समर्थक/Followers

सोमवार, 4 मार्च 2019

सत्य का डोलता अस्तित्त्व


                                      
     वक़्त के थपेड़ों से, 
    मन कुछ  डोल-सा गया, 
    बुनियाद पर किया विचार, 
    फिर आज को तौल-सा गया |

    ख़तरे  में  अस्तित्त्व,  
   छूट   रही   पहचान,  
    गर्दिश  चेहरे  पर, 
    खोखला हुआ इनाम |

    झूठ, हिंसा,  भारी  तन पर, 
    रहा,  सत्ता-शक्ति   का  हाथ, 
  राह    चुनी     प्रीत  की, 
   हुई    द्वेष    के   साथ |


    समय   के  सागर  में, 
  निष्ठा  और  आत्मविश्वास, 
   क़दमों  को  गढ़ाये   रखा, 
   साथ   अटूट   विश्वास |

        - अनीता सैनी 

28 टिप्‍पणियां:

  1. ब्लॉग बुलेटिन टीम की और मेरी ओर से आप सब को महाशिवरात्रि पर बधाइयाँ और हार्दिक शुभकामनाएँ |


    ब्लॉग बुलेटिन की दिनांक 04/03/2019 की बुलेटिन, " महाशिवरात्रि की हार्दिक शुभकामनायें - ब्लॉग बुलेटिन “ , में आप की पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

    जवाब देंहटाएं

  2. समय के सागर में
    निष्ठा और आत्मविश्वास
    क़दमों को गढ़ाए रखा
    साथ अटूट विश्वास |
    सुंदर लेखन आदरणीया ।

    जवाब देंहटाएं
  3. हमेशा की तरह बहुत खूब ......स्नेह सखी

    जवाब देंहटाएं
  4. समय के सागर में
    निष्ठा और आत्मविश्वास क़दमों को गढ़ाए रखा
    साथ अटूट विश्वास |
    बहुत सुन्दर,सार्थक चिन्तनपरक रचना......

    जवाब देंहटाएं
  5. समय के सागर में
    निष्ठा और आत्मविश्वास
    क़दमों को गढ़ाए रखा
    साथ अटूट विश्वास |
    अप्रतिम सखी विशेष भाव लिये रचना।

    जवाब देंहटाएं
  6. समय के सागर में
    निष्ठा और आत्मविश्वास
    क़दमों को गढ़ाए रखा
    साथ अटूट विश्वास |
    अच्छी रचना...अंतिम पंक्तियाँ तो बहुत ही अच्छी लगीं.

    जवाब देंहटाएं
  7. विश्वास की डोर हाथ में रहना जरूरी है ... जीवन के लिए ...

    जवाब देंहटाएं
  8. जी ठिक कहा आदरणीय आप ने
    प्रणाम
    आभार
    सादर

    जवाब देंहटाएं