Powered By Blogger

रविवार, 6 दिसंबर 2020

बहुत बुरा लगता है


अनदिखे में तुम्हारे होने का आभास

दिल को इतना भी बुरा नहीं लगता 

बुरा नहीं लगता इंतज़ार के दरमियाँ

पनपने वाले प्रेम को पोषित करना।


बुरा नहीं लगता शब्दों के सागर में 

भावनाओं के ज्वार-भाटे का उतार-चढ़ाव 

बुरा नहीं लगता पैरों को भिगोती लहर का 

किनारे पर आकर लौट जाना।


बुरा नहीं लगता उतावलेपन में झाँकती  

ज़माने की ऐंठन भरी उलाहना से 

कभी-कभी खटकता है समय का 

स्मृतियों के सिरहाने बैठ सहलाना।


बुरा नहीं लगता हवा की आहट से

विचलित धड़कनों को सुलाना 

परंतु बहुत बुरा लगता है तुम्हारे द्वारा 

पुकारे जाने की आवाज़ को अनसुना करना।


@अनीता सैनी 'दीप्ति' 

36 टिप्‍पणियां:

  1. आपकी लिखी रचना ब्लॉग "पांच लिंकों का आनन्द" सोमवार 07 दिसम्बर 2020 को साझा की गयी है.............. पाँच लिंकों का आनन्द पर आप भी आइएगा....धन्यवाद!

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. बहुत बहुत शुक्रिया आदरणीय दी पाँच लिंकों पर स्थान देने हेतु।
      सादर

      हटाएं
  2. सादर नमस्कार,
    आपकी प्रविष्टि् की चर्चा सोमवार ( 07-12-2020) को "वसुधा के अंचल पर" (चर्चा अंक- 3908) पर होगी। आप भी सादर आमंत्रित है।

    "मीना भारद्वाज"

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. बहुत बहुत शुक्रिया आदरणीय मीना दी चर्चामंच पर स्थान देने हेतु।
      सादर

      हटाएं
  3. बहुत बुरा लगता है तुम्हारे द्वारा
    पुकारे जाने की आवाज़ को अनसुना करना

    –सच...

    जवाब देंहटाएं
  4. बहुत सुंदर अभिव्यक्ति

    जवाब देंहटाएं
  5. बुरा नहीं लगता हवा की आहट से
    विचलित धड़कनों को सुलाना
    परंतु बहुत बुरा लगता है तुम्हारे द्वारा
    पुकारे जाने की आवाज़ को अनसुना करना...

    बहुत सुंदर हृदयस्पर्शी अभिव्यक्ति 🙏🌹🙏

    जवाब देंहटाएं
  6. बुरा नहीं लगता उतावलेपन में झाँकती

    ज़माने की ऐंठन भरी उलाहना से

    कभी-कभी खटकता है समय का

    स्मृतियों के सिरहाने बैठ सहलाना।
    ...।भावनाओं से ओतप्रोत सुंदर अभिव्यक्ति...।

    जवाब देंहटाएं
  7. वाहहहहहह बहूत सुन्दर

    जवाब देंहटाएं
  8. अनदिखे में तुम्हारे होने का आभास

    दिल को इतना भी बुरा नहीं लगता

    बुरा नहीं लगता इंतज़ार के दरमियाँ

    पनपने वाले प्रेम को पोषित करना। सभी पंक्तियाँ ख़ूबसूरत हैं - - एक सुन्दर प्रवाह है आपकी लेखन में, अद्वितीय मुग्धता।

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. बहुत बहुत शुक्रिया सर सारगर्भित प्रतिक्रिया हेतु।
      सादर

      हटाएं
  9. वाह!प्रिय अनीता ,सुंदर भावाभिव्यक्ति ।

    जवाब देंहटाएं
  10. मेरे ब्लॉग ग़ज़लयात्रा पर आपका स्वागत है। इसमें आप भी शामिल हैं-

    http://ghazalyatra.blogspot.com/2020/12/blog-post.html?m=1
    किसान | अन्नदाता | ग़ज़ल | शायरी
    ग़ज़लों के आईने में किसान
    सादर,
    - डॉ. वर्षा सिंह

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. बहुत बहुत शुक्रिया आदरणीय दी मैं अवश्य आऊँगी।
      सादर

      हटाएं
  11. बहुत खूब
    पाश की सुप्रसिद्ध कविता सबसे खतरनाक की शैली की कविता हालांकि इसका विषय प्रेम है

    जवाब देंहटाएं
  12. बहुत खूब
    पाश की सुप्रसिद्ध कविता सबसे खतरनाक की शैली की कविता हालांकि इसका विषय प्रेम है

    जवाब देंहटाएं
  13. बहुत खूब
    पाश की सुप्रसिद्ध कविता सबसे खतरनाक की शैली की कविता हालांकि इसका विषय प्रेम है

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. बहुत बहुत शुक्रिया सर मनोबल बढ़ाती प्रतिक्रिया हेतु।
      सादर

      हटाएं
  14. विचलित धड़कनों को सुलाना
    परंतु बहुत बुरा लगता है तुम्हारे द्वारा
    पुकारे जाने की आवाज़ को अनसुना करना।
    वाह!!!
    क्या बात.....
    बहुत ही सुन्दर...।

    जवाब देंहटाएं

anitasaini.poetry@gmail.com