समर्थक/Followers

शनिवार, 3 नवंबर 2018

ख़्वाहिश - ए - ताबीर

                                          
                                              
                         

ख़्वाबों  की  नगरी, ख़ुशियों   की   बौछार ,
जहाँ   हो   ऐसा,  न  हो  ग़मों  का  किरदार |

आँगन   की   ख़ामोशी,   चौखट  की  पुकार , 
ना -मुराद इश्क़  करवाता रहा इंतज़ार |


ख़्वाहिशों   की    ताबीर   में   बसर   हुआ   हर   पहर ,
आँखों  में  तैरते  ख़्वाब  झलकते   दिल  के  पार |

फ़ौला  फ़ज़ा   में  प्यार ,   मौसम   भी   ख़ुशगवार, 
ज़िंदगी   में  रही  मायूसी, नसीब में  नहीं तुम्हारा प्यार |

नील   वियोग  में   फ़ज़ा ,   नीलाअंबर  भी   हारा ,
ताक    रही    टहनियाँ,   वादियों   ने    पुकारा |

                           -अनीता सैनी 

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें