शनिवार, 26 सितंबर 2020

वर्तमान की पीर


 कुछ दौड़  कुछ होड़ हारने की  
पेपर पर स्याही उड़ेल गलाने की   
किसानों का निवाला छीनने की थी 
देह दर्द से टूटी थी आसमान की  
शब्दों में पीड़ा पनपी थी धरती के 
प्रसन्नचित जीवन अश्रुपूर्ण लिबास में 
अंतस अधीर  बेचैनी झरता पात थी 
डर देहरी पर बिस्तर बिछाए बैठा  था।

चौराहों  की रौनक छीन ली गई 
गलियों को उनकी हैसियत बताई 
पत्थर पर पैर पल-पल जीवन को 
मारने के लिए मजबूर किया गया 
सफ़ेद चील ने तजरबा के कान छिदवाए 
संस्कार कह रस्मों की माला पहनाई।

2020 का  बर्बरतापूर्ण भयावह रुप 
दीवारों को चुप्पी की चादर ओढ़ाई 
निर्ममता की हदें ढहाता दिमाग़ का पानी 
संतोष को निगलता छद्म की अगुवाई में था 
क़दमों तले वर्तमान को कुचलता साहिर था।

इंसानों के कलेजे को काट तरक़्क़ी को 
तनावमुक्त करने का वादा गढ़ा  
विश्व व्यथित घुटन में देश का समीर 
विकृति मानव के मस्तिष्क पर सवार 
घटनाओं की नहीं यह वर्तमान की पीर थी।

@अनीता सैनी 'दीप्ति'

मंगलवार, 22 सितंबर 2020

प्रीत खो गई कहीं

चंचल प्रीत मन के कोने से निकल 
शब्दों के कोरे  कोर पर  जा बैठी 
मृदुल वेग वादा समर्पण सब सो गए कहीं 
अनुत्तरित प्रश्न कहता! प्रीत खो गई कहीं।

चीख़ता-चिल्लाता पुकारता मानव 
देखो! अंतस के किवाड़ नहीं खोलता 
स्वयं में छिपा अनुराग दम तोड़ता आज 
निर्दयी कहता!  प्रीत खो गई कहीं।

करुणा की बहन है इसलिए सो गई 
चित्त के गोदाम में जगह नहीं बिक गई 
जीवन की आपा-धापी से थक गई कहीं 
अहंकार हत्यारा कहता! प्रीत खो गई कहीं।

समय से पिछड़ी तब महत्त्वाकाँक्षा ने दाग़ी 
भावों का अभाव विवेक ने न लाज रखी 
ज़िंदगी के ज्वर से जूझती ज़िंदा है कहीं 
संयम सहारा कहता!  प्रीत खो गई कहीं।

@अनीता सैनी 'दीप्ति'

सोमवार, 21 सितंबर 2020

मर्तबान


मर्तबान को सहेज रखती थी रसोई में 
मख़मली यादें इकट्ठा करती थी उसमें मैं 
जब भी ढक्कन हटाकर मिलती उन  से 
उसी पल से जुड़ जाती अतीत के लम्हों से 
चिल्लर जैसे खनकतीं थीं वे यादें दिल में 
एक जाने-पहचाने एहसास के साथ  
उसे छूने पर माँ के हाथों का स्पर्श
 महकने लगता अंतरमन के कोने में 
जब कभी भी वह  हाथ से फिसलता 
डर मुट्ठी में समा हृदय में उतर जाता  
कहीं टूट न जाए ,छूट न जाए 
फिसल न जाए हाथ से मेरे 
माँ का साथ आशीर्वाद समझ 
अनजाने में उससे बातें करने लगी 
गंभीर मुद्रा में वह मेरी बात सुनता 
कभी-कभी माँ का चेहरा उभर आता उसमें 
आज मेरे हाथ से टूट बिखर गया मर्तबान ।

@अनीता सैनी 'दीप्ति'

गुरुवार, 17 सितंबर 2020

तरक़्क़ी की महक


अबोध मन को समझाना न झुँझलाना तुम 
आश्वासन की पटरी पर अंधा बन न लेटा करे।
तरक़्क़ी की महक फैलाती दौड़ती है लौहपथगामिनी !
उत्साह के झोंके की रफ़्तार को यों न बाँधा करे।

तुम समझ नहीं पाओगे पकड़ नहीं पाओगे गति को 
गोल-गोल घूमती गंतव्य का अभाव है अभी भी ।
उन्नति के बादल गढ़ती ज़हरीले धुआँ से 
अपेक्षा को पालना झुलाना निरर्थक है अभी भी।

तुम समझ के पतवार बाँधो हवा को समझो 
निर्जीव प्रयासों को जीवितकर पानी पिलाओ।
एक आँख से न ही दोनों आँखों से जग को निहारो 
सूखे कुएँ की पाल पर झूलती टहनी पर बैठी 
  चमगादड़ की चाकरी को न पुकारो अभी भी।

तुम भींत पर बने विभिन्न भिंतीचित्र नहीं हो 
न ही क़र्ज़ का भार उठाए कमर से कटे किसान हो 
डूँगर पर टहलते बिन तार के खंभे न बनो 
न ही खंडहर में पड़े लावारिश पाषाण बनो 
वीरानियाँ पहने पालते हो सांसों को अपनी 
तुम चाँदनी को निहारो उसी की बातें किया करो 
वह जागीर है प्रतिष्ठा है शीश पर रखी पगड़ी है तुम्हारी।

@अनीता सैनी 'दीप्ति'

बुधवार, 16 सितंबर 2020

यादें


विहंग दल की भाँति 
डैने फैलाए लौट आतीं हैं यादें 
वे इंसान नहीं कि 
नहीं लौटे दोबारा 
बंधनों की दहलीज़ 
लाँघ मिलतीं हैं अपनत्व से
पुकारतीं हैं 
अपनों की परछाई बन  
उन्हीं के स्वर में 
नयन गढ़ लेते हैं भावों की 
 गुँथी से जीवित छायाचित्र 
सेवा भाव का यह सागर 
हर लेता है मन की पीड़ा 
तब सुकून का सैलाब 
सवार होता है हर सांस पर 
एक वक़्त के खाने में
 उड़ेल समर्पण 
गाय,कौवे में उन्हें 
तलाशती है अंतर्चेतना   
अँजुरी में भरा पानी 
श्राद्धपक्ष में श्रद्धा के पुष्प बन 
अंतस की नमी से 
आँखों के भिगों देता है कोर
अपनों की याद में।

@अनीता सैनी'दीप्ति'

गुरुवार, 10 सितंबर 2020

विचित्र खेल है खेलते जाना है !


 समय को समझ के फेर में उलझाते हुए 
हृदय की अगन को सुलगाते  रहना है। 
शालीनता के मुखौटे की आड़ में 
ईर्ष्या  के छाले शब्दों पर जड़ते जाना है। 

विचित्र खेल है परंतु खेलते  जाना 
खेलने वाला हर व्यक्ति को विजेता कहलाना है। 
आम आदमी  को मौलिकता का चश्मा लगाना  
मिथ्या की बेल पर यथार्थ को चढ़ाते जाना है।  

घर न घरवालों की परवाह 
विवेक की कोख में अहम को पालना है।  
महत्वाकांक्षा के धरातल पर 
पौध द्वेष की सींचते दर्शकों को लुभाते जाना है। 

उलझनों की खाई खोदते हुए 
गद्दी पर आधिपत्य बनाए रखना है। 
सफलता के वृक्ष लगाने के बहाने से 
वर्तमान को दफ़नाना भविष्य को छलते जाना है। 
बस यही खेल आज खेलते जाना है !

@अनीता सैनी 'दीप्ति'

शनिवार, 5 सितंबर 2020

चुप्पी की दीवार


आँधी को देखकर अक्सर मैं 
सहम-सी जाया करती थी 
धूल के कण आँखों में तकलीफ़ बहुत देते 
न चाहते  हुए भी वे आँखों में ही समा जाते 
समय का फेर ही था कि आँधी के बवंडर में छाए 
अँधरे में भी किताबें ही थामे रखती थी 
हँसने वाले हँसते बहुत थे
विचारों की उलझन शब्दों की कमी 
सदा ख़ामोश ही रहती 
तब और आज भी मेरी प्रीत पाहुन-सी थी 
दोस्ती के  चंद सिक्के भी थे मेरी मुठ्ठी में 
पहले दादा फिर दादी सास अंत में पापा की 
थामी थी अँगुली मैंने 
जाने अनजाने में हम बाप-बेटी 
अक्सर उम्मीदों की पोटली बदलने लगे 
कभी पापा मेरे शीश पर रखते 
कभी में पापा को थमा देती 
मैं उनका स्वाभिमान भी बनी  अभिमान भी 
दो रास्ते दो मंज़िलें एक साथ तय करने लगे 
संस्काररुपी गहने भी मिले  
उम्र से अधिक समझ के मोती भी मिले 
संघर्ष की बल्लरी पर सफलता के पुष्प भी खिले 
समय के इस मोड़ पर वह अँगुली 
आज स्थूल-सी लगी
ज़ुबाँ नहीं आँखें पुकारती-सी लगीं  
और मैंने चुप्पी की दीवार गढ़ी उसपर  
ज़िम्मेदारी की एक तस्वीर टाँग दी।

@अनीता सैनी'दीप्ति'


शुक्रवार, 4 सितंबर 2020

क्यों मौन है?


 मोती-सी बरसे बूँदें धरा के आँचल पर 
तब पात प्रीत के धोती है बरसात 
पल्लवित लताएँ चकित हैं अनजान-सी 
रश्मियाँ अनिल संग जोहती जब बाट है  
ऊँघते स्वप्न की समेटे दामन में सौग़ात 
पुकारती आवाज़ का कोलाहल क्यों मौन है?

धैर्य बादलों का टूटा या नभ से छूटा भार 
शनै:-शनै: तम का घटाओं ने गढ़ा आकार है  
जुगनुओं की बिखरी पाती पर शोक 
खिलते कमल के असुवन का पहने हार है 
गिरती गाज को देखकर मूँदे नयनों को 
चमक की मुस्कान पर आह्नान क्यों मौन है?

सीपी की कोख में विचलित मोती की वेदना
 हिम हिय पर तैरते श्यामल घन का बरसना 
 प्रभात कपोल पर भविष्य शिशु का सिसकना 
नक्षत्र बूँद का हरण मुकुल का मुरझाना 
स्वप्नशाला की शैया पर अट्हास का आहना  
निशा नींद के उच्छवास पर वर्तमान क्यों मौन है?

@अनीता सैनी 'दीप्ति'

रविवार, 30 अगस्त 2020

गुज़रे छह महीने



गुज़रे छह महीनों ने पी है अथाह पीड़ा 
 पिछले सौ साल की त्रासदी की।
पीली पड़ चुकी है छरहरी काया इनकी 
हर दिन की सिसकियाँ सजी हैं ज़ुबाँ पर।

तुम्हें देख एक बार फिर हर्षाएँगे ये दिन  
छिपाएँगे आँखों के कोर में खारा पानी।
कभी काजल तो कभी सुरमा लगाएँगे 
बिंदी बर्दास्त न करेगी तुम्हें हर बात बताएगी। 

इनकी ख़ामोशी में तलाशना शब्द तुम 
मोती की चमक नहीं सीपी की वेदना समझना तुम। 
छह महीने देखते ही देखते एक साल बनेगा 
पड़ता-उठता फिर दौड़ता आएगा यह वर्ष 
इसकी फ़रियाद सुनना तुम।

भविष्य बन मिलोगे यायावर की तरह तुम 
कुछ पल बैठोगे बग़ल में अनजान की तरह। 
ये दिन-महीने तुम्हें अपने ज़ख़्म दिखाएँगे
  मरहम लाने का बहाना बनाकर
 उन्मुक्त पवन की तरह बह जाओगे तुम। 

©अनीता सैनी 'दीप्ति'