऑक्सीजन के ख़ाली सिलेंडर, 
उठापटक में वक़्त ज़ाया कर रहे,  
इमरजेंसी वार्ड की नेम प्लेट,  
रहस्य अपना छिपा रही,  
मरीज़ों की विवशता तितर-बितर, 
सर्द हवा में गरमाहट तलाश रही, 
पलंगों का अभाव, 
मरीज़ों के चेहरे बता रहे,  
चूहे-सुअर आवारा पशुओं का दाख़िला,  
बिन पर्ची सुनसान रात में हो रहा, 
राजनेता सेक रहे,   
सियासत की अंगीठी पर हाथ,  
पूस  की ठिठुरती ठंड में, 
नब्ज़ में जमता नवजात रुधिर, 
ठिठुरन से ठण्डी पड़ती साँसें, 
मासूमों की लीलती जिंदगियाँ, 
राजस्थान के शहर  कोटा में, 
अपंग मानसिकता का,  
अधूरा कलाम सर्द हवाएँ सुना रहीं। 

© अनीता सैनी  

शनिवार, 4 जनवरी 2020

दुआ में



परमार्थकारी पारिजात के फूलों-सा, 
सजायेंगे सलौना आशियाना, 
गुमनाम ग़मों से करेंगे सुलह, 
 नीड़ को निखार राह में स्नेहल फूल बिछायेंगे,  
प्रीत के पवित्र पथ से गुज़रना, 
अधरों पर मधुर मुस्कान सजायेंगे,   
ऐ  साहेब ! राह न भटकना जुगनू-सी चमक लिये
 ज्योतिर्मय जीवन हम जगमगायेंगे। 

सूनी पथरीली पगडंडियों पर, 
दूब पाँव के छाले सहलाएगी, 
जलते परिवेश को शीतल करने नील गगन में, 
 अब्र दुआ के उमड़ आयेंगे, 
रातरानी की मादक महक बढ़ाएगी,  
यामिनी का रहस्य, 
ज्यों मिलता है तम से घनघोर तम 
धरती-व्योम प्रेम यों बढ़ाएंगे। 

सफ़र में हो अलौकिक आलोक, 

 लौ प्रियतम प्रीत की उस सफ़र में जलायेंगे,   
आस  प्रज्ज्वलितकर जीवन पथ पर, 
तिमिर का सोया भाग्य जगायेंगे,  
तुम्हारी पाकीज़ा मुस्कान को, 
छू न पाये फ़रेब, 
दुआ में उठेंगे अनगिनत हाथ 
सज़दे में ख़ैरियत तुम्हारी उस ख़ुदा से चाहेंगे। 

© अनीता सैनी