सोमवार, 19 नवंबर 2018

दुआ बन जाती है माँ


                         
                                  
                    
                          सज्दे  में  झुका  शीश,
                          दुआ  बन  जाती  है माँ
                          ज़िंदगी   के  तमाम  ग़म, 
                          सीने  से लगा  भुला  देती माँ
                         चोट  का  मरहम,  दर्द  की  दवा,
                         सुबह की  गुनगुनी  धूप  है माँ
                         वक़्त-बे-वक़्त  हर  गुनाह  धो  देती, 
                         नाजुक़  चोट  पर  रो  देती  है  माँ
                         नाज़ुक  डोरी  से   रिश्तों   को  सिल  देती,
                        उन्हीं  रिश्तों  में  सिमट  जाती  है  माँ 

                                           -अनीता सैनी

6 टिप्‍पणियां:

  1. सादर नमस्कार,
    आपकी प्रविष्टि् की चर्चा रविवार ( 09-05-2021) को
    "माँ के आँचल में सदा, होती सुख की छाँव।। "(चर्चा अंक-4060)
    पर होगी। चर्चा में आप सादर आमंत्रित है.धन्यवाद

    "मीना भारद्वाज"

    जवाब देंहटाएं
  2. सुंदर प्रस्तुति

    जवाब देंहटाएं
  3. मातृ दिवस पर भावपूर्ण रचना

    जवाब देंहटाएं
  4. बहुत सुंदर ! माँ जिसका कोई पर्याय नहीं !!

    जवाब देंहटाएं
  5. बस माथा झुका हुआ है माँ के आगे ।

    जवाब देंहटाएं
  6. बहुत सुंदर रचना सखी

    जवाब देंहटाएं

anitasaini.poetry@gmail.com