सोमवार, 31 दिसंबर 2018

नव वर्ष

 

                                         
सर्द  हवाएँ सिमटी
 पथ  पर  दीप  जला  रही
 उत्साह , उमंग ,  पुष्प  उम्मीद  के 
प्रण    गुलदस्ते  गूँथ रही। 

रिक्त   हुए   जीवन  के  संग 
 कर्म   टोकरी   टटोल  रही
उम्मीद  दीप   नयन   में   जला  
  प्रण    गुलदस्ते   गूँथ   रही। 

 नव  प्रभात  का  पुष्प   खिला  
 हृदय   में  मुस्कान  फैला  रहा 
समय  में     सिमटी   तृष्णा 
 प्रण    गुलदस्ते    गूँथ   रही। 

 जनमानस   की  थामे   अँगुली 
नव  वर्ष   राह   दिखा   रही 
फाल्गुन   के  अंतिम  पहर  में
प्रण    गुलदस्ते   गूँथ   रही। 

#अनीता सैनी  

मंगलवार, 25 दिसंबर 2018

व्यथा



                                                
    धरा  ने    धैर्य   रुप  धरा,
      सह    रही    असीम   पीड़ा ,
    मानव  का  मनमाना  राज्य ,
  निरकुंशता  की   नग्न  क्रीड़ा, 
         उत्पीड़न   राज्य   चहु ओर,  
         क्रूर   बन   बैठा   शूर, 
   दफ़्न   कोख   में, 
जला  रहे   काया  , 
 तड़पता मन,
 द्वेष की दावाग्नि,
 ध्वस्त हो  रहा अस्तित्त्व  , 
ह्रदय   में   अतृप्त   व्यथाएँ, 
        देख ! मानव  धरा  पर    बेटी   की   छाया। 

        पल -पल   अस्तित्त्व   जता  रहीं ,
 नारी   की   करुण   कथाएँ ,
      परिपाटी   से  किया   सरोबार, 
 मानव  मुख  मोड़,
     देह नारी  की  रहा  झकझोर,
     हृदय   के  दुःख  का   क्षोभ  त्यागकर, 
       नित्य   बढ़  रही  किस  ओर 
  धरा  निवेदित   नारी  से 
  " सहते   रहना,  कुछ  न  कहना 
        लौट  धरा पर,  फिर  नहीं   आना "

         # अनीता सैनी 


शुक्रवार, 21 दिसंबर 2018

वक़्त



                                      
  एक टक शून्य की ओर ताकती  निगाहें 
      साँझ-सी   ढल   रही   ज़िंदगी, 
     उत्सुकता  से  पूछ  रही  यही  सवाल, 
       कल   फिर   सूर्य   उदय  होगा, 
            इस   पथ   का   राही, 
    किसी  अनजानी   राहों  पर  होगा  ? 


            कभी  अपने   आपको, 

            कभी  वक़्त  को ताक  रही, 
            ज़हन  में  उठ  रहा  सवाल ,
            अंतरमन  में  मच   रहा  बवाल ,
         वक़्त   का  किया   मैंने   क्या  हाल  ?
ज़िंदगी  के  अंतिम  पड़ाव पर  स्वयं से  कर रही यही  सवाल।  


       लड़खड़ाते क़दम,  सँभलने का करता जतन,  

                 दिशाहीन  जा   रहा,
     मन में मायूसी  ,निगाहों  में  लाखों  सवाल,
         ख़ामोशी  के  लिबास में  अनायास , 
         मुझसे   रुठकर   जा  रहा,
           अपनाया   न   कभी  मैंने ,
       आज   ठुकराकर  मुझे  जा  रहा, 
    ख़ामोशियों   में   आवाज़   दिये  जा  रहा, 
                  कुछ  न   कहा !
        चंद   शब्द   गुनगुनाता  जा    रहा। 


     " वक़्त   का   वक़्त  से  रहा  ये  तक़ाज़ा

    थामे   रखा  जिसने   वक़्त   का   दामन
     वक़्त  रहते   वक़्त  पर  बना  वही   राजा
   आने  वाला  वक़्त  फिर  इतिहास  दोहरायेगा
   वर्तमान   को   भविष्य  का   आईना   दिखायेगा "


                         #अनीता सैनी 


गुरुवार, 20 दिसंबर 2018

मुस्कान अश्कों की


               
   दर्द - ए -ज़िंदगी   की  सौग़ात,   मिला  दर्द का  मक़ाम, 
    ग़मों  की  आड़  में   खिली,   अश्कों   की   मुस्कान। 

   मुहब्बत  के  लिबास  में,  दर्द -ए -ग़म   से   हुई   पहचान,
  ग़मों  का  सितम  क्या  सितम ,अश्कों  में  खिले  मुस्कान। 

 कुछ   ज़ख़्म    वक़्त   का,   वक़्त   का    रहा   गुमान,
    वक़्त   की   पैरवी   में,  खिली  अश्कों   की  मुस्कान। 

   ख़ामोश    ज़िंदगी ,  हाथ    में   दर्द     का   जाम,
 सिसक  रही   साँसें  सीने   में  अश्कों   की  मुस्कान। 

    ख़ता  और  ख़तेवार  कौन  ,वक़्त  को  खंगालता  मन ?
   सीने   में  दफ़न  दास्ताँ ,  नम  आँखों   की  मुस्कान। 

  # अनीता सैनी 

मंगलवार, 18 दिसंबर 2018

ख़ामोश होते रिश्ते


                                                   
 सिसक    रहा    सन्नाटा, 
ख़ामोशियों  की गुहार  यही , 
रिक्त   हो  रही   साँसों  का ,
 क्या  यही    हिसाब    दोगे ? 

  बेज़ुबान   शब्दों   को ,
 कब जुबान दोगे ? 
 जल रहे अंहकार में  रिश्ते   , 
 मानवता  की  ममता  क्या,  
यही   सिला    दोगे  ?

  ठिठुर  रहे  जज़्बात ,
सपनों  का    जला   अलाव , 
स्वार्थ   का   जामा  पहन  ,
 ऊष्ण   की  करे  पुकार, 
ठिठुर  रहे   ममत्त्व   को  क्या, 
 यूँ   हीं  ठुकरा  दोगे  ?

रजत   मेखला   की  कालिख ,
मन   में   मचाये  उत्पात, 
अंजानी  अँगुली   ढूंढ  रहा  मन ,
खुलवा  सकू   रिश्तों    का  बंद ,
ओझल-सी इन  राहों  में   क्या, 
 यूँ   ही   ठुकरा    दोगे ? 

उफान  आते  आदतन  से,  
रिश्तों    को  चखकर   देखा, 
व्यवहार  की  लवणता  परखे ,
 दीन  की  हालत  देख  क्या, 
 यूँ  ही  ठुकरा  तो  न   दोगे ? 

 © अनीता सैनी 

सोमवार, 17 दिसंबर 2018

समय समय की बात

  उस समय ...



                                  ठिठुरती   ठंड,  

                                  गर्मी  की  तपन , 
                              हर ऋतु ने आज़माया। 


                              हुनर  का बखान  क्या 

                           सभी  में   उत्तीर्ण   पाया  ?


                               मेहनत की कसौटी 

                                राह जीवन की  
                           ज़िंदगी ने  ख़ूब  रुलाया। 


                              दुःखमय  जीवन,

                               न आभास  हुआ 
                      सदियों  से , इससे  बतियाता  आया। 


                      पीपल  की छाँव में   बैठा  किसान, 

                           किस  उलझन  में  आया ? 



इस समय......     



                          सत्ता का झोल  समझ न  पाया, 
                                वो  तो  माई-बाप  ,
                  वहम का पिटारा पाल रखा, उसने खाई मात। 


                         उम्मीद की लौ  जलाना सीखी  , 

                              कलेजे से करते  बात। 


                      दिमाग़  का खेल  समझ न पाया, 

                           जज़्बातों  का   सरताज़। 


                        पीपल की छाँव में आज भी 

                              सजती चौपाल  ,
                           तीज-त्योहार   पर  बंटती, 
                              ख़ुशियों   की   सौगात। 


                           चोट   हृदय   पर  दी  जिसने , 

                               उसने  खायी  मात। 


                          बदला   माहौल  सत्ता का ,

                            उगल  रहा  यही  बात।  


                                  #अनीता सैनी 


शनिवार, 15 दिसंबर 2018

अदब-ए-जहाँ


                                                         
ज़िंदगी   ने  की  ज़िंदगी  से  वफ़ा,  
नाम  इश्क़ और मोहब्बत  कह गया, 
समा न  सका  जब   दिल   में,   
  अदब  से  बेवफ़ा  कह गया। 

सफ़र कुछ वक़्त का राह बदल गयी 
तन्हा  सफ़र  में  तन्हाइयों  का हो गया, 
सोख लिए अश्क़  धूप ज़िंदगी ने 
    बेदर्दी   बेवफ़ा  कह  गया। 

वक़्त  के  साथ  चला  राही  हमसफ़र बन  गया, 
ज़िंदगी  हसीं    महबूब  हमदम  बन गया , 
मिल  न   सकी   क़दमों   की  ताल,     
    बेअदवी  से   बेअदव   कह गया। 

   मक़ाम  ज़िंदगी  
  राह  में  मरघट  आ गया, 
 खोज  रहा  इज्ज -ओ -जहां ,  
वो खाली  हाथ आ गया, 
 इस जहां  का  दयानतदार , 
    बिन  इन्फाज   आ गया 
 मरघट में  बैठा अकेला, 
जहां  को अदब से देखता  रह  गया। 

   # अनीता सैनी 


शुक्रवार, 14 दिसंबर 2018

ऋतुराज शिशिर


                                                                                            
निशा   निश्छल   मुस्कुराये  प्रीत  से, 
विदा    हुई   जब   भोर   से। 


तन्मय   आँचल   फैलाये   प्रीत का , 
पवन  के   हल्के   झौकों    से। 


कोयल    ने   मीठी    कूक  भरी, 
जब   निशा   मिली   थी   भोर   से। 


ऊषा     स्नेह    में    डूब    गई, 
जब   बरसी   बदरी   धूर   की। 


 प्रीत   धरा    की   मुग्ध   हुई ,
कुसुमों   ने   ताज  सजाया   है। 


गूँज    रही   पायल   प्रीत   की , 
शिशिर    के   नंगे    पाँव   की। 


सिहर    उठा   जनमानस   भी ,
शिशिर    की   शीतल    छाँव   से। 

              #अनीता सैनी 

गुरुवार, 13 दिसंबर 2018

बेनक़ाब मन


   
ग़मों का  ज़लज़ला  ख़ूब  लिखा ,ख़ुशियों  का दरवाज़ा खटखटाते हैं,
 रूठने-मनाने  का  सिलसिला छोड़ ,कुछ    बड़प्पन    दिखाते   हैं।  
  

ग़मों  की  चारदीवारी  लगे मन को भारी , ख़ुशियों  को आग़ोश में भरते है ,

लौट  चले  फिर  बचपन में ,मिट्टी  के घरोंदे  मुस्कान सच्ची  ले  आते  हैं। 

 बहुत   हुआ  क़िस्मत  का  रोना,    मेहनत  की   रोटी  पकाते  हैं, 
 झूठ -मूठ के ठाठ -बाठ से सुकून  का जीवन,  मिलकर  सभी  बिताते हैं। 

  नक़ाब   पर  नक़ाब   ख़ूब   रखे ,  मन   को   बेनक़ाब   करते   हैं  

   ठिठुर     रही      धूप    को    फिर   से   दुल्हन   बनाते  हैं। 
  
   ग़मों    की    दावत   ठुकराते   , ख़ुशियों    के    चावल    पकाते  है,
 मोहब्बत  के   नग़मे   गुनगुनाते,    ग़मों  की  दास्ताँ   दफ़नाते  हैं।                                           
                                    


बुधवार, 12 दिसंबर 2018

शहादत को सलाम


                                                
                       क़दमों  से  गूँजे  कण -कण 
                         इठलाता  स्वाभिमान। 

                        सीने   में  धड़कन  बन 

                       धड़क  रहा   हिंदुस्तान। 

                         हवाओं  ने  गुनगुनाया 

                         शौर्य   का  गुणगान। 

                         सरहद  पर  दहाड़  रहा 

                          हिंद  का   नौजवान। 
                       
                      अंतिम साँस  तक  अटल रहा
                          देश   का    वीर   जवान। 

                         कारतूस  सजे    सीने  पर  

                          इकलौता  माँ  का   लाल। 

                          हिमालय  बैठा  देख रहा

                          लाडले  बेटे  का  कमाल।  
     
                            खड़ा शेर-सा  सीना  तान 
                            भारत  का  वीर   जवान।  

                                 वतन  से  मोहब्बत

                             ज़िंदगी   हिंद   पर  क़ुर्बान। 

                            सजा  मुकुट  शहादत  का ,
                              मुस्कुराये  हर  जवान। 

                         शेर -ए -हिंद  की  दहाड़  से

                            बौखलाया  पाकिस्तान।           

मंगलवार, 11 दिसंबर 2018

प्रतियोगिता का ठाठ


                                            
वक़्त   के   साथ  दौड़ 
 लगाती  ज़िंदगी  की 
 वक़्त   से  आगे 
 निकलने  की चाह,  
निगाहों    से   ओझल   
  होते   गंतव्य
की   ओर   बेसुध   
ज़िंदगी    का  दौड़ना ,
कभी    न   पूरी   होने  
 वाली  लालसा, 
के  उद्वेग  से   मन  
अपनों  ओर  सपनों, 
को   कुचलता  ऐसे
  गंतव्य   पर   मिला  
जहा   पश्चाताप   
उसकी राह  ताक रहा। 

  मासूमियत  से  सराबोर  

  खिलखिलाते   फूल 
 अभी  महके  भी  नहीं  कि     
 उन्हें   ज़िंदगी  का  कड़वा  सच    
 अनुभव  की  खोखली  छाप से  
मापन का सिलसिला  प्रारंभ  किया।

   नन्हे  क़दमों   ने   

    कुछ   डग  न भरे, 
  कि  उसे  ज़िंदगी   की  
    रेस  का घोड़ा 
   बना  मैदान  में  उतार   दिया। 

   उम्मीद  की  पोटली  

 उनके  शीश  पर  सवार ,
  ख़ुद  न  चलने  का  बहाना 
  उसे  दौड़ा    दिया। 

 अपनी    नाकामी   छिपा  

  रेस   पर  दाँव  लगा 
 ख़ुद  के  कंधों  का  वज़्न 
 मासूमों    पर  ढो  दिया। 

जिसने  धूप, छाँव  में  

   फ़र्क़   ही  न  किया, 
  उन्हें   ज़िंदगी  में  इनके   
  मायने बता  दिये। 

   किताबी-ज्ञान  को  शिक्षा 

   मासूमों की ज़िदगी  को उलझा 
  अनुभव  को दरकिनार किया। 

  कंधों  पर बढ़ता  वज़्न   

 ज़िंदगी  की दौड़ लगाते मासूम 
 यही  दास्तां  कह  रहे  
न जाने किस  सोच का अत्याचार सह रहे। 

      #अनीता सैनी 


रविवार, 9 दिसंबर 2018

शहादत को सलाम



ग़मों  से  तिलमिलाती  ज़िंदगियाँ , कभी  ग़मों  से  मिल  कर  देखिये

पिता  के  प्यार  से  महरुम  बच्चे , जवानों   के  परिवार  में  देखिये


मिट्टी  में  ख़ुशबू , हवाओं   में  अपनापन  तलाशकर  देखिये ,

 मुहब्बत  आज भी  पनपती , जवानों   से  मुहब्बत  करके  देखिये। 


मोहब्बत लुटाकर,  लुटा देते  ज़िंदगी, ज़माने में  ऐसे  मेहमान देखिय

ज़िंदा  रहते   हुए, फिर  कभी  न  मिलने  का  एहसास  देखिये। 


गुरुर  में   हिलोरे  मार  रहा  मन ,  क़दमों   का  जुनून   देखिये,

रग-रग  में    दौड़ता   देशप्रेम,   वर्दी  को  छूकर   देखिये। 


ठंड  की  ठिठुरन , गर्मी   की   तपन,  प्रकृति  का  ऐसा  रुप  देखिये,

कैसे होती वतन की हिफ़ाज़त जवानों की आँखों में झाँककर देखिये 


मुहब्बत   का  फ़लसफ़ा ,शहीद   की   तड़पती  रुह  से  पूछिये, 

आँखों  में   गुज़री   रात  , ज़िंदगी    का    हसींन   मंज़र   देखिये। 

   # अनीता सैनी