समर्थक/Followers

शनिवार, 29 जून 2019

मैं कर्कश संसार में जीना चाहती थी

                   
                                                      
फैला ममता का दामन ,
धर रूप  स्नेह  का,
वात्सल्य भाव  से  बरसना,
संघर्ष  सजा ललाट पर ,
मैं कर्कश संसार  में  जीना चाहती थी |

करोगे  कब तक जीना दुश्वार, 
जो दोष नहीं था मेरा 
 करोगे  कब तक उससे  शृंगार,
 मर-मरकर जीने  की राह  चुन,
 मैं कर्कश  संसार में जीना चाहती थी |

जब-जब लगी चाहत से गले ज़िंदगी,
तब-तब अँकुरित हुई कुबुद्धि समाज में, 
गूँथी अनचाहे अपशब्दों की सतत शृंखला ,
कर कंठ पर धारण, मैं  कर्कश संसार में जीना चाहती थी |

भावों का विकार सहज सरल,
निर्मल मन को द्रवितकर कुंठा से किया मलिन,
जग ने कह मनोरोगी  किया तिरस्कार,
सब्र टूटा कब मेरा,प्रवाह उम्मीद लिये 
मैं कर्कश  संसार  में  जीना चाहती थी |

अंतरमन  में जग ने जलाया पल-पल ,
क्रोध से भरा अवमानना का दीप,
वक़्त ने  किया  गुमराह,
भाग्य  ने जकड़ी मोम-सी मासूम साँसें, 
मैं कर्कश  संसार में  जीना चाहती थी |

 न  बढ़ाया  मौत  ने  क़दम, 
किया अग्रसर  मेरे अपनों  ने, 
नैराश्य  की  पूड़ी  खिला  सानिध्य में, 
भावुक मन अबला का साँसों  से खेल गया, 
मैं  कर्कश  संसार  में  जीना चाहती थी |

                   - अनीता सैनी 



मंगलवार, 25 जून 2019

पश्चिमी पथ का कर परित्याग



हे ! मानव 
 पश्चिमी  पथ   का
  कर  परित्याग,
दिखावा  प्रगति  का 
वह  प्रलय  की  पुकार !

 हनन  मानवीय मूल्यों  का 
हारती इंसानियत,
हर तरफ़ हाहाकार
 उजड़ता हसरतों का बाज़ार |

तृष्णा के तेज़ से  बढ़े 
तन  की  तपिश 
देख तड़पता  अंतरमन !
घनघोर भँवर  में  उलझा  मानव 
 सुने  त्राहि-त्राहि  की  पुकार !

वर्तमान का  विनाशी चेहरा 
प्रतिपल  भविष्य पर  प्रहार, 
देख  कोयल  के कोमल  कंठ  करें   
 करुण  क्रंदन  की  बौछार |

 - अनीता सैनी 

गुरुवार, 20 जून 2019

" पीपल के पत्तों की पालकी "




समृद्धशील  संस्कृति,

 संस्कारों से सराबोर , 

सहनशीलता  की  पराकाष्ठा, 

समेटे  समय  का  दौर |


बंधुत्व   से   बँधी, 

बरगद  ने  सुना   बखान, 

पीपल  के  पत्तों  की  पालकी,

 मानव  को  मानवता  का  वरदान ,

  समय   के  कंधों   पर,   हो   सवार 

  करने   चली ,  दुनिया  का  उद्धार |


देवदूत  वे   दादा-दादी, 

 दिया   दामन   दायित्व    का,

बन  सितारे   नाना-नानी,

महकाया  आँगन  संस्कारों  का 


मन    मानव   का  मलिन   हुआ,

  महका   महत्व    मंसूबो   का, 

   दबा  द्वेष  उर  में , किया  क़त्ल सद्भावों का 

   दर्द  का  मरुस्थल   दिया    दहका |


सजी   संर्कीणता   सपनों   में,

सड़ने   लगे   सब  संस्कार  ,

जीवन   दुष्कर  हुआ,  जनमानस  का ,

घोला  परिवेश   में   विकार |

- अनीता सैनी 

शनिवार, 15 जून 2019

पितृत्व की छाँव

             
               
पिता  के  सान्निध्य   की  छाँव,
 पति  की  आँखों  में  तलाशती,
जिंदगी  के  सफ़र  में  कब,
 मोतियाबिन्द की  शिकार  बनी 
यादों  के  फ़टे  पन्नों  में  ढूंढने  लगी |

वक़्त  के  कटघरे   में  खड़ी, 
 हिम्मत  का  वृक्ष,  हृदय में लगाती ,
अतीत के  गलियारें  से  गुजरती,   
पितृत्व  की   छाँव   तलाशने   लगी |

अविकल  शब्दों  की  पल -पल पुकार,  
चिंतामग्न  टहलकदमी  पिता  की ,
 ढ़लती  ज़िंदगी, वक़्त का  अभाव,
जकड़ा   जिम्मेदारियों   ने  क़दम,
अब वो  आँखें  इंतजार  में  धसने लगी |


ख़ामोशी  में  सिमटे  खिलखिलाते  लम्हें ,
अनायास  ही  बातों  में  उलझते, 
अँकुरित    पितृ   स्नेह   के  बीज,  
  नम   आँखों   की   बौछार   से, 
 करूणा   भाव   में   बहने   लगी  |

          - अनीता सैनी 

गुरुवार, 13 जून 2019

पुरखे वक़्त को आईना दिखा गये



दिवास्वप्न की परछाई, 
पुरखे,  सूर्य  का भ्रम  बता गये, 
वक़्त को  शमशीर, कर्म को साथी,
क़दमों को राह  दिखा  गये |

मधुर वाणी,  मिथ्या  मन  की  ,
 शब्दों का झोल, समझा गये, 
जला स्वार्थ की सिगड़ी,पुकार पुण्य को, 
 पाखंड का चेहरा दिखा गये |

तसव्वुर तहख़ाने में छुपा, 
वास्तविकता का दामन, हाथों में थमा गये ,
देशप्रेम   का  जज़्बा,
जूनून की मशाला  जला गये |

ख़्वाब पानी के बुलबुले, 
सच  के  साथ चलना सिखा  गये, 
इज्ज़त  की  दो  रोटी ,
स्वाभिमान  की पगड़ी थमा  गये |

तलाश  सतरंगी जीवन की,
 तारों का प्रिय परिधान दे गये , 
फूल - सी खिली तमन्ना, 
भोर को अर्पण कर गये |

न तपे तन  तेज़ तन्हाइयों से, 
लेप चंदन का लगा गये , 
महकता रहे आँगन,  
पेड़ यादों का लगा गये |

- अनीता सैनी 

सोमवार, 10 जून 2019

ड्योढ़ी पर बैठी इंसानियत



दृश्य  में  दृश्य, 
ड्योढ़ी   पर   बैठी   इंसानियत, 
  मटमैले  रंगों का पहन  परिधान,
ग़ुम  हो  रहे  अस्तित्व  का  लिये दर्द,
पीपल  के  सूखे  पत्तों  सी   सूख  रही |

आँखों  से  टपकती, मनोभावों की  पीड़ा,
समय  के  हाथों  अंकुरित  
संकीर्णता का बीज, 
अंतर्मन से, 
हैवानियत  के  लिबास  में  लिपटा  इंसान, 
इंसानियत   अपनी   खो   रहा |

दरकिनार  कर  सुकून  की  चंद  साँसें,
पीट  रही  अभाव  का  ढ़िढोरा,
बन भाग्य  विधाता,
जीवन  से   लिपटी   किस्मत  का 
ज्ञाता  कहलाने   में  मग्न हो रहा |

साँसों   के   बहाव   में  बहती  पीड़ा 
पल - पल  जूझ   रही  ख़्वाहिशें, 
बनी  अंतर्वेदना, 
उपजा  हिंसक  रूप  मानव   मन  में,  
इंसानियत  का  कर  रहा  क़त्ल  सरेआम,  
तृष्णा का  पुतला  धरा  पर  पनपा,  यही  गाथा,
वक़्त,   प्रकृति  के  कण - कण  को  सुना  रहा |

- अनीता सैनी 

रविवार, 9 जून 2019

दृश्य अटारी बॉर्डर का



मूल्य   शाश्वत  जीवन   का,
इन  आँखों  ने आज  बताया,
अटारी   बॉर्डर  पर  देख  शौर्य  बहनों   का,  
गुरूर  से  धड़कता  सीना, 
देश   प्रेम  का  सच्चा  अर्थ  समझ   आया |


जज़्बा -ए -जूनून, देख  क़दमों  की ललकार,
स्मरण  रानी लक्ष्मी  बाई  का  हो आया,
रग-रग  में  दौड़ता  देश  प्रेम,  हाथों  में  उठी  तलवार, 
दृश्य  वह  रण  सा  आँखों   में   उभर  आया |


कण - कण  में   गूँज  शौर्य  की , 
साहस से सराबोर सरहद, नज़ारा राज पथ का  उभर आया, 
छ: फिट उठे  क़दम, क़दमों की ललकार, हाथ  के पँजे  में शिकार , 
दुश्मन  का  कलेजा  धराशाही  नज़र आया |


आँखों  में   तेज़,  दहाड़  शेर -ए -हिंद  की, 
बौखलाहट में पाकिस्तान , दौड़ता नज़र आया, 
सीमा  के  प्रखर  प्रहरी  सैनिकों  का  उत्साह,
आसमां  की  बुंलदियों  को  छूता  नज़र  आया |

- अनीता सैनी

शनिवार, 1 जून 2019

क़हर दिमाग़ ने ढा दिया



                                           
कृशकाय  पगडंडियों  पर  दौड़ते  गाँवों   को,  
 शहरों  की  सड़कें   निगल गयीं |

अपनेपन  की  ख़ुशबू   से  खिलखिलाती,  
गलियाँ  राह  शहर  की   भटक  गयीं|

 भूला    मिट्टी  की   ख़ुशबू ,
 शौहरत   की  महक दिल-ओ-दिमाग़  में  छा  गयीं  |

मासूम  दिल  पर  दिमाग़  ने  क़हर   ढा  दिया,  
छीन  पीपल  की  छाँव, फ़ुटपाथ  पर ज़िंदगी   सो  गयी |

 मालिकाना  हक़ का  रौब ,  मुस्कुराती  फ़सलें   छोड़ ,
बन  मज़दूर   मज़दूरी   को    मुहताज़, 
 वही   मेहनत   पगार  हाथों   में  थमा  गया |


कठघरे  में   जिंदगी, स्वाभिमान  की  पगड़ी  ले  गयी,  
दो  वक़्त  की  रोटी , नशे  का  व्यापारी  बना  गयी |


शब्दों   में   सुभाशीष,  हाथों  में   देश  का  भविष्य,   
बदली   शब्दों  की  लय,   लाचारी   सीने   से  लगा  गयी |


हुआ   घायल   मन ,  तन  ने   साथ   छोड़   दिया, 
नशे  ने   जकड़ा,    दीनता   हाथ   फैला   गयी |

सोई   मानवता  जाग  उठी,  धूम्रपान   से  तन  को  छुड़ा,  
इंसान   को   इंसानियत    का   पाठ   पढ़ा   गयी |

                      - अनीता सैनी