समर्थक/Followers

शनिवार, 30 मार्च 2019

समय धार पर चलता जीवन



   
                                                                                                                             
मोह  माया  में फंसा  जीवन, 
इस    की    यही   कहानी, 
सिसक   रहा    हृदय, 
नहीं    मिटती     बेईमानी |

सृजन  बीच  छिपी  पीड़ा, 
होठों   से   कैसे  मुस्काऊँ,  
रुंधे    कंठ   बुझे   मन के, 
कैसे    आवाज़     लगाऊँ |

झर  रहे  प्रीत  फूल  धरा  के,  
कैसी  हुई  बौछार  गगन से, 
मादकता में फिर उलझ गये,  
हार  गए  चंचल   चितवन  से |

तपन  मरु   के  सिसके  छाले, 
चितादीप-सा  जलता  जीवन, 
  हृदय   में   धधक   रही  ज्वाला, 
समय  धार  पर  चलता   जीवन |

छूट   रहीं    साँसें    तन की, 
क़ीमत जीवन की तब समझे, 
जब   तक  रहे  इस   दुनिया में, 
रहे   मोह   माया   में   उलझे |

- अनीता सैनी 

गुरुवार, 28 मार्च 2019

आँसू

                                                        
             लुढ़का   नयनों    से   यौवन, 
             बन   मधुवन    की   लाली,  
            मदिर   प्रेम   में   डूबा  मन, 
            नयन  बने  शरबत की प्याली |

            मानस   हृदय   की  वेदी  पर, 
            विराजित   करुण   स्वभाव, 
            सुख-दुःख  की सीमा बन  बैठे,  
             खोले  मन  के  कोमल  भाव |

            सजा  रही  थी  पलकों पर, 
             वह नीर गगन  में  छलका,  
           ऊषा की निर्मल किरणों-सा, 
           वह प्रेम  नयनों  में  झलका |

            बैठ  हृदय में, उलझ   रही, 
              मासूम     स्मृति   रेखा, 
             पल-पल झाँक  रही नयनों से, 
             विचलित    प्रीत  को  देखा |

            पीड़ा   नयनों   में  सूख  गयी, 
              जब उर में  पड़ा  था  सूखा,  
            घूम    रही   करुण   कटाक्ष, 
           जब  प्रेम  पराग   का  रुखा |

               -  अनीता सैनी 

मंगलवार, 26 मार्च 2019

बोल चिड़िया के

                                                     
न रूठूँगी  तुम  से  ऐ-ज़िंदगी, 
बन मधुमास  मिलेंगे   दोबारा, 
लौटेंगे   हसीं  ख़्वाब, नक्षत्र बन, 
चमकेगा सौभाग्य का सितारा |

आँखों   में  उमड़े  स्वप्न  गूँथूँ,  
दमकना ज़िंदगी  तुम दुल्हन बनके, 
अस्तित्त्व अपना जताने उठना, 
 झलकना  आँखों  से  अश्रु-तारे  बनके | 

हो न अनहोनी का अंदेशा, 
तुम निर्भीक तेज़ हृदय को  पिला  देना,  
अटल पाषाण-सा वक़्त का साथ, 
 ज़िंदगी  के  हाथों   में  थमा  देना |

न  गुज़रेगें    फिर इस राह से, 
एक  घूँट  मोहब्बत  का ज़िंदगी  को पिला देना, 
पथ  नहीं यह  जीवन का, 
  प्रीतदीप  राह में  जला  देना |

दर्द का जीवन में बहे  दरिया, 
 ऐसा संचार  साँसों  में  बहा  देना,  
छूट रही  ज़िंदगी , बन सैकत, 
कुछ पल का ठहराव दिला देना |

तड़प रही  मानवता   एक  घूँट   अमृत   पिला  देना,  
थामे वक़्त  की  अँगुली  चलना   सिखा  देना |

काँच के टुकड़ों-सा बिखर रहा मानव, 
साँसों  की अहमियत ज़िंदगी  तुम  बता देना, 
तिमिर में छुपाया  मुँह, 
रो  रहा  तेज़  तुम अश्रु  पोंछ  देना |

    -अनीता सैनी 

सोमवार, 18 मार्च 2019

दोहे (खड़ी बोली )

                                                   
देख  धरा  पर आवती,  प्रलय भरी-सी  छाँव |
अँधा  मानुष   है  बना ,  थके  हुए  है    पाँव ||


 द्वेष  बवंडर   उड़  रहा,  उगे   गधे    के   सींग |
होकर  भी  अभिमान  में , मनुज  मारता   डींग  ||


 देखा-देखी   बढ़  रही ,  बड़े   बेल  की    बात |
अपनों   को  ही  मिल  रही,  मनचाही  सौग़ात ||


आती  पश्चिम से हवा, मिटी   मनुज   की  आन  | 
दुनियाभर  को  सभ्यता,    पूरब   करता  दान ||


आँधी  भू  पर  उड़  रही,  टपक   रहा    है    ख़ून |
जीभ   बोलती    बोल   है,  कोरे   है   मज़मून ||



जोड़े  धन  की  गाठड़ी ,  काया  नोंचे    काक |
माया  मन  को   तोड़ती,  मानुष    खाये   ख़ाक ||

                        - अनीता सैनी 

शुक्रवार, 15 मार्च 2019

विरह


                                                  
होंठों  की  मुस्कान  से तुम, 
आँख  का  पानी  छुपाओगी, 
हृदय  की  पीड़ा, 
धड़कनों को न बताओगी, 
साँसों     में  जी  उठेगी  बेचैनी ,
तुम उसे  कैसे  बहलाओगी  ?

धड़कनों को  समझाने, लौट आऊँगा, 
मीठी मुस्कान से दिल जलाऊँगा  |

भाग्य बन  मैं  तेरा, 
भाग्यशाली  कह  बुलाऊँगा |

वेदना यूँ  किसी को,  सानिध्य से निहाल नहीं करती,  
ज़रुर   पुण्य   से   लिये तूने  फेरे |

आँसुओं से धोती  हो पद मेरे, 
  प्रबल  प्रेम संग बैठा  हूँ मैं  दामन  में   तेरे |

यूँ गोद में बिठा निहाल नहीं करती वेदना, 
समेटे  बैठे  हो हृदय में सागर, 
मुस्कुरा देती   हो  सवेरे |

नदी की धार-सी बहती वेदना,  
साँसों से कैसे रोक पाओगी ?
न समझाऊँगा तुझे  कि ,
यही  पुण्य  है  जीवन  का तेरे |

मैं जी रहा हूँ तुझमें, 
तुम  जीने  की  इच्छा तौल  रही, 
दौड़  रहा  हूँ  मैं  समय से तेज़,  
तुम सूखे पत्तों में तलाश रही जीवन मेरा |
     
                - अनीता सैनी 

मंगलवार, 12 मार्च 2019

विरह गीत

                                                          

प्रीत री  लौ जलाये  बैठी,  
धड़कन  चौखट लाँघ  गयी,  
धड़क रहो   हिवड़ो बैरी, 
हृदय    बेचैनी   डोल   रही |


रुठ   रही  है  ख़ुशीयाँ  पीवजी, 
  गौरी    हँसना   भूल  गयी, 
अब  पधारो  पिया   प्रदेश,  
गौरी   थारी  बोल   रही |


अब के फ़ागुन लौट आवो  तुम, 
झील-सी  अँखियाँ  रीत   गयी, 
ओढ़े   बैठी  प्रीत  री  चुनड़, 
हाथों   में   मेहँदी  घोल  रही |


बह  गया   काजल आँखों  का, 
दर्द   में   अंखियां   डूब   गयी  
सिसक  रहे  घर-द्वार  पीवजी 
  साँसें   धीरज  तोल  रही |

         - अनीता सैनी

सोमवार, 11 मार्च 2019

प्रीत रंग

                                                  

मुग्ध हुआ मन मीरा का,  किया एहसासों का शृंगार, 
होली के पावन पर्व पर ,नयन करे श्याम  का इंतज़ार |

हृदय अंकुरित प्रीत रंग , व्याकुल मन की पुकार, 
बदरी बन बरसे प्रीत रंग, हो श्याम रंगों की बौछार |

मचल उठा मन मीरा का, आया होली का त्योहार, 
श्याम  बिन  आँगन  सूना,  कैसे करें  रंगों से  प्यार |

छायी  फागुन रुत  सुहानी,  किया  दहलीज़ का शृंगार,  
   अश्रु  बन  लुढ़क  रहा,  श्याम   रंगों   में  प्यार |

                       - अनीता सैनी 

शनिवार, 9 मार्च 2019

ग़रीबी

                                             

            हवा  ही  ऐसी  चली ज़माने की, कि  बदनाम हो गयी,  
               अमीरी  बनी  सरताज़,  ग़रीबी  मोहताज़   हो  गयी |

            नशा  शोहरत का सर चढ़ गया  है  इस क़दर, 
           ग़रीबी की  हिमाक़त देखो यहाँ  सरेआम हो गयी |

             सदा  रौंदी   गई  कुचली गयी  अभावों के तले, 
            ग़रीबी मिटाने की कोशिशें  भी नाक़ाम हो गयीं |

            ऐसा भी न था कि ज़माना मिटा न सका मेरी हस्ती,  
             इत्तिफ़ाक़ ही ऐसा था,कुछ समा गयी मुझमें,
                           किसी को मैं निगल गयी  |

                                   - अनीता सैनी 
     

गुरुवार, 7 मार्च 2019

ख़ामोशी तलाशती है शब्द


                                         

कुछ कहना चाहती है ख़ामोशी, 
ढूँढ़ती हुई भटकती है दर-ब-दर, 
शब्द |
धड़कनों से, 
 आँखों में  झाँ कती  है, 
  जताती है  अस्तित्व, 
की वो भी  है, 
 शब्द |
जड़ता की ख़ामोशी में 
  सिसक रहे शब्द भी 
शब्द हैं |
दामन में सिमटी 
घर के  कोने से झाँकती 
 निःशब्द  ख़ामोशी 
शब्द है |
ख़ामोशी सँजो देती स्वप्न, 
स्वप्न ज़िंदगी, 
ज़िंदगी  शब्द, 
शब्दों में होती ख़्वाहिशें,   
ख़्वाहिशें बन जाती ज़िंदगी,  
ज़िदगी बुनती है, 
शब्द |
पर  यादें  ख़ामोश नहीं 
चीख़तीं  चिल्लातीं  हैं  
न जाने कितने शब्दों  का 
कोहराम है यादें |
वह ख़ामोशी की तरह रेंगती नहीं 
तड़पती नहीं,
 अपनी मौत मरती नहीं  
सिर्फ़   बस  जाती है 
दिल में |
ख़ामोशी शब्द ढूँढ़ती है 
आँखों में तलाशती है परिचय 
हवाओं में ढूँढ़ती 
शब्द |
यादें  झलक जाती है 
दिल से 
 नि:शब्द |

            -   अनीता सैनी 

सोमवार, 4 मार्च 2019

सत्य का डोलता अस्तित्त्व


                                      
     वक़्त के थपेड़ों से, 
    मन कुछ  डोल-सा गया, 
    बुनियाद पर किया विचार, 
    फिर आज को तौल-सा गया |

    ख़तरे  में  अस्तित्त्व,  
   छूट   रही   पहचान,  
    गर्दिश  चेहरे  पर, 
    खोखला हुआ इनाम |

    झूठ, हिंसा,  भारी  तन पर, 
    रहा,  सत्ता-शक्ति   का  हाथ, 
  राह    चुनी     प्रीत  की, 
   हुई    द्वेष    के   साथ |


    समय   के  सागर  में, 
  निष्ठा  और  आत्मविश्वास, 
   क़दमों  को  गढ़ाये   रखा, 
   साथ   अटूट   विश्वास |

        - अनीता सैनी 

रविवार, 3 मार्च 2019

क्षणिकाएँ

                                                                            
                                     ||प्रभात ||

                             प्रभात   की   निर्मल  छाया,  
                               निखरी  नीलाकाश  में, 
                             लिया  नव  ज्योति,  नव  जीवन,   
                            मुस्कुराये   स्वछंद   प्रभात    में, 
                           शशि  किरणें  प्रीत  में  पुलकित, 
                             प्रकृति   शरद   उच्छवास   में |                  

                                       ||साँझ ||

                               नीलाबर  की  संगिनी, 
                              चले   सिंदूरी    मंथर  चाल, 
                              सिंदूरी,  चंदन  का  समागम, 
                             ओढ़ा   प्रीत  रंग रेशम  जाल, 
                              सुदूर क्षितिज  पर  सुनहरी, 
                               किरणों  से पूछे   प्रिय  हाल |

                                       - अनीता सैनी 

शुक्रवार, 1 मार्च 2019

द्वेष बना अभिशाप



                       
                                    मोह में  मुग्ध सृष्टि, 
                                शशि संग  अनुराग अनूठा ,
                              हृदय  में  वात्सल्य  भाव उठा, 
                                 दहलीज़  का दामन डोल,  
                               शशि-किरणों का  किया शृंगार  |

                                        नाज़ुक हाथ, 
                             थामें  प्रीत  के  कोमल   तार, 
                             मुग्ध  भाव  से  बिखेर  रही, 
                                  मन  भावों  के तार |

                             प्रीत  रुप   शृंगार  किया, 
                             अधरों  पर मीठी मुस्कान, 
                             कल्पित  कृति   बोल  उठी,  
                             किया मन भावों का शृंगार   |

                                        नाम मानव दिया, 
                              स्नेह, संवेदना प्रवाह  किया, 
                             करुणा  रुप  धर  अँजुली  में, 
                             सोये  हृदय   पर  किया  सवार |

                                      शशि का तेज़, 
                               नीर नयन में तार दिया, 
                                पवन की पीर दबा  हृदय, 
                                प्राणों का  किया  संचार  |

                               द्वेष भाव का ओझल रंग, 
                                मानव मन पर सवार हुआ, 
                              किया  सुन्दर कृति का संहार, 
                               महक  रही प्रीत की बस्ती, 
                               अँगारों  में   दिया  तार   |

                               भूल गया  अस्तित्त्व  अपना,  
                              घटना को दिल में उतार लिया, 
                                मूक  द्वेष के  शब्द  गहरे, 
                                द्वेष  बना  अभिशाप मनु का ,
                                प्रीत  का  दामन हुआ तार-तार |

                                         -  अनीता सैनी