शुक्रवार, 13 नवंबर 2020

सिर्फ़ और सिर्फ़ मेरे लिए


थक-हारकर
 जब सो जाती है पवन 
दीपक की हल्की-सी लौ में 
मिलने आतीं हैं 
बीते लम्हों की 
कुछ हर्षित परछाइयाँ 
चहल-पहल से दूर 
ख़ामोशी ओढ़े एक कोने में 
कुछ सुनतीं हैंं  
कुछ सुनातीं हैं 
स्वप्न सजाए थाल में 
 बीते पलों के कुछ मुक्तक 
लिए आतीं हैं गूँथने
  हरी दूब-सा खूबसूरत हार 
चाँदनी रात में
 बरसती धुँध छानती हैं 
कुछ भूली-बिसरी स्मृतियाँ 
तुषार बूँदों में भीगे 
मिलने आ ही जाते हैं 
कुछ अविस्मरणीय दृश्य 
हाथों पर धरे अपने 
 अनमोल उपहार 
सिर्फ़ और सिर्फ़ मेरे लिए।

@अनीता सैनी 'दीप्ति'

28 टिप्‍पणियां:

  1. आपकी लिखी रचना "सांध्य दैनिक मुखरित मौन में" आज शुक्रवार 13
    नवंबर 2020 को साझा की गई है.... "सांध्य दैनिक मखरित मौन में" पर आप भी आइएगा....धन्यवाद!

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. बहुत बहुत शुक्रिया आदरणीय यशोदा दी सांध्य दैनिक पर स्थान देने हेतु।

      हटाएं
  2. उत्तर
    1. बहुत बहुत शुक्रिया अनुज मनोबल बढ़ाने हेतु।

      हटाएं
  3. बहुत सुन्दर और भावपूर्ण।
    रूप-चतुर्दशी और धन्वन्तरि जयन्ती की हार्दिक शुभकामनाएँ।

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. सादर आभार आदरणीय सर मनोबल बढ़ाने हेतु।
      सादर

      हटाएं
  4. तुषार बूँदों में भीगे
    मिलने आ जाते हैं
    कुछ अविस्मरणीय दृश्य
    हाथों पर धरे
    अपने अनमोल उपहार
    सिर्फ़ और सिर्फ़ मेरे लिए।
    वाह !!!
    अत्यंत सुन्दर मखमली अहसास भरा सृजन । तस्वीर ने सृजन को और भी सुन्दर और प्रभावपूर्ण बना दिया है ।

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. सादर आभार आदरणीय मीना दी आपकी प्रतिक्रिया से सृजन को सार्थकता मिली।मनोबल बढ़ाने हेतु दिल से आभार।
      सादर

      हटाएं
  5. उत्तर
    1. हार्दिक आभार सर मनोबल बढ़ाने हेतु।
      सादर

      हटाएं
  6. बहुत भावपूर्ण सरस रचना |

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. सादर आभार आदरणीय सर मनोबल बढ़ाने हेतु।
      सादर

      हटाएं
  7. उत्तर
    1. हार्दिक आभार आदरणीय दी मनोबल बढ़ाने हेतु।
      सादर

      हटाएं
  8. बरसती धुँध छानती हैं कुछ भूली बिसरी स्मृतियाँ...।भावपूर्ण पंक्तियाँ..।दीपोत्सव की मंगलकामना..।

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. दिल से आभार आदरणीय दी आभारी हूँ मनोबल बढ़ाने हेतु।
      सादर

      हटाएं
  9. अत्यंत सुन्दर रचना

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. सादर आभार आदरणीय सर मनोबल बढ़ाने हेतु।
      सादर

      हटाएं
  10. आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा कल रविवार (15-11-2020) को   "गोवर्धन पूजा करो"   (चर्चा अंक- 3886 )     पर भी होगी। 
    -- 
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है। 
    --   
    दीपावली से जुड़े पञ्च पर्वों की
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।  
    --
    सादर...! 
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक' 
    --

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. सादर आभार आदरणीय सर चर्चामंच पर स्थान देने हेतु।
      सादर

      हटाएं
  11. कुछ अविस्मरणीय दृश्य
    हाथों पर धरे
    अपने अनमोल उपहार
    सिर्फ़ और सिर्फ़ मेरे लिए। अनुपम रचना सजल अनुभूतियों से भरी। दीपोत्सव की असंख्य शुभकामनाएं ।

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. आभारी हूँ सर मनोबल बढ़ाने हेतु। आपकी प्रतिक्रिया संबल है मेरा आशीर्वाद बनाए रखे।
      सादर

      हटाएं
  12. वाह
    बेहद खूबसूरत रचना
    आपको भी सपरिवार दीपावली की हार्दिक शुभकामनाएं🌹🍁

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. आभारी हूँ सर मनोबल बढ़ाने हेतु।आशीर्वाद बनाए रखे।
      सादर

      हटाएं
  13. दिल को छूती सुंदर रचना।

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. आभारी हूँ ज्योति बहन मनोबल बढ़ाने हेतु।
      सादर

      हटाएं
  14. तुषार बूँदों में भीगे
    मिलने आ जाते हैं
    कुछ अविस्मरणीय दृश्य
    हाथों पर धरे
    अपने अनमोल उपहार
    सिर्फ़ और सिर्फ़ मेरे लिए
    बहुत ही सुन्दर भावपूर्ण मधुर स्मृतियां
    वाह!!!
    लाजवाब।

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. आभारी हूँ आदरणीय दी मनोबल बढ़ाने हेतु।
      सादर

      हटाएं

anitasaini.poetry@gmail.com